Follow us on
Monday, January 22, 2018
Chandigarh

नाबालिग से दुष्कर्म के बाद हत्या मामले में तीन गिरफ्तार

January 11, 2018 07:29 AM

मोहाली - दो माह पहले अगवा कर सेक्टर-69 के जंगली एरिया में रेप के बाद की गई नाबालिग लड़की की हत्या के मामले को पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है। आरोपी कोई बाहर के नहीं थे, बल्कि मृतका के करीबी थे। इस मामले में पुलिस ने मां बेटी समेत चार लोगों पर केस दर्ज कर किया है। जिनमें से तीन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

पकड़े गए आरोपियों की पहचान मक्खन दिवान निवासी गांव बेरी बंकट थाना सिकटा जिला बेतियां बिहार, शीला निवासी उत्तर प्रदेश हाल निवासी मटौर व पूजा निवासी मटौर शामिल है। जबकि रहूण निवासी बिहार व हाल निवासी मटौर अभी तक फरार चल रहा है। एसएसी कुलदीप सिंह चहल ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस कर इसका खुलासा किया। इस मौके सीआईए इंचार्ज तिरलोचन सिंह, फेज थाना आठ प्रभारी राजीव कुमार व मामले के जांच अधिकारी एसआई जागीर सिंह मौजूद थे।

ऐसे दिया था वारदाज को अंजाम

जानकारी के मुताबिक जब नाबालिग लड़की वकील के घर से नौ नवंबर 2017 को निकली थी। उसके बाद शीला ने पूरी प्लानिंग से उसे जंगल से लड़कियां उठाने के बहाने ले कर गई थी। जहां पर आरोपी मक्खन व रहूण पहले से ही मौजूद थे। जहां पर उन्होंने नाबालिग का जबरदस्ती रेप करवाया। इसमें मां बेटी ने भी साथ दिया। इसके बाद उन्हें लगा कि लड़की मुंह खोल देगी। इसके बाद उन्होंने उसकी चाकुओं से गोदकर मार दिया। इसके बाद वह शव को पत्तों से कवर कर फरार हो गए थे।

फोन कॉल्स की डिटेल से खुली आरोपियों की पोल

पुलिस इस मामले में काफी गंभीरता से जांच कर रही थी। लेकिन कोई सुराग नहीं लग रहा । हालांकि पुलिस के हाथ कुछ ऐसी चीजे लग गई थी। जिससे यह साफ हो गया था कि हत्या में कोई करीबी ही शामिल है। इसके बाद पुलिस ने भी सभी करीबियों की कॉल डिटेल चैक की। तभी आरोपियों की भनक लगी। इसके बाद आरोपियों को  िबठाकर पूछताछ की गई। तभी आरोरियों ने बात कबूली।

पति की मौत का जिम्मेदार मानती थी नाबालिग के परिवार को

एसएसपी ने बताया कि नाबालिग को मारने की वजह पुरानी रंजिश बताई जा रही है। अगस्त माह में शीला के पति राम निवास की उत्तर प्रदेश में सड़क हादसे में मौत हो गई थी। शीला को संदेह था कि मृतका के परिजनों की वजह से ही उसके पति की मौत हुई है। जिसके बाद उन्होंने इसका बदला लेने के लिए यह योजना बनाई थी।

लड़की की हत्या के बाद परिवार के बने रहे मददगार

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक आरोपी काफी शातिर थे। लड़की हत्या के बाद के बाद वे मोहाली में ही मौजूद रहे। इतना ही नहीं लड़की की तलाश में भी परिवार का सहयोग करते रहे। वह हर पल पर उन्हें मददगार बताते रहे। जिसके चलते परिवार को उन पर कभी संदेह ही नहीं हुआ था।

लड़की को शीला ने ही लगाया था काम पर

जानकारी के मुताबिक लड़की को काम पर शीला ने ही रखवाया था। लड़की काफी बढयि़ा काम कर रही थी। जिस घर में लड़की काम करती थी। उक्त परिवार को भी लउ़की के काम की कोई शिकायत नहीं थी। हालांकि जब लड़की की हत्या हुई थी। उस समय परिवार भी काफी परेशान हो गया था। वहीं एसएसपी ने बताया कि इस मामले में उन्होंने काफी बारीकी से जांच की थी। इतना ही नहीं मामले की जांच को आगे बढ़ाने के लिए वह चंडीगढ़ आटो रेप के आरोपियों को भी प्रोडक्श्न वारंट पर लाए थे। इसके बाद उनसे भी काफी बारीकी से जांच की गई थी। लेकिन कोई सुराग उनसे नहीं मिल पाया था।ं

यह था सारा मामला

जानकारी के एक सितंबर को लड़की काम पर गई हुई थी। शाम को चार बजे लड़की जहां बच्चे की देखभाल के लिए जाती थी, वहां से वापस अपने घर के लिए निकली थी। लेकिन वह घर नहीं पहुंची थी। इसके बाद परिवार वालों ने काफी तलाश की। लेकिन इसका कोई सुराग नहीं लगा। इसी बीच नौ सितंबर को सेक्ट र-69 मायो अस्पताल के सामने दुकान करने वाला लड़का शौच के लिए जंगल में गया। तो उसने लड़की के कपड़े देखे। उसने इस बारे में तुरंत अपने भाई को सूचित किया। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लिया। साथ ही शव की पहचान हो गई थी। इसके बाद पुलिस ने विसरा जांच के लिए लैब भेजा था। जिमें सारी कहानी खुल गई थी।

Have something to say? Post your comment