Follow us on
Friday, October 19, 2018
Politics

ए राजा ने करुणानिधि को लिखा पत्र, देश में फेसबुक लाने का लिया श्रेय

December 23, 2017 08:10 AM

देश की सियासत को झकझोर देने वाले टूजी घोटाले के आरोपों से बरी होने के बाद पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा ने अपने राजनैतिक गुरु को पत्र लिखा है। जिसमें वो काफी भावुक हो गए। ए राजा ने शुक्रवार (22 दिसंबर) को द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) सुप्रीमो करुणानिधि को पत्र लिखकर कहा कि आपने हमेशा मेरा बचाव किया है। पत्र में राजा ने लिखा है, "आप हमारे रक्षक रहे हैं और मैं इस ऐतिहासिक फैसले को आपके चरणों में समर्पित करता हूं। आपने इस समय अंतराल में हमेशा मेरा बचाव किया है और एक ढाल बनकर हमेशा हमारे साथ खड़े रहे हैं।" राजा ने उन आशंकाओं के बारे में भी लिखा कि किसने डीएमके नेताओं को बदनाम करने के लिए यह षडयंत्र रचा है।

ए राजा ने करुणानिधि को लिखे पत्र में डीएमके नेताओं को बदनाम करने पर भी खुल कर लिखा है। उनका मानना है कि "जिस किसी ने भी हमारी छवि को धूमिल और बर्बाद करने की असफल कोशिश की है, उसे थोड़े समय के लिए भले ही छोटी सफलता मिल गई हो मगर वह कभी भी पूरी तरह से कामयाब नहीं हो सकता है।" राजा ने लिखा है कि जिस नेता ने इस देश में तकनीकि क्रांति लाई, लोगों के जीने का अंदाज बदल दिया, उसे ही जेल भेज दिया गया। उन्होंने लिखा, "हमने आईटी सेक्टर में क्रांति लाई, फेसबुक, ट्विटर, व्हाटसअप जैसी तकनीकि सेवाएं लोगों को मुहैया कराईं लेकिन इसे गलत ठहराकर हमें जेल भेज दिया गया। इन क्रांति और इसके फायदों पर किसी की नजर नहीं गई। यह केवल इसी देश में हो सकता है।"

Have something to say? Post your comment