Follow us on
Saturday, November 17, 2018
Business

नीतिगत दरों में कटौती न होने से उद्योग जगत निराश

December 07, 2017 06:49 AM

नई दिल्ली - उद्योग जगत ने आज भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरों के मोर्चे पर यथास्थिति कायम रखने पर निराशा जताई। केंद्रीय बैंक ने कहा कि घरेलू मांग को फिर खड़ा करने की जरूरत है और साथ ही निवेश को भी पूंजी की कम लागत के जरिये प्रोत्साहित करने की जरूरत है।

भारतीय उद्योग परिसंघ सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा, हमें उम्मीद है कि आगे चलकर रिजर्व बैंक अपने तटस्थ रुख को नरम करते हुए ब्याज दरों में कटौती करेगा जिससे घरेलू मांग बढ़ेगी। इससे व्यापक आधार पर निवेश गतिविधियां बढ़ेंगी, जो अभी तक इतनी तेजी से आगे नहीं बढ़ पाई हैं।

उन्होंने कहा कि ब्याज दरों में कटौती से यह संकेत जाता कि राजकोषीय और मौद्रिक नीतियां वृद्धि को प्रोत्साहन के लिए साथ-साथ काम कर रही हैं। उद्योग मंडल एसोचैम के अध्यक्ष संदीप जाजोदिया ने कहा कि मौद्रिक नीति समिति ने मुद्रास्फीति को ध्यान में रखा है। साथ ही उन्होंने कहा कि देश में इस समय वृद्धि की चिंताओं को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता क्योंकि यहां पूंजी की लागत अभी भी काफी ऊंची है।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
चीनी पर सब्सिडी को लेकर भारत के खिलाफ डब्ल्यूटीओ पहुंचा ऑस्ट्रेलिया
स्वर्ण आभूषणों के लिए हॉलमार्क शीघ्र ही अनिवार्य करने पर हो रहा विचार - पासवान
सहकारिता आंदोलन को मजबूती देने को सरकार प्रतिबद्ध - कृषिमंत्री
गंभीर व्यक्तिगत कदाचार के आरोपों के बाद फ्लिपकार्ट समूह के सीईओ बिन्नी बंसल का इस्तीफा
एशिया में कृषि बीज के प्रमुख केंद्र के रूप में उभर रहा है भारत - रिपोर्ट
वृहद आंकड़ों, वैश्विक कारकों से तय होगी शेयर बाजार की दिशा
भारती एयरटेल कर्ज का दबाव कम करने के लिये 1.5 अरब डॉलर के ऋण पत्र खरीदेगी
बैंकों में सुधार के संकेत, लेकिन बुनियादी आधार अभी भी कमजोर - रिपोर्ट
नोटबंदी से औपचारिक अर्थव्यवस्था का विस्तार हुआ, कर आधार बढ़ा - जेटली
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक चढ़ा, निफ्टी 10,550 अंक के पार