Follow us on
Monday, August 20, 2018
Chandigarh

प्रसिद्ध अभिनेता शशि कपूर का 79 साल की उम्र में निधन

December 05, 2017 06:43 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - खास मुस्कान के लिए अपने फैन्स के बीच जगह बनाने वाले शशि कपूर का सोमवार को 79 साल की उम्र में निधन हो गया। वह काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। बॉलीवुड के पितामह पृथ्वीराज कपूर के सबसे छोटे बेटे शशि कपूर राज कपूर और शम्मी कपूर के सबसे छोटे भाई थे। यह भी महज संजोग की है कि अपनी पहली फिल्म त्रिशूल में शशि कपूर के साथ काम करने वाली चंडीगढ़ की कुड़ी पूनम ढिल्लों रविवार को चंडीगढ़ में थीं और एक मल्टीमीडिया प्रेजेंटेशन के जरिए टैगोर थिएटर में बैठे दर्शकों को यह बताया था कि पहली ही फिल्म में किस तरह से उन्हें शशि कपूर ने एक जोरदार थप्पड़ जड़ दिया था। यह किस्सा ‘त्रिशूल’ फिल्म से ही जुड़ा है। 1978 में यह फिल्म आई थी। फिल्म में अमिताभ बच्चन और शशि कपूर थे। उनके साथ पूनम ढिल्लों भी थीं और वह इसमें दोनों कलाकारों की बहन बनी थीं।

यश चोपड़ा की फिल्म त्रिशूल के एक सीन में शशि कपूर ने पूनम ढिल्लों तो थपपड़ मारना था। पहली फिल्म में थपपड़ खाने के सीन को लेकर वह बुरी तरह से घबराई हुई थीं। उनकी घबराहट को देखकर शशि कपूर ने पूनम ढिल्लों से कहा था कि तुम्हें शायद फिल्मों में मारे जाने वाले थप्पड़ का अंदाजा नहीं है, इसलिए वह उन्हें असली में थप्पड़ मारेंगे। इससे सीन भी अच्छा होगा और उनके चेहरे के भाव भी अच्छे आएंगे। पूनम ढिल्लों इसके लिए तैयार हो गईं। जैसे ही फिल्म के निर्देशक यश चोपड़ा ने कट बोला, शशि कपूर ने पूनम ढिल्लों को जोर का थप्पड़ मार दिया। चोपड़ा ने इस सीन को ओके बोल दिया। लेकिन पूनम ढिल्लों को उम्मीद नहीं थी कि शशि कपूर उन्हें इतना जोरदार थप्पड़ मारेंगे। इस पूरे घटनाक्रम से पूनम घबरा सी गई थीं। कुछ देर बाद शशि कपूर को अपनी इस गल्ती का अहसास भी हुआ और उन्होंने पूनम से माफी भी मांगी थी।

मैं तो डॉक्टर बनना चाहती थी: पूनम ढिल्लों

पूनम ढिल्लों ने कहा कि वह डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन किस्मत उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में ले गई। उनकी बहन और भाई दोनों डॉक्टर हैं। कानपुर में जन्मी ढिल्लों ने बताया कि उनकी प्रारंभिक शिक्षा चंडीगढ़ के कार्मल कान्वेंट स्कूल में हुई है। ग्रेजुएशन करते हुए उन्होंने खेल खेल में फेमिना मिस इंडिया के लिए आवेदन भर दिया। तब वह सेक्टर-11 के गवर्नमेंट कालेज फॉर गर्ल्स में पढ़ती थीं।

पेरेंट्स को बिना बताए आडिशन देने दिल्ली चलीं गई और उनका चयन भी हो गया। 1977 में वह फेमिना मिस इंडिया चुनी गईं। इसी दौरान उनकी फोटो यश चोपड़ा के हाथ लग गई और उन्होंने पूनम ढिल्लों को त्रिशूल फिल्म के लिए साइन कर दिया। उस समय वह मात्र 16 साल की थीं। ढिल्लों ने कहा कि इस तरह से वह फिल्म इंडस्ट्री में पहुंच गईं और डॉक्टर बनने की इच्छा मन में ही रह गई।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
विश्व फोटोग्राफी दिवस पर फोटो वॉक आयोजित
टैगोर में 23 से होगा थिएटर फेस्टिवल, मंच पर दिखेंगे बॉलीवुड के सितारे
नीरजा भनोट के जीवन पर भाई ने लिखी किताब, पुरानी यादों को किया साझा
आज सिटी फॉरेस्ट में होगा पहली बर्ड वॉक का आयोजन
जब अटल जी ने नमिता के साथ केसी थिएटर में देखी थी त्रिशूल
जब वाजपेयी ने सिख महिलाओं को हेलमेट पहनने से छूट दिलाकर बनाया था अपना मुरीद
पीयू में वाजयेपी के लिए बना था स्पेशल टॉयलेट, पर नहीं हो पाया था इस्तेमाल
प्रशासक ने परेड ग्राऊंड में फहराया तिरंगा, गिनाईं उपलब्धियां
पंचतत्व में विलीन हुए टंडन, राजनाथ सिंह पहुंचे श्रद्धांजलि देने
कल चंडीगढ़ में होगा टंडन का अंतिम संस्कार, राज भवन में एट होम रद हुआ