Follow us on
Saturday, October 20, 2018
Haryana

गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश उत्सव के पटना साहिब में आयोजित हुआ समापन समारोह

December 26, 2017 05:50 AM

चण्डीगढ़ - गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश उत्सव के पटना साहिब में आयोजित समापन सुकराना समारोह में हरियाणा सरकार की ओर से मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रुप में पहुंचे हरियाणा पर्यटन निगम के चेयरमैन जगदीश चोपड़ा, महिला विकास निगम की अध्यक्षा रेणु शर्मा, हरियाणा माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष गुरदेव सिंह राही, विधायक बख्शीश सिंह विर्क, गुरविंद्र सिंह तथा सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के उप निदेशक सतीश मेहरा को तख्त श्री हरमंदिर जी पटना साहिब के श्री सिंह साहब श्री इकबाल सिंह ने शिरोपा भेंट कर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर श्री इकबाल सिंह ने अपने संबोधन में सर्वप्रथम हरियाणा सरकार का नाम लेकर धन्यवाद व आभार प्रकट किया और कहा कि प्रदेश सरकार की ओर से हरियाणा में पूरे वर्ष गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश उत्सव को मनाया गया जिसका शुभारंभ करनाल में किया गया व समापन समारोह यमुनानगर के जगाधरी में आयोजित किया गया, जिसमें लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे।

उन्होंने हरियाणा सरकार का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार की ओर से भव्य कार्यक्रमों के साथ साथ दो विशेष रेलगाडिय़ां श्रद्धालुओं के लिए निशुल्क भेजी है तथा सरकार की ओर से ही इन श्रद्धालुओं को आने जाने के समय खाने पीने, चिकित्सा तथा सुरक्षा व्यवस्था का उचित प्रबंध तथा श्रद्धालुओं को पटना साहिब में भेज कर सराहनीय कार्य किया है इसके लिए हरियाणा सरकार बधाई की पात्र हैं। उन्होंने यह कामना करते हुए कहा कि अन्य राज्यों की सरकारें भी हरियाणा सरकार की तरह इसकी अनुपालना करें।

इस अवसर पर हरियाणा पर्यटन निगम के अध्यक्ष श्री जगदीश चोपड़ा ने संबोधित करते हुए कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश उत्सव के करनाल में आयोजित शुभारंभ व यमुनानगर के जगाधरी में आयोजित समापन समारोह में प्रदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने शिरकत की। उन्होंने कहा कि अंबाला व सिरसा से प्रदेश सरकार द्वारा भेजी गई विशेष रेलगाडिय़ां अपने अपने स्टेशनों से पटना के लिए रवाना हुई तो रास्ते में पडऩे वाले सभी स्टेशनों पर इन रेलगाडिय़ों का श्रद्धालुओं व कार्यकर्ताओं द्वारा उत्साह व श्रद्धा के साथ भव्य स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के प्रति लोगों में एक उत्साह का माहौल है। श्री चोपड़ा ने कहा कि एक महान वीर, सैन्य कौशल में निपुण और आदर्श व्यक्तित्व वाले शख्स के रूप में इतिहास हमेशा गुरु गोबिंद सिंह जी को याद रखेगा। गुरु गोबिंद सिंह को ज्ञान, सैन्य क्षमता और दूरदृष्टि का सम्मिश्रण माना जाता है। उन्होंने कहा कि श्री गुरु गोबिंद सिंह 10वें गुरु, संत सिपाही, योद्धा, सरबंसदानी और कवि थे। श्री गुरु गोबिंद सिंह अपने पिता श्री तेग बहादुर के उत्तराधिकारी बने और 9 वर्ष की आयु में सिक्खों के गुरु बने। सिक्ख धर्म के लिए उनका उल्लेखनीय योगदान था। गुरु गोबिंद सिंह जी ने 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की। उनके पांच प्यारे सिक्खों का हमेशा मार्ग दर्शन करते हैं और सिक्ख धर्म की स्थापना में उनका योगदान उल्लेखनीय था। उन्होंने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह अपने पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए मुग्ल शासक औरंगजेब से कश्मीरी पंडितों व हिन्दू धर्म की रक्षा की। गुरु गोबिंद सिंह ने बचपन में ही अनेक भाषाएं सीखी जिसमें संस्कृत, उर्दु, हिंदी, ब्रज, गुरमुखी और फारसी शामिल है। उन्होंने योद्धा बनने के लिए मार्शल ऑर्ट भी सीखा।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
कर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही - ओमनारायण
एसआईएमएस पर सभी स्कूलों के शिक्षक-छात्रों का डाटा तेजी से अपलोड करें - मुख्यमंत्री
इनेलो का सत्यनाश होना तय-अशोक तंवर
हरियाणा में 22 साल बाद हुए छात्र संघ चुनाव, अधिकतर पार्टियों ने किया बहिष्कार
परिवहन कर्मी अपने काम पर वापस आ जाए – धनपत सिंह
हत्या के मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा
सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्टैच्यू ऑफ यूनिटी स्मारक बनने से देश में राष्ट्रीय अखंडता का संदेश जाएगा
सरकार ने प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा व उत्थान के लिए अनेक कार्य किए - मनोहर लाल
मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री 15 अक्टूबर को होनहार विद्यार्थियों को सम्मानित करेंगे
खट्टर ने जींद जिले को दी 13 विकास परियोजनाएं