Follow us on
Wednesday, July 18, 2018
BREAKING NEWS
लाइव डिबेट में मौलाना ने एक महिला को पीटाप्रधानमंत्री ने संसद सत्र सुचारू रूप से चलाने के लिये सभी दलों का सहयोग मांगाभीड़तंत्र को नया पैमाना बनने की इजाजत नहीं दी जायेगी: लिंचिंग पर न्यायालय की चेतावनीयदि कोई कानून मौलिक अधिकार का हनन करता है तो उसे निरस्त करना न्यायालय का कर्तव्य : शीर्ष अदालतलोकपाल की तलाश के लिये पैनल गठित करने हेतु चयन समिति की बैठक 19 जुलाई को :केंद्रएनआरआई विवाह के पंजीकरण के बारे में तत्काल सूचित करें राज्य: मेनका गांधीआयुर्वेद को ‘वैज्ञानिक मान्यता’ देने की खातिर आईआईटी दिल्ली और एआईआईए के बीच समझौता हुआशरीफ, उनकी बेटी की अपीलों पर सुनवाई स्थगित ,चुनाव तक रहना होगा जेल में
India

17 लाख बेघरों को आधार कैसे मिलेगा ताकि वे सरकारी स्कीमों का लाभ उठा सकें? - सुप्रीम कोर्ट

January 11, 2018 07:38 AM

एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए शीर्ष अदालत ने यह सवाल तब किया जब उसे बताया गया कि आधार बनवाने के लिए स्थायी पता जरूरी है सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को इस पर चिंता जताई कि लाखों बेघर लोगों को सरकार द्वारा चलाई जा रही सामाजिक कल्याण योजनाओं का फायदा नहीं मिल रहा. एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत को बताया गया कि आधार बनवाने के लिए स्थायी पता जरूरी है.

इस पर जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की खंडपीठ ने सवाल किया कि जब इन लोगों के पास कोई स्थाई पता ही नहीं है तो ये आधार कार्ड कैसे बनवाएंगे. उन्होंने कहा कि जिनके पास आधार नहीं है क्या सरकार के लिए उनका कोई अस्तित्व नहीं है.

सुप्रीम कोर्ट की यह टिप्पणी ऐसे समय पर आई है जब केंद्र सरकार उसके सामने बार-बार यह साबित करने की कोशिश कर रही है कि आधार को सामाजिक कल्याण की योजनाओं से जोड़ने का फैसला जनहित में है. शीर्ष अदालत ने कहा कि सरकार के इस रुख से लाखों लोग इन योजनाओं के फायदे से वंचित रह जाएंगे. इसके बाद अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत से और समय मांगा और कहा कि वे इस बारे में आधार जारी करने वाली संस्था भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) से बात करेंगे. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि कई लोग शहरों में आने के बाद ही बेघर हुए हैं और गांव में उनका स्थाई पता रहता है. तुषार मेहता ने कहा कि ये लोग उस पते पर आधार बना सकते हैं.

2011 की जनगणना के मुताबिक भारत में ऐसे 17 लाख 73 हजार लोग हैं जिनके सिर के ऊपर छत नहीं है. इनमें से करीब 53 फीसदी लोग शहरी इलाकों में रहते हैं जबकि बाकी गांवों में.

Have something to say? Post your comment
 
More India News
प्रधानमंत्री ने संसद सत्र सुचारू रूप से चलाने के लिये सभी दलों का सहयोग मांगा
भीड़तंत्र को नया पैमाना बनने की इजाजत नहीं दी जायेगी: लिंचिंग पर न्यायालय की चेतावनी
यदि कोई कानून मौलिक अधिकार का हनन करता है तो उसे निरस्त करना न्यायालय का कर्तव्य : शीर्ष अदालत
एनआरआई विवाह के पंजीकरण के बारे में तत्काल सूचित करें राज्य: मेनका गांधी
आयुर्वेद को ‘वैज्ञानिक मान्यता’ देने की खातिर आईआईटी दिल्ली और एआईआईए के बीच समझौता हुआ
ममता बनर्जी सरकार चला रही सिंडीकेट राज - मोदी
किसानों की आय 2022 तक दोगुनी करने की दिशा में काम कर रही है राजग सरकार - मोदी
सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल प्रायोगिक परीक्षण
दिल्ली के कई इलाकों में भारी बारिश
किसानों के लिए घड़ियाली आंसू बहाने वालों से पूछें कि सिंचाई परियोजनाएं अधूरी क्यों छोड़ीं - मोदी