Follow us on
Wednesday, January 24, 2018
Politics

जनता के गुस्से का शिकार हुए CM नीतीश, काफिले पर हुआ हमला

January 13, 2018 07:24 AM

बक्सर - बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर कुछ भड़के ग्रामीणों ने पत्थरबाजी की। जिससे काफिले की गाड़ियों के शीशे टूट गए और मुख्यमंत्री को इस स्थिति से किसी तरह बटचाकर निकाला गया।बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री नीतिश कुमार बक्सर जिले के नंदन गांव में विकास समीक्षा के लिए पहुंचे थे, लेकिन यहां पर इलाके का विकास न होने के कारण लोग भड़के हुए थे, जिसके बाद लोगों ने नारेबाजी की और पत्थरबाजी शुरु कर दी।

बताया जा रहा है कि कुछ असामाजिक तत्वों ने सीएम के कारकेड पर हमला कर दिया और जमकर पत्थरबाजी की, जिससे काफिले में कई गाड़ियों के शीशे टूट गए हैं। गांव के ही चमटोली के लोगों का कहना था कि विकास केवल मुख्यमंत्री को दिखाने के लिए हुए, गांव के ही दूसरे इलके उनके तरफ कुछ नही हुआ। विरोध दायरे में था, अचानक काफिले पर कुछ असामाजिक तत्व पत्थर चलाने लगे। आधा साइज के ईंट चलने से कई गाड़ियों के शीशे टूट गए काफिले में भगदड़ की स्थिति मच गई।

ग्रामीणों का आरोप है कि सात निश्चय कार्यक्रम के तहत गांव में कोई काम नहीं हुआ, इसी को लेकर ग्रामीण विरोध जता रहे थे और सीएम को गांव लाने की मांग कर रहे थे। घटना के बाद सीएम नीतीश कुमार गांव से सुरक्षित निकालकर वहां से दो किलोमीटर दूर एक फॉर्म पर ले जाया गया है जहां वे सभा को संबोधित कर रहे हैं। वहीं इससे पहले महादलित महिलाओं ने सीएम के काफिले को रोकने की भी कोशिश की थी। बता दें कि पिछली बार भी सीएम नीतीश की विकास समीक्षा यात्रा के दौरान चौसा में कुछ ऐसा ही हुआ था।

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
एनडीए से अलग हुई शिवसेना, अकेले लड़ेगी लोकसभा चुनाव
लाभ का पद मामले में केजरीवाल और अयोग्य विधायकों के खिलाफ शिकायत दर्ज
विधायकों को अयोग्य करार देने पर बोले केजरीवाल- भगवान हमारे साथ हैं
विवेकानंद और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए - ममता बनर्जी
AAP को दिल्ली HC से नहीं मिली राहत, सोमवार को मामले की फिर सुनवाई
नरेंद्र मोदी और सुषमा स्वराज ने डोकलाम पर देश को गुमराह किया - कांग्रेस
डिजिटल युग में आतंकवाद सबसे बड़ी समस्या - सुषमा स्वराज
हज सब्सिडी खत्म करना न्यायालय का निर्णय - आजाद
अगली लड़ाई राजनीतिक पार्टियों के चुनाव चिन्ह के खिलाफ - अन्ना हजारे
आप में कुमार विश्वास अलग-थलग लेकिन पार्टी छोड़ने के इच्छुक नहीं