Follow us on
Saturday, October 20, 2018
Haryana

हरियाणा की पहली महिला रेलवे लोको पायलेट की प्रसव के दौरान मौत

January 03, 2018 07:36 AM

अम्बाला - अंबाला मंडल एवं हरियाणा की पहली महिला रेलवे लोको पायलेट -ट्रेन ड्राइवर रजनी की प्रसव के दौरान अंबाला शहर के सिविल अस्पताल में मौत हो गई. रजनी ने सोमवार रात करीब 1 बजे नॉर्मल डिलीवरी से एक बेटी को जन्म दिया. उसके कुछ देर बाद ही उसकी तबीयत काफी खराब हो गई. मेटरनिटी वार्ड से उसे ट्रामा सेंटर की ओर ले जाते समय उसकी मौत हो गई.

रजनी के पति शिवशक्ति का कहना है कि यहां पर्याप्त साधन न होने के कारण जिस समय रजनी को ट्रॉमा सेंटर की ओर ले जा रहा था तो दो महिलाएं हाथ में ऑक्सीजन सिलेंडर लिए हुए स्ट्रेचर को धकेलते हुए ले जा रही थी. इस दौरान कई बार ऑक्सीजन पाईप भी निकल गया और शिव शक्ति अपनी पत्नी के ऑक्सीजन पाईप को बार-बार लगाता रहा. लेकिन रजनी की तबीयत और अधिक बिगड़ गई और इसके बाद रजनी ने दम तोड़ दिया.

मिली जानकारी के अनुसार रजनी को 29 दिसंबर को सिविल अस्पताल में दाखिल कराया गया था. डॉक्टरों ने उसकी हालत को देखते हुए उसे सिजेरियन डिलीवरी कराने को कहा था, लेकिन महिला ने कहा था कि वह अभी इंतजार करेंगे. 1 जनवरी की रात करीब 1 बजे रजनी ने नॉर्मल डिलीवरी से एक बच्ची को जन्म दिया. डाक्टरों का कहना है कि डिलीवरी के दो घंटे बाद रजनी को हार्ट अटैक आ गया जिसके चलते उसकी मौत हो गई. इस मामले में सीएमओ विनोद गुप्ता ने बताया कि रजनी की डिलीवरी स्वयं गायनेकोलॉजिस्ट ने करवाई थी और डिलीवरी बिल्कुल नार्मल हुई थी लेकिन डिलीवरी के बाद एम्बोलिज्म के कारण उसे हार्ट में प्रॉब्लस हो गई जिसके बाद उसकी मौत हो गई.

उन्होंने बताया कि हस्पताल प्रशासन ने रजनी के परिजनों को पोस्ट मार्टम करवाने के लिए कहा था लेकिन उन्होंने स्वयं ही ऐसा करवाने से इंकार कर दिया और रजनी के शव को लेकर घर चले गए जबकि पैदा हुई बच्ची अभी अस्पताल में है और वह बिल्कुल स्वस्थ है. इसी बीच हरियाणा के पूर्व राजस्व मंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष निर्मल सिंह ने आज रजनी के चन्द्रपुरी स्थित आवास पर पहुंचकर शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना जताते हुए कहा कि संकट की इस घड़ी में वे उनके साथ हैं और यथा सम्भव सहायता करने को भी तैयार हैं.

2012 में बनी थी पहली महिला लोको पायलट रजनी 2012 में अंबाला मंडल में पहली रेल ट्राइवर के पद पर नियुक्त हुई थी. उसकी इस नियुक्ति से अंबाला के साथ-साथ प्रदेश का भी नाम रोशन हुआ था. उसकी शादी 10 वर्ष पहले हुई थी और शादी के दो साल बाद उसने एक बेटी को जन्म दिया. अब उसकी दूसरी डिलीवरी थी. रजनी के ससुर सुभाष चन्द्र पिछले महीने ही रेलवे से रिटायर हुए जबकि उसका देवर राहुल भी कुछ समय पहले ही लोको पायलेट नियुक्त हुआ है.

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
कर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही - ओमनारायण
एसआईएमएस पर सभी स्कूलों के शिक्षक-छात्रों का डाटा तेजी से अपलोड करें - मुख्यमंत्री
इनेलो का सत्यनाश होना तय-अशोक तंवर
हरियाणा में 22 साल बाद हुए छात्र संघ चुनाव, अधिकतर पार्टियों ने किया बहिष्कार
परिवहन कर्मी अपने काम पर वापस आ जाए – धनपत सिंह
हत्या के मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा
सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्टैच्यू ऑफ यूनिटी स्मारक बनने से देश में राष्ट्रीय अखंडता का संदेश जाएगा
सरकार ने प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा व उत्थान के लिए अनेक कार्य किए - मनोहर लाल
मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री 15 अक्टूबर को होनहार विद्यार्थियों को सम्मानित करेंगे
खट्टर ने जींद जिले को दी 13 विकास परियोजनाएं