Follow us on
Wednesday, December 13, 2017
Chandigarh

हरमोहन धवन के घर पर मिलेंगे यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा

December 06, 2017 07:33 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - मोदी सरकार की किसान विरोधी नीतियों और आर्थिक फैसलों का खुलकर विरोध करने वाले भाजपा नेता यशवंत सिन्हातथा भाजपा की नीतियों पर करारे तंज कसने वाले असंतुष्ट भाजपा नेता शत्रुघ्न सिन्हा की 8 दिसंबर को चंडीगढ़ में पूर्व सांसद व भाजपा के वरिष्ठ नेता हरमोहन धवन के घर होने वाली बैठक पर भाजपा के स्थानीय नेताओं के साथ साथ देश भर के कई नेताओं की नजर भी है। माना जा रहा है कि यह तिगड़ी कोई घोषणा कर सकती है। तीनों नेताओं में समानता यह है कि तीनों ही पार्टी में हो रही अपेक्षा को लेकर नाराज हैं। उनकी यह नाराजगी अब किस तरह से बाहर निकलेगी इसको लेकर अलग अलग कयास लगाए जा रहे हैं। तीन असंतुष्टों की मुलाकात नए समीकरण के रास्ते बना सकती है।

जहां तक पूर्व केंद्रीय मंत्री हरमोहन धवन का सवाल है, वह चंडीगढ़ भाजपा अध्यक्ष संजय टंडन की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ेकर चुके हैं।  वह यह भी कह चुके हैं कि चंडीगढ़ भाजपा में गंदी राजनीति हो रही है तथा अपने स्वार्थ के चलते पार्टी की फजीहत की जा रही है। यशवंत सिन्हा ने पिछले महीने गुजरात दौरे पर नोटबंदी और जीएसटी पर तीखे तंज कसते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ मोर्चा खोला था। वहीं शत्रुघ्न सिन्हा गुजरात में पार्टी के प्रचार के तरीकों से नाराज है।

क्यों चुना गया चंडीगढ़

दरअसल, यशवंत सिन्हा और हरमोहन धवन का 30 साल पुराना नाता है। वर्ष 1981 में धवन के जेल भरो आंदोलन के दौरान यशवंत उनका हाल-चाल पूछने आए थे तो उन्हें भी गिरफ्तार कर पटियाला जेल भेज दिया गया था। शत्रुघ्न सिन्हा और हरमोहन धवन भी कई सालों से एक दूसरे को जानते हैं। वर्ष 1989 में शत्रुघ्न सिन्हा हरमोहन धवन के लिए प्रचार करने आए थे और परेड ग्राउंड में उनके समर्थन में जनसभा को संबोधित किया था। तीनों नेताओं ने चंडीगढ़ का चयन इसलिए किया क्योंकि यह शहर राजनीति का केंद्र है और किसी समय में नरेंद्र मोदी इस शहर में लंबे समय तक रहे थे। चंद्रशेखर सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे हरमोहन धवन पिछले लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे। उन्हें उस समय टिकट की पूरी उम्मीद भी थी लेकिन पार्टी ने चंडीगढ़ भाजपा की अंदरुनी उठापटक के बीच किरण खेर को टिकट दिया था। धवन ने किरण खेर की जीत सुनिश्चित करने के लिए पूरे प्रयास भी किए थे। चंडीगढ़ की राजनीति में धवन की अपनी पहचान है।

शत्रुघ्न सिन्हा ने किया था यशवंत का समर्थन

यशवंत सिन्हा ने कुछ माह पहले मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर सवाल खड़ा करते हुए एक लेख लिखा था। सिन्हा के इस लेख के बाद भाजपा के कई दिग्गज नेताओं ने उनपर चौतरफा हमला बोल दिया था। इस लेख पर बवाल मच गया था। लेकिन, शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट करके यशवंत सिन्हा का समर्थन किया था। उन्होंने लिखा कि यशवंत सिन्हा एक सच्चे नेता है,जिन्होंने खुद को सफल वित्त मंत्री भी साबित किया है।

शत्रुघ्न ने कहा था कि वह उनके इस बयान को समर्थन करते हैं। साथ ही आशा करते हैं कि जो लोग भी पार्टी और देशहित के बारे में सोचते हैं वह सिन्हा के बयान पर विचार जरूर करेंगे।

Have something to say? Post your comment