Follow us on
Monday, July 16, 2018
BREAKING NEWS
किसानों के लिए घड़ियाली आंसू बहाने वालों से पूछें कि सिंचाई परियोजनाएं अधूरी क्यों छोड़ीं - मोदीआज से मिलेगी चंडीगढ़ से कोलकाता के लिए सीधी फ्लाइटरैस्टोरैंट और फास्ट फूड काउंटर एफ.एस.एस.ए.आई. के तय मानकों के अनुसार खाद्य तेल का प्रयोग करेंधोनी की फिनिशिंग पर बार-बार सवाल उठाना दुर्भाग्यपूर्ण - कोहलीपुतिन से अहम सम्मेलन के लिए फिनलैंड पहुंचे अमेरिकी राष्ट्रपतिसांप्रदायिक हिंसा और पीट पीट कर जान लेने की घटना पर प्रधानमंत्री से जवाब मांगेंगे वाम दलभारत, पाक अगले माह रूस में आतंकवाद रोधी एससीओ अभ्यास में हिस्सा लेंगेशहर से दूर जन्मदिन मनाएंगी कटरीना कैफ
Chandigarh

पीजीआई स्टाफ ड्यूटी के वक्त नहीं कर सकेगा सोशन मीडिया का इस्तेमाल

December 28, 2017 07:33 AM

चंडीगढ़ (विजय राणा) - पीजीआई प्रबंधन ने पीजीआई के फैकेल्टी स्टाफ और अन्य कर्मचारियों को लिए वर्किंग आवर्स में किसी भी तरह के सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया है। सूत्रों के अनुसार पीजीआई के प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा बीते महिनों में कई बार वर्किंग ऑवर्स में कर्मचारियों को  फेसबुक, व्हाट्सएप्प, इंस्टाग्राम पर व्यस्त देखा गया था। इसी को लेकर पीजीआई ने संस्थान के सभी कर्मियों पर काम के वक्त किसी भी सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया है। इसके पीछे तर्क दिया जा रहा है कि सोशल मीडिया का इस्तेमाल काम को इफैक्ट कर रहा है। इस वजह से कर्मी अपने वर्किंग आवर्स का आधे से ज्यादा वक्त इन साइट्स पर लगा रहे हैं।

अगर आदेशों की किसी भी तरह उल्लंघना की जाती है तो कर्मी पर सख्त कार्रवाई भी होगी।  विभाग की माने तो कई यूनियन कर्मी और दूसरे कई विभागों का स्टाफ अपनी निजी फायदे के लिए इन एप्स पर जानकारी अपलोड कर रहे थे जो न सिर्फ संस्थान के खिलाफ है बल्कि रूल 1964 के भी खिलाफ है।

पीजीआई आने वाले मरीजों की अक्सर शिकायत रहती है कि डाक्टर्स को दिखाना हो या किसी विभाग में कोई अन्य काम करवाना हो, कर्मी मरीज से ज्यादा अपने फोन पर व्यस्त रहता है जिसके कारण मरीजों या उसके परिजनों को घंटों-घंटों इंतजार करना पड़ता है। न सिर्फ प्रशासन बल्कि डाक्टर्स पर भी ड्यटी के वक्त अपने फोन पर व्यस्त रहना आम बात है।

कर्मियों पर काम करने के लगते रहे हैं आरोप

पीजीआई प्रशासन की माने तो संस्थान की बहुत ही निजी जानकारी भी पिछले कई वक्त से इन सोशल एप्पस के जरिए बाहर लीक हो रही हैं। इसमें न सिर्फ छोटे पदों पर तैनात कर्मी हैं ब्लकि कई सीनियर्स भी इसमें शामिल हैं। सूत्रों की माने तो पिछले कई महीनों में ऐसे कई घटनाएं हो चुकी हैं जिसके कारण प्रशासन को यह फैसला लेना पड़ा है।

Have something to say? Post your comment