Follow us on
Saturday, October 20, 2018
Himachal

बर्फ की सफेद चादर देखने उमड़ने लगे सैलानी

December 14, 2017 07:44 AM

शिमला - पहाड़ों पर बर्फ पड़ने की खबर के बाद मैदानी इलाकों से सैलानियों ने हिमाचल के पर्यटन स्थलों की ओर रुख करना शुरू कर दिया है। सूबे के मनाली और डल्हौजी पर्यटन स्थलों पर सैलानियों का सैलाब उमड़ने लगा है। बेशक इस बार पर्यटन नगरी शिमला और इसके आसपास क्षेत्र पर बर्फबारी नहीं हुई हो पर ऊपरी शिमला के नारकंडा व खड़ापत्थर क्षेत्र में बर्फ ने सफेद चादर ओढ़ ली है। ताजा बर्फबारी से होटल व्यवसाय से जुड़े लोगों के चेहरों पर रौनक लौट आई है। आखिर लंबे इंतजार के बाद पर्यटकों को बर्फ देखने की उम्मीद पूरी हो गई है।

बर्फबारी की खबर मिलने के बाद राज्यों के होटलों में एडवांस बुकिंग तेज हो गई है। मौसम साफ होने के साथ ही राज्य के पर्यटन स्थलों पर पर्यटकों की आमद एकाएक बढ़ जाएगी। बीते मंगलवार को हिमाचल के ऊंचाई वाले हिस्सों पर सीजन का पहला हिमपात हुआ है। मनाली, डल्हौजी पर्यटन स्थल के अलावा किन्नौर में अच्छी बर्फ गिरी है। इसके बाद मनाली व डल्हौजी के होटलों की ऑक्यूपैंसी 70 फीसद तक पहुंच गई है। अगले तीन दिनों तक इन पर्यटन स्थलों पर सैलानियों का हजूम उमड़ने की उम्मीद है। हिमपात होने के बाद मनाली, डल्हौजी व किन्नौर के होटल सैलानियों से पैक होने लगे हैं।

हालांकि इस सीजन के दौरान शिमला में बर्फबारी नहीं हुई है। इससे पर्यटकों को मायूसी हाथ लगी है। शिमला के साथ लगते कुफरी व फागू पर्यटन स्थलों पर इस बार हिमपात नहीं हुआ है। यहां बर्फ देखने की आस में आए पर्यटक मायूस होकर लौट रहे हैं। कुफरी व फागू पर्यटन स्थल पर बुधवार को कुछ पर्यटक बर्फ गिरने की उम्मीद में पहुंचे हैं। पर उन्हें यहां निराशा ही हाथ लगी है।

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News
राज्यपाल ने किया अन्तर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरे का शुभारम्भ
मेगा निवेशक सम्मेलन से हिमाचल की बनेगी निवेश मित्र छवि - मुख्यमंत्री
धर्मशाला में आयोजित किया जाएगा मेगा निवेशक सम्मेलन - मुख्यमंत्री
पांगी क्षेत्र को हर मौसम कनेक्टिविटी के लिए केन्द्र से उठाएंगे चिनी सुरंग का मामला - मुख्यमंत्री
शिमला शहर को जल्द मिलेगी तीस नई इलेक्ट्रिक बसें - गोविन्द सिंह ठाकुर
सरकार राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल के तहत तीन कम्पनियां स्थापित करेगी - मुख्यमंत्री
हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य मानक देश के अनेक राज्यों से बेहतरः मुख्यमंत्री
प्राकृतिक खेती अपनाने से बदल सकती है देश की तकदीर-राज्यपाल
मुख्यमंत्री ने जंजैहली क्षेत्र में 55 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की रखी आधारशिला
राज्यपाल ने वैज्ञानिकों से प्राकृतिक खेती पर सघन अनुसंधान करने के दिए निर्देश