Follow us on
Thursday, October 18, 2018
World

पनामा के राजदूत ने की ट्रंप के खिलाफ बगावत

January 14, 2018 08:42 AM

वॉशिंगटन - अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों पर प्रतिबंध लगाने के चलते विरोध का सामना कर रहे ट्रंप के खिलाफ उन्हीं के अधिकारियोें ने बगावत का बिगुल फूंक दिया है। पनामा में अमरीका के राजदूत जॉन फीली ने स्पष्ट तौर पर कहा कि वह ट्रंप के साथ काम करने में असमर्थ हैं। जॉन नौसेना में रह चुके हैं। उनकी इस घोषणा से ट्रंप सरकार सकते में है।

जॉन वर्ष 2016 से पनामा के राजदूत का पद संभाल रहे थे। मालूम हो कि राष्ट्रपति का पद संभालने के बाद ट्रंप ने कई देशों के राजदूतों को बदल दिया था। जॉन ने अपने बयान में ट्रंप सरकार की नीतियों के प्रति असहमति के संकेत दिए हैं। वहीं, अमरीकी सरकार ने बयान जारी कर इस मसले पर सफाई दी है। जॉन फीली 9 मार्च को रिटायर होने वाले थे। लेकिन, उससे एक-डेढ़ महीने पहले ही इस्तीफा देना चौंकाने वाला है।

फीली ने अपने त्यागपत्र में लिखा, 'विदेशी सेवा का एक जूनियर अधिकारी होने के नाते मैंने राष्ट्रपति और उनकी सरकार की सेवा करने का शपथ लिया था। फिर चाहे मैं उनके किसी खास नीति से असहमत ही क्यों न रहूं। मुझे स्पष्ट कर दिया गया था कि यदि मुझे लगता है कि मैं वैसा न कर सकूं तो मैं इस्तीफा दे सकता हूं और अब वह समय आ गया है।'

अमरीकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने भी जॉन फीली के इस्तीफे की पुष्टि कर दी है। उन्होंने कहा, 'जॉन ने व्हाइट हाउस, विदेश विभाग और पनामा सरकार को इसकी सूचना दे दी है।' उपविदेश मंत्री स्टीव गोल्डस्टीन ने जॉन द्वारा ट्रंप के कारण इस्तीफा देने की बातों को खारिज किया है। मालूम हो कि ट्रंप ने गुरुवार (11 जनवरी) को हैती और अफ्रीकी देशों को बहुत ही गंदा स्थान करार दिया था।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
चीन ने विश्व के सबसे बड़े परिवहन ड्रोन का सफल परीक्षण किया
ट्रम्प ने खुद को सच्चा पर्यावरणविद बताया
पाक उपचुनाव : इमरान की पार्टी को झटका, पीएमएल-एन की संख्या में सुधार
माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक पॉल एलन का 65 वर्ष की आयु में निधन
सऊदी अरब के साथ हथियार समझौता रद्द करने के खिलाफ हैं डोनाल्ड ट्रंप
नेपाल में हिमस्खलन में पांच दक्षिण कोरियाई नागरिकों समेत नौ लोगों की मौत
आतंकवाद विकास और समृद्धि के लिए जबरदस्त खतरा - सुषमा
सीतारमण ने फ्रांसीसी रक्षामंत्री पार्ली से बातचीत की
राष्ट्रीय संप्रभुता और बहुपक्षवाद का सह-अस्तित्व हो सकता है - एस्पिनोसा
अमेरिका ने सऊदी अरब से खशोगी की गुमशुदगी की जांच में सहयोग करने को कहा