Follow us on
Tuesday, January 23, 2018
Himachal

मंत्रिमंडल में किसे देखना चाहोगे- सीएम जयराम

December 26, 2017 06:08 AM

शिमला - हिमाचल प्रदेश के नए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोमवार को एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकतओं में प्रदेश का विकास सबसे पहले होगा। उनकी ये कोशिश रहेगी कि वह सबकी उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। जयराम ने कहा कि हम आने वाले दिनों में हिमाचल प्रदेश से वीआईपी कल्चर को खत्म करेंगे। उन्होंने प्रदेश की जनता से अपील करते हुए कहा कि हिमाचल के विकास के लिए अगर उनके पास कोई सुझाव हैं तो वह उन्हें सरकार को जरूर बताएं।

जयराम ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस राज के दौरान कानून व्यवस्था बेहद खराब हालत में थ, हम कानून व्यवस्था को फिर से दुरुस्त करेंगे। अपने नए मंत्रिमंडल के लिए बारे में बताते हुए जयराम ने कहा कि हमें अपनी कैबिनेट में अनुभव और युवा चेहरे दोनों की जरूरत है। बता दें कि जयराम अपने मंत्रियों के लिए 27 दिसंबर को ऐतिहासिक रिज मैदान में शपथ लेंगे। इस मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद रहेंगे।

गौर हो कि चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल के चुनाव हारने के बाद जयराम ठाकुर का नाम ही सबसे आगे चल रहा था। हालांकि केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा के नाम की भी चर्चाएं थीं, लेकिन जयराम ठाकुर बाजी मार ले गए। केंद्रीय पर्यवेक्षकों के तौर पर निर्मला सीतारमण और नरेंद्र तोमर की मौजूदगी में नए नेता का चुनाव हुआ। अपने नाम पर मुहर लगने के बाद 52 साल के जयराम ठाकुर ने कहा कि वो हिमाचल के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। जयराम मंडी के एक किसान परिवार से आते हैं.

उन्होंने चंडीगढ़ की पंजाब यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई की और यूनिवर्सिटी के दिनों में ही राजनीति में कदम रखने का फैसला किया। छात्र जीवन के दौरान जयराम ठाकुर एबीवीपी के समर्पित कार्यकर्ता थे और वह संघ के करीबी माने जाते हैं। संगठन से जुड़े रहे मृदुभाषी और सरल स्वभाव के धनी जयराम ठाकुर ने 28 वर्ष की उम्र में पहली बार 1993 में चाचिओट सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा था. वह 800 वोटों के अंतर से पहला चुनाव हार गए थे, लेकिन बीजेपी नेतृत्व का ध्यान अपनी तरफ खींचने में कामयाब रहे।

इसके बाद 1998 में ठाकुर ने इसी सीट से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। इसके बाद मंडी जिले की इस चाचिओट (2010 में परिसीमन के बाद सेराज नाम दिया गया) को अपना गढ़ बना लिया और यहां से लगातार पांच बार जीतने का रिकॉर्ड बनाया।

वोटबैंक और अपने समर्थकों का आधार बढ़ाने की उनकी क्षमता ही थी कि 2007 में हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया। जयराम ठाकुर के प्रदेश अध्यक्ष रहते पार्टी ने यह चुनाव लड़ा था। जयराम ठाकुर के नेतृत्व में पार्टी पहली बार अपने दम पर इस पहाड़ी राज्य में सत्ता में आई और प्रेम कुमार धूमल मुख्यमंत्री बने।

ठाकुर ने 2010 से 2012 तक धूमल सरकार में ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री के तौर पर काम किया। हालांकि इस बार विधानसभा चुनावों में धूमल की अप्रत्याशित हार ने प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी का रास्ता खोल दिया और जेपी नड्डा समेत कई अन्य बड़े नेताओं के नामों के चर्चा में होने के बावजूद ठाकुर स्वाभाविक पसंद के तौर पर उभरे। हिमाचल प्रदेश के दूसरे सबसे बड़े जिले मंडी से जयराम ठाकुर पहले विधायक होंगे, जो मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं. वह हिमाचल प्रदेश के 14वें मुख्यमंत्री होंगे।

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News