Follow us on
Wednesday, July 18, 2018
BREAKING NEWS
लाइव डिबेट में मौलाना ने एक महिला को पीटाप्रधानमंत्री ने संसद सत्र सुचारू रूप से चलाने के लिये सभी दलों का सहयोग मांगाभीड़तंत्र को नया पैमाना बनने की इजाजत नहीं दी जायेगी: लिंचिंग पर न्यायालय की चेतावनीयदि कोई कानून मौलिक अधिकार का हनन करता है तो उसे निरस्त करना न्यायालय का कर्तव्य : शीर्ष अदालतलोकपाल की तलाश के लिये पैनल गठित करने हेतु चयन समिति की बैठक 19 जुलाई को :केंद्रएनआरआई विवाह के पंजीकरण के बारे में तत्काल सूचित करें राज्य: मेनका गांधीआयुर्वेद को ‘वैज्ञानिक मान्यता’ देने की खातिर आईआईटी दिल्ली और एआईआईए के बीच समझौता हुआशरीफ, उनकी बेटी की अपीलों पर सुनवाई स्थगित ,चुनाव तक रहना होगा जेल में
Business

एसबीआई ने दिया ग्राहकों को नए साल का तोहफा

January 06, 2018 08:30 AM

मुंबई - भारतीय स्टेट बैंक ने अपने ग्राहकों को नववर्ष का उपहार देते हुए न्यूनतम बैलेंस की सीमा घटाई है। एसबीआई ने अपने 25 करोड़ ग्राहकों के लिए शहरी इलाकों में तीन हजार रुपए से घटाकर एक हजार रुपए और अद्र्धशहरी तथा ग्रामीण इलाकों में घटाकर 500 रुपए न्यूनतम बैलेंस की सीमा कर दी है।

बैंक ने बताया कि न्यूनतम बैलेंस की नई सीमा जनवरी 2018 से प्रभावी हो गई है। अब औसत न्यूनतम बैलेंस की गणना भी मासिक की जगह तिमाही आधार पर की जाएगी। पहले न्यूनतम बैलेंस नहीं रखने पर शहरी इलाकों में जहां 30 से 50 रुपए और अद्र्धशहरी तथा ग्रामीण इलाकों में 20 से 40 रुपये मासिक शुल्क लगता था वहीं अब ये शुल्क तिमाही लगेंगे। इस प्रकार शुल्क भी एक तिहाई कर दिया गया है। शुल्क पर वस्तु एवं सेवा कर अलग से देय होगा।

अब तक बैंक के ग्राहकों को मेट्रो शहरों तथा अन्य शहरी क्षेत्रों में न्यूनतम बैलेंस तीन हजार रुपए रखने होते थे। अद्र्धशहरी इलाकों में यह सीमा दो हजार रुपए तथा ग्रामीण क्षेत्रों में एक हजार रुपए थे। बैंक ने पिछले साल 01 अप्रैल से न्यूनतम बैलेंस का प्रावधान दुबारा लागू किया था। न्यूनतम बैलेंस की ऊंची सीमा के कारण उसे काफी आलोचना झेलनी पड़ रही थी।

बैंक की प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि जनवरी-मार्च 2018 की तिमाही से घटा हुआ शुल्क और नयी व्यवस्था लागू हो गई है। उसने बताया कि बैंक में बचत खाता वाले ग्राहकों की संख्या 41 करोड़ है जिनमें 16 करोड़ खाते प्रधानमंत्री जनधन योजना या बेसिक सेभवग बैंक अकाउंट के तहत खुले हैं या पेंशन भोगियों, बच्चों तथा सामाजिक सुरक्षा लाभ के लिए खोले गए हैं। अन्य 25 हजार ग्राहकों को न्यूनतम बैलेंस में कटौती का लाभ मिलेगा।

उसने कहा कि सामान्य बचत खाता धारकों को पास पहले भी यह विकल्प था और आगे भी होगा कि वे अपने नियमित बचत खाते को बिना किसी शुल्क के बेसिक सेविंग खातों में बदलवा सकते हैं। ऐसा करने से वे न्यूनतम बैलेंस की अनिवार्यता से बच जायेंगे, हालांकि इन खातों में लेनदेन की सीमा काफी कम होती है।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
वर्ल्ड एक्सपो-2020 में भारतीय पवेलियन का निर्माण करेगी एनबीसीसी
चीन ने अमेरिका के प्रस्तावित शुल्क के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में चुनौती दी
कंपनियों के तिमाही नतीजों, मुद्रास्फीति के आंकड़ों से तय होगी बाजार की चाल
प्रमुख बाजारों में विविध चुनौतियों का सामना कर रही है टाटा मोटर्स-जेएलआर - चंद्रशेखरन
सरकार ने कर मामलों में अपील दायर करने की मौद्रिक सीमा बढ़ायी
बीएसएनएल ने शुरू की देश की पहली इंटरनेट टेलीफोन सेवा
पीवीआर पश्चिमी एशिया, उत्तरी अफ्रीका के बाजारों में कदम रखने की तैयारी में,दुबई की कंपनी से किया करार
टाटा संस के चेयरमैन से हटाए जाने के खिलाफ दाखिल मिस्त्री की याचिका खारिज
विदेशी निवेशकों ने पांच कारोबारी सत्रों में किया 3,000 करोड़ रुपये का निवेश
कंपनी में धोखाधड़ी हुई या नहीं, तय नहीं कर पाया फोर्टिस बोर्ड - आडिटर