Follow us on
Thursday, October 18, 2018
Business

आईडीएफसी बैंक और कैपिटल फर्स्ट का होगा विलय

January 14, 2018 08:50 AM

नई दिल्ली - आईडीएफसी बैंक ने शनिवार को गैर-बैकिंग वित्तीय कंपनी कैपिटल फर्स्ट के साथ विलय की घोषणा की. दोनों के इस विलय से कंपनी संयुक्त रुप से 88,000 करोड़ रुपये संचय करेगी. आईडीएफसी बैंक ने बीएसई (बम्बई स्टॉक एक्सचेंज) को एक नियामकीय फाइलिंग में यह जानकारी दी. कंपनी ने बताया, 'आईडीएफसी बैंक के निदेशक मंडल ने कैपिटल फर्स्ट लि., कैपिटल फर्स्ट होम फाइनेंस लि. और कैपिटल फर्स्ट सिक्यूरिटीज लि. के साथ एकीकरण की समग्र योजना को मंजूरी दे दी है.

विनियामकीय फाइलिंग में कहा गया है कि निदेशक मंडल ने बिपिन जेमानी को अंतरित मुख्य वित्त अधिकारी और प्रमुख प्रबंधकीय कार्मिक के रूप में नियुक्ति को मंजूरी दे दी, जो कि 13 जनवरी से प्रभावी होगी. इस सिलसिले में दोनों कंपनियों के बोर्ड ने भी बैठक की थी. बोर्ड बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि आईडीएफसी बैंक ने 139:10 के अनुपात के शेयर स्वैप पर बात बनी है. इसका मतलब आईडीएफसी बैंक कैपिटल फर्स्ट के प्रत्येक 10 शेयर पर 139 शेयर जारी करेगी. शुक्रवार को आईडीएफसी बैंक का शेयर डेढ़ फीसदी नीचे 67.75 के स्तर पर बंद हुआ था जबकि कैपिटल फर्स्ट का शेयर आधा फीसदी चढ़कर 835 रुपये पर बंद हुआ था.

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
व्यापार के लिए रुपए में मूल्यह्रास दोहरी मार के समान - एसबीआई अध्ययन
तेज वृद्धि, फटाफट फैसले के लिये देश में मजबूत, निर्णायक सरकार का होना जरूरी - जेटली
सेंसेक्स 132 अंक चढ़ा, निफ्टी 10,510 अंक से ऊपर, बाजार में सतर्कता का माहौल
डेटा स्थानीयकरण की समयसीमा को 15 अक्टूबर से आगे नहीं बढा़येगा रिजर्व बैंक
डब्ल्यूटीओ चीन और उसकी औद्योगिक नीतियों से निपटने में सक्षम नहीं : अमेरिका
सेंसेक्स की उछाल से निवेशकों की संपत्ति 2.98 लाख करोड़ रुपये बढ़ी
भारत ने विश्वबैंक की मानव पूंजी सूचकांक रिपोर्ट को खारिज किया
रुपये सर्वकालिक निम्न स्तर से उबरा, 18 पैसे की तेजी
व्हाट्सएप ने स्थानीय डाटा संग्रहण प्रणाली स्थापित की
बैंकों से घटी ब्याज दर का लाभ लोगों तक नहीं पहुंचने पर न्यायालय ने रिजर्व बेंक से जवाब मांगा