Follow us on
Saturday, August 17, 2019
BREAKING NEWS
अच्छे लोगों का भाजपा में स्वागत - अमित शाहकश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिवदेशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं - मोदीमोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोरजम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैंजापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ रियल एस्टेट सैक्टर में निवेश योजना सांझी कीमनाली में स्थापित की जाने वाली अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा की आधारशिलाप्रदेश के सरकारी अस्पतालों की मिली 30 बेसिक लाईफ सेविंग एंबुलेंस गाड़ियां
World

ट्रंप को सीनेट का झटका, सीरिया, अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी के खिलाफ प्रस्ताव पारित

February 06, 2019 09:59 AM

वाशिंगटन - अमेरिकी सीनेट ने सीरिया और अफगानिस्तान से सैनिकों को वापस बुलाने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फैसले के खिलाफ भारी बहुमत से एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित किया है। इस प्रस्ताव के पक्ष में ट्रंप की अपनी रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने भी मतदान किया जो राजनीतिक दल के भीतर के मतभेदों को स्पष्ट करता है।

सीनेट में रिपब्लिकन नेता मिच मैककॉनेल ने प्रस्ताव को सदन के पटल पर रखा। उन्होंने पिछले सप्ताह कहा था कि इस प्रस्ताव में ‘‘उस स्पष्ट तथ्य को स्वीकार किया जाएगा कि सीरिया और अफगानिस्तान में अल-कायदा, आईएसआईएस और उनसे सम्बद्ध संगठन हमारे राष्ट्र के लिए गंभीर खतरा बने हुए हैं।’’

प्रस्ताव भारी बहुमत से पारित हुआ। प्रस्ताव के पक्ष में 70 मत पड़े जबकि विरोध में 26 मत पड़े। सदन के 53 रिपब्लिकन सीनेटरों में से केवल तीन ने ही इसका विरोध किया। अंतत: इस संशोधन को दक्षिण-पश्चिम एशिया को लेकर एक व्यापक सुरक्षा कानून में समाविष्ट कर दिया जाएगा।

प्रस्ताव के अनुसार, दोनों में से किसी भी देश से सेना को वापस बुलाने पर हम बड़ी मुश्किल से हाथ आयी सफलता गवां सकते हैं और अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा को भी खतरे में डाल सकते हैं।

दिसंबर में, ट्रम्प ने ट्वीट कर अमेरिका के 2,000 सैनिकों को सीरिया से वापस बुलाने की योजना बतायी थी, जिसमें तर्क दिया गया था कि इस्लामिक स्टेट समूह पर जीत पा लिया गया है। हालांकि, पिछले हफ्ते अमेरिकी खुफिया प्रमुखों ने सूचना दी थी कि ये जिहादी समूह अभी भी एक गंभीर खतरा बने हुए हैं और अपना पाँव पसारने की फिराक में हैं।

गौरतलब है कि डेमोक्रेट्स के साथ ही कई प्रमुख रिपब्लिकन सीनेटर भी ट्रम्प के इस कदम की आलोचना करते रहे हैं।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में बम धमाका, पांच लोगों की मौत
भारत, चीन को एक-दूसरे की मुख्य चिंताओं का सम्मान करना चाहिए - जयशंकर
मुगालते में न रहें, कश्मीर पर यूएनएससी, मुस्लिम जगत का समर्थन पाना आसान नहीं है - कुरैशी
दुनिया में अस्थिरता के समय भारत, चीन के संबंध स्थिरता के परिचायक होने चाहिए - जयशंकर
कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद जाने का पूरा समर्थन करता है चीन - कुरैशी
परमाणु वार्ता फिर शुरू करना चाहते हैं किम जोंग उन – ट्रंप
कश्मीर पर नीति में कोई बदलाव नहीं आया है - अमेरिका
पाकिस्तान ने वाघा सीमा से भारत-अफगानिस्तान व्यापार की संभावना खारिज की
पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायुक्त को निष्कासित किया, राजनयिक संबंध निलंबित करने का ऐलान
अमेरिका ने पाक से आतंकी गुटों के खिलाफ कार्रवाई में कुछ ठोस कर दिखाने को कहा