Follow us on
Wednesday, July 18, 2018
BREAKING NEWS
लाइव डिबेट में मौलाना ने एक महिला को पीटाप्रधानमंत्री ने संसद सत्र सुचारू रूप से चलाने के लिये सभी दलों का सहयोग मांगाभीड़तंत्र को नया पैमाना बनने की इजाजत नहीं दी जायेगी: लिंचिंग पर न्यायालय की चेतावनीयदि कोई कानून मौलिक अधिकार का हनन करता है तो उसे निरस्त करना न्यायालय का कर्तव्य : शीर्ष अदालतलोकपाल की तलाश के लिये पैनल गठित करने हेतु चयन समिति की बैठक 19 जुलाई को :केंद्रएनआरआई विवाह के पंजीकरण के बारे में तत्काल सूचित करें राज्य: मेनका गांधीआयुर्वेद को ‘वैज्ञानिक मान्यता’ देने की खातिर आईआईटी दिल्ली और एआईआईए के बीच समझौता हुआशरीफ, उनकी बेटी की अपीलों पर सुनवाई स्थगित ,चुनाव तक रहना होगा जेल में
Chandigarh

राजपथ पर नहीं दिखेगी सिटी ब्यूटीफुल की झांकी

January 12, 2018 06:36 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - लगातार दूसरे साल नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर होने वाली परेड में चंडीगढ़ की झांकी नजर नहीं आएगी। झांकी के लिए जो थीम चंडीगढ़ प्रशासन तय कर रहा है वह रक्षा मंत्रालय को पसंद नहीं आ रही है। पिछले साल भी थीम को मंत्रालय ने नामंजूर कर दिया था और इस बार भी। यूटी प्रशासन ने इस बार 'इंटरनेशनल डॉल म्यूज़ियम' की थीम पर अपना प्रस्ताव गणतंत्र दिवस परेड की झांकी के लिए भेजा था। 'इंटरनेशनल डॉल म्यूज़ियम'  के अनोखेपन को ध्यान में रखते हुए चंडीगढ़ प्रशासन ने रक्षा मंत्रालय की चयन समिति को प्रस्ताव भेजा, लेकिन समिति ने इसे नामंजूर कर दिया।

चंडीगढ़ के सेक्टर-23 में इंटरनेशनल डॉल म्यूज़ियम पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है। इसमें रूस, स्पेन, जर्मनी, नीदरलैंड, डेनमार्क और दक्षिण कोरिया जैसे विभिन्न देशों से करीब 300 गुड़िया हैं। वर्ष 2017 में भी चयन समिति ने चंडीगढ़ की थीम पसंद न आने की वजह से उसे राजपथ की झांकी में शुमार करने से मना कर दिया था। वर्ष 2018 के लिए पहले प्रशासन ने शहर के फ्रेंच मास्टर वास्तुकार ली-कार्बूजिए के कार्यों का प्रस्ताव तैयार किया था पर बाद में उसमें बदलाव कर दिया।

गणतंत्र दिवस परेड के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से अलग-अलग थीमों पर प्रस्तावों की मांगे जाते हैं। जो थीम फाइनल होती है, उसके आधार पर ही रक्षा मंत्रालय के सहयोग से दिल्ली में एक झांकी का आयोजन किया जाता है। राजपथ पर कलने वाली परेड में कुल 21 झांकियों का शामिल होती है। यही वजह है कि इसके लिए चयन की एक लंबी प्रक्रिया है। सूत्रों की मानें तो परेड में शामिल होने के लिए वैसे तो सभी राज्य आवेदन करते है। लेकिन इनमें करीब 15 राज्यों को ही जगह मिल पाती है। जबकि छह केंद्र सरकार और उससे जुड़ी एजेंसियों की रहती है।

यूटी प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि चंडीगढ़ बहुत छोटा शहर है। इसलिए यहां थीम में दर्शाने के लिए चीजें भी कम हैं। इससे पहले वर्ष  2016 में चंडीगढ़ की झांकी राजपथ पर दिखी थी। इसमें कैपिटल कॉम्प्लेक्स, रॉक गार्डन और शहर की ग्रीनरी व क्वालिटी ऑफ लाइफ को दिखाया गया था। इससे पहले वर्ष 2014 में 13 साल बाद रॉक गार्डन पर चंडीगढ़ की झांकी राजपथ पर दिखी थी।

एडवाइजर परिमल राय फहराएंगे तिरंगा

गणतंत्र दिवस पर एडवाइजर परिमल राय सेक्टर-17 परेड ग्राउंड में तिरंगा फहराकर परेड की सलामी लेंगे। सुबह साढ़े 9 बजे परेड का कार्यक्रम शुरू हो जाएगा। इसमें पुलिस के जवानों के साथ एनएसएस और एनसीसी के वॉलंटियर्स भी हिस्सा लेंगे। विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य करने वाले 16 लोगों को एडवाइजर प्रशस्ति प्रमाण पत्र देकर सम्मानित करेंगे। 

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
पीयू के वीसी के लिए सर्च कमेटी ने लिए इंटरव्यू, चांसलर को भेजे तीन नाम
चंडीगढ़ में घर की छतों पर अब 17 नवंबर तक सोलर पावर प्लांट लगाना जरूरी
पीयू के अगले वीसी के लिए आज दिल्ली में होंगे इंटरव्यू
पिंक ब्रिगेड महिलाओं ने महिलाओं को हेलमेट पहनने के प्रति किया जागरूक
आज से मिलेगी चंडीगढ़ से कोलकाता के लिए सीधी फ्लाइट
अब तक 37 देशों के मरीज पीजीआर्ई में करवा चुके ईलाज
पीयू में पढ़ते हुए कमा सकेंगे स्टूडेंट्स, 50 लाख रुपये का बजट तय
यूटी प्रशासन 300 खिलाड़ियों को देगा नकद पुरस्कार, 1.69 करोड़ हुए मंजूर
नेशनल अवार्ड के लिए आवेदन करने का आज आखिरी मौका
उद्योगपतियों ने खेर को बताईं अपनी लंबित मांगें