Follow us on
Friday, April 20, 2018
Politics

लोकसभा में अरुण जेटली ने कहा- 2016-17 कम हुई देश की आर्थिक प्रगति

December 30, 2017 08:58 AM

नई दिल्ली - वित्तीय वर्ष 2016-17 के दौरान देश की आर्थिक प्रगति धीमी हुई है। यह बात शुक्रवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कही है। सरकार की ओर से कहा गया है कि साथ ही सकल घरेलू उत्पाद 2015-16 में 8 प्रतिशत से घटकर अगले वर्ष 7.1 प्रतिशत हो जाएगा। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि धीमा आर्थिक विकास, उद्योग, और सेवा क्षेत्रों में कम वृद्धि को देखते हुए संरचनात्मक, बाह्य, वित्तीय और मौद्रिक कारकों सहित कई कारकों के कारण है। उन्होंने लोकसभा में कहा कि 2016 में वैश्विक आर्थिक विकास की निम्न दर, जीडीपी अनुपात में सकल फिक्स्ड निवेश में कमी के साथ, कॉरपोरेट क्षेत्र की बैलेंस शीटों पर बल दिया, उद्योग क्षेत्र में कम ऋण वृद्धि के लिए 2016-17 में कम वृद्धि दर के कुछ कारण थे। 2016-17 में धीमी वृद्धि उद्योग और सेवा क्षेत्र में कम वृद्धि को दर्शाती है।

उन्होंने प्रश्नकाल के दौरान कहा, 'देश की आर्थिक वृद्धि संरचनात्मक, बाहरी, राजकोषीय और मौद्रिक कारकों सहित कई कारकों पर निर्भर करती है।' केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय से नवीनतम अनुमानों के मुताबिक 2014-15, 2015-16 और 2016-17 में लगातार कीमतों पर कुल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) क्रमश: 7.5 फीसदी, 8.0 फीसदी और 7.1 फीसदी के बीच रहे। लगातार बाजार मूल्य पर जीडीपी में क्रमशः क्रमशः 1 (पहला क्वार्टर) और तिमाही 2 (दूसरा क्वार्टर) में क्रमश: 5.7 प्रतिशत और 6.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

जेटली ने दावा किया कि आईएमएफ के अनुसार मंदी के बावजूद, भारत 2016 में दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था और 2017 में दूसरी सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है। उन्होंने कहा कि सरकार ने अर्थव्यवस्था के विकास को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न पहल की है, जिनमें विनिर्माण, उत्पादन और परिवहन के लिए ठोस उपाय, साथ ही साथ अन्य शहरी और ग्रामीण बुनियादी ढांचे, विदेशी प्रत्यक्ष निवेश नीति में व्यापक सुधार और विशेष कपड़ा उद्योग के लिए पैकेज शामिल है।

मंत्री ने कहा कि सरकार ने 2017-18 बजट में विकास को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न उपायों की घोषणा भी की थी जिसमें बुनियादी ढांचे के विकास को बढ़ावा देने के लिए किफायती आवास के लिए बुनियादी ढांचे की स्थिति, राजमार्ग निर्माण के लिए उच्च आवंटन और तटीय कनेक्टिविटी पर ध्यान केंद्रित किया गया था।

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
राहुल गांधी ने की शरद पवार से मुलाकात
भगवा आतंकवाद की शब्दावली पर राहुल गांधी माफी मांगे - शाह
सोनिया और राहुल हिंदुओं को बदनाम करने के लिए माफी मांगें - भाजपा
भारत एक है, भारतीय एक हैं - भागवत
जम्मू कश्मीर कांग्रेस अध्यक्ष को हटाएं राहुल - जावड़ेकर
अंबेडकर की विरासत का क्षरण कर रही है भाजपा, दिखावटी प्रेम दिखा रहे हैं प्रधानमंत्री - कांग्रेस
सिद्धू के कंधे दुख को सहने के लिए काफी मजबूत हैं - नवजोत सिंह सिद्धू
संसद में विपक्ष का सामना नहीं कर पाई सरकार, नौटंकी है बीजेपी का उपवास - कमलनाथ
भाजपा लोकतंत्र के लिए खतरा राष्ट्रहित में रोकना जरूरी - अखिलेश यादव
योगी सरकार कांग्रेस विधायक के साथ कर रही ज्यादती - राज बब्बर