Follow us on
Monday, July 16, 2018
BREAKING NEWS
किसानों के लिए घड़ियाली आंसू बहाने वालों से पूछें कि सिंचाई परियोजनाएं अधूरी क्यों छोड़ीं - मोदीआज से मिलेगी चंडीगढ़ से कोलकाता के लिए सीधी फ्लाइटरैस्टोरैंट और फास्ट फूड काउंटर एफ.एस.एस.ए.आई. के तय मानकों के अनुसार खाद्य तेल का प्रयोग करेंधोनी की फिनिशिंग पर बार-बार सवाल उठाना दुर्भाग्यपूर्ण - कोहलीपुतिन से अहम सम्मेलन के लिए फिनलैंड पहुंचे अमेरिकी राष्ट्रपतिसांप्रदायिक हिंसा और पीट पीट कर जान लेने की घटना पर प्रधानमंत्री से जवाब मांगेंगे वाम दलभारत, पाक अगले माह रूस में आतंकवाद रोधी एससीओ अभ्यास में हिस्सा लेंगेशहर से दूर जन्मदिन मनाएंगी कटरीना कैफ
Politics

बैलेट पेपर से भाजपा दोबारा मतदान करा ले असलियत आ जायेगी सामने - मायावती

December 05, 2017 06:48 AM

लखनऊ - बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने नगर निकाय चुनाव में महापौर पद के लिये हुये चुनाव में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के माध्यम से धांधली किये जाने का आरोप लगाते हुये कहा कि भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) बैलेट पेपर से दोबारा मतदान करा ले तो उसकी असलियत सामने आ जायेगी।

मायावती ने आज यहां जारी बयान में कहा कि भाजपा की जीत में ईवीएम में की धांधली से नही हुई तो अलीगढ़ तथा मेरठ समेत सभी 16 महापौर की सीटों पर बैलेट पेपर से मतदान कराकर लें। इससे उन्हें अपनी पार्टी की असलियत के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कथित विजन का भी पता चल जायेगा। नगर पालिका तथा नगर पंचायत की तरह ही महापौर के पदों पर भी प्रदेश की जनता उन्हें बुरी तरह से हरायेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में कहा था कि बसपा अध्यक्ष को ईवीएम से चुनाव में भरोसा नहीं है तो मेरठ और अलीगढ़ में विजयी महापौरों से इस्तीफा दिला दें। वहाँ पर बैलेट पेपर से दोबारा चुनाव कराया जायेगा। इस पर मायावती ने कहा कि यह चोरी और ऊपर से सीनाजोरी की बदतर मिसाल है।

उन्होंने कहा कि वास्तव में वर्ष 2014 के लोकसभा तथा वर्ष 2017 के राज्य विधानसभा चुनाव में ईवीएम के माध्यम से जीत हासिल की थी। केन्द्र तथा उत्तर प्रदेश में बहुमत की सरकार बना ली। इन दोनों ही चुनाव में भाजपा को वैसा जनसमर्थन कतई नहीं था जैसा कि चुनाव परिणाम में दिख रहा था। प्रदेश में इस बार महापौर का चुनाव भी ईवीएम से कराया गया। धांधली करके 16 में से 14 सीट जीत ली गयी। अलीगढ़ तथा मेरठ में बसपा जीती। वहां ज्यादा गड़बड़ी करने पर चोरी साफ तौर पर पकड़े जाने की आशंका थी जिससे भाजपा की और भी ज्यादा फजीहत हो सकती थी।

मायावती ने कहा कि इतना ही नहीं सरकारी मशीनरी का जबर्दस्त दुरूपयोग करके बसपा के प्रत्याशी को खासकर सहारनपुर, आगरा तथा झांसी में हराया गया है। लखनऊ में भी चुनाव विभिन्न कारणों से स्वतंत्र तथा निष्पक्ष नहीं रहा है।

Have something to say? Post your comment