Follow us on
Monday, July 16, 2018
BREAKING NEWS
किसानों के लिए घड़ियाली आंसू बहाने वालों से पूछें कि सिंचाई परियोजनाएं अधूरी क्यों छोड़ीं - मोदीआज से मिलेगी चंडीगढ़ से कोलकाता के लिए सीधी फ्लाइटरैस्टोरैंट और फास्ट फूड काउंटर एफ.एस.एस.ए.आई. के तय मानकों के अनुसार खाद्य तेल का प्रयोग करेंधोनी की फिनिशिंग पर बार-बार सवाल उठाना दुर्भाग्यपूर्ण - कोहलीपुतिन से अहम सम्मेलन के लिए फिनलैंड पहुंचे अमेरिकी राष्ट्रपतिसांप्रदायिक हिंसा और पीट पीट कर जान लेने की घटना पर प्रधानमंत्री से जवाब मांगेंगे वाम दलभारत, पाक अगले माह रूस में आतंकवाद रोधी एससीओ अभ्यास में हिस्सा लेंगेशहर से दूर जन्मदिन मनाएंगी कटरीना कैफ
Sports

पुजारा से मिली लम्बी पारियां खेलने की प्रेरणा - कोहली

December 05, 2017 06:58 AM

नई दिल्ली - भारतीय कप्तान विराट कोहली का कहना है कि साथी क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा की प्रेरणा से ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में लम्बी पारियां खेलना सीखी है। कोहली ने कहा कि उनके साथी पुजारा ने उन्हें बड़े शतक जडऩे के लिए प्रेरित किया और उन्होंने उन्हें देखकर ही लंबे समय तक बल्लेबाजी करना सीखा।

कोहली ने कहा कि यह शानदार लगता है। यह हमेशा मेरे दिमाग में रहता था कि मैं बड़ा शतक लगाऊं, मैंने आपको आपके कॅरियर में ऐसा करते हुए देखा है और आपसे सीखा भी है कि आप कैसे लंबे समय तक ध्यान लगाए रखते हो। उन्होंने कहा कि हम सभी ने उसकी (पुजारा) की लंबी पारियों से सीख ली है, उसका ध्यान लगाने का स्तर और उसकी लंबे समय तक बल्लेबाजी करने की इच्छा। इसलिए मैं भी इससे प्रेरित हुआ कि टीम के लिए जहां तक संभव हो, लंबे समय तक बल्लेबाजी करते रहो।

कोहली ने कहा कि अब मैं सिर्फ यही सोच सकता हूं कि मैं टीम के लिए कितना अधिक खेल सकता हूं और तब आप वो थकान महसूस नहीं करते और हालात के अनुरूप खेलते रहते हो। कोहली केवल 29 वर्ष के हैं, वह खुद को खेल के महान खिलाडिय़ों में से एक में शामिल कर चुके हैं। रविवार को उन्होंने कप्तान के रूप में छह दोहरे शतक जडक़र ब्रायन लारा को पीछे छोड़ दिया।

कोहली ने बीसीसीआई डाट टीवी पर पुजारा से बात करते हुए कहा कि मेरा पसंदीदा प्रारूप निश्चित रूप से टेस्ट क्रिकेट है, हम प्रत्येक कोण से यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि इसे सबसे अहम प्रारूप होना चाहिए, क्योंकि बतौर बल्लेबाज या बतौर गेंदबाज भी, हम जानते हैं कि टेस्ट मैचों में रन जुटाना कितना संतोषजनक होता है, विशेषकर जब हालात मुश्किल हों।

उन्होंने साथ ही कहा कि आपको दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया में परिस्थितियों से जूझना होता है। इस प्रारूप में वनडे और टी-20 प्रारूप की तुलना में संतुष्टि सबसे ज्यादा होती है, साथ ही भावनात्मक रूप से भी। जब पूरा स्टेडियम भरा होता है और आप एक करीबी मैच जीतते हो तो आपका मनोबल काफी ऊंचा हो जाता है।

Have something to say? Post your comment
 
More Sports News
धोनी की फिनिशिंग पर बार-बार सवाल उठाना दुर्भाग्यपूर्ण - कोहली
भारतीय जूनियर महिला हाकी टीम ने आयरलैंड को 4-1 से हराया
कुलदीप को इंग्लैंड के खिलाफ पहला टेस्ट खेलने की उम्मीद
बीसीसीआई को आरटीआई अधिनियम के तहत क्यो नहीं लाया जाये - सीआईसी
वनडे श्रृंखला में भारत का पलड़ा भारी, चौथे नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं कोहली
अरोठे ने खिलाड़ियों के विद्रोह के बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच का पद छोड़ा
सिंधू, श्रीकांत की नजरें थाईलैंड ओपन खिताब जीतने पर
राष्ट्रीय मुक्केबाजी पर्यवेक्षक अखिल कुमार ने एनआईएस में कोचिंग कोर्स में दाखिला लिया
बेल्जियम फुटबाल की सुनहरी पीढी ने छोड़ी अपनी छाप
टी-20: इंग्लैंड को रौंदकर आज लगातार छठी सीरीज जीतने उतरेगी विराट ब्रिगेड