Follow us on
Wednesday, January 23, 2019
Politics

बैंकों की वित्तीय स्थिति सुधारने के लिए करदाताओं ने दिया बलिदान - जेटली

January 07, 2018 09:19 AM

नई दिल्ली - वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सरकारी बैंकों के सफलतापूवर्क चुनौतियों का सामना करने की उम्मीद जताते हुए आज कहा कि बैंकों की वित्तीय स्थिति सुधारने के लिए करदाताओं ने बलिदान दिया है। जेटली ने सार्वजनिक क्षेत्र के यूको बैंक के 75 वर्ष पूर्ण होने के मौके प्लैटिनम जुबली कार्यक्रम को यहां संबोधित करते हुए कहा कि बैंकिंग क्षेत्र के सामने अभी समस्याएं हैं और सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के इससे बाहर निकालने के लिए कई उपाय किए हैं जिसके लिए संसद की मदद की जरूरत है। बैंकिंग क्षेत्र की स्थिति से सभी अवगत हैं।

उन्होंने सरकारी बैंकों की विश्वसनीयता बहाल करने की कोशिश किए जाने का उल्लेख करते हुए कहा कि वैश्विक स्तर पर सुस्ती आने से भी बैंकिंग क्षेत्र प्रभावित होता है। ऋण उठाव कम हो जाता है। इंफ्रास्ट्रक्चर में सुस्ती आ जाती है। ऐसी स्थिति में बैंकों की बैलेंस सीट को सामान्य बनाना भी चुनौतीपूर्ण हो जाता है।

वित्त मंत्री ने कहा कि बैंकों के पुनर्पूंजीकरण के लिए 2.12 लाख करोड़ रुपए की योजना बनाई गई है। इस राशि में से 1.35 लाख करोड़ रुपए बैंक जुटायेंगे। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए मजबूत बैंकिंग तंत्र की आवश्यकता है और अर्थव्यवस्था में सुधार होने पर ऋण उठाव भी बढ़ता है। ऋण उठाव से आर्थिक स्थिति का पता चलता है। ऋण उठाव बढऩे लगा है और वैश्विक स्तर पर कमोडिटी की कीमतें भी बढऩे लगी है।

जेटली ने बैकों से देश की अर्थव्यवस्था को गति देने में सहयोग करने की उम्मीद जताते हुए कहा कि बैंकों की स्थिति सुधारने के लिए करदाता भी बलिदान दे रहे हैं। अगले कुछ वर्षाें में बैंकों के प्रदर्शन में सुधार होगा और बैंक सफलतापूर्वक चुनौतियों का सामना करेंगे।

इस मौके पर जेटली ने बैंक के यूको पेप्लस ऐप और यूको सेक्योर ऐप को लाँच भी किया। यूको पेप्लस बैंकिंग सेवाओं के साथ ही ई वॉलेट ऐप है जबकि सेक्योर ऐप बैंकिंग गतिविधियों को सुरक्षा प्रदान करने वाला ऐप है। इस अवसर पर भारतीय डाक ने बैंक पर विशेष आवरण भी जारी किया है।

Have something to say? Post your comment