Follow us on
Saturday, August 17, 2019
BREAKING NEWS
अच्छे लोगों का भाजपा में स्वागत - अमित शाहकश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिवदेशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं - मोदीमोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोरजम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैंजापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ रियल एस्टेट सैक्टर में निवेश योजना सांझी कीमनाली में स्थापित की जाने वाली अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा की आधारशिलाप्रदेश के सरकारी अस्पतालों की मिली 30 बेसिक लाईफ सेविंग एंबुलेंस गाड़ियां
World

भारत ने संरा महासभा को पुनर्गठित करने को अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का आह्वान किया

February 08, 2019 10:19 AM

संयुक्त राष्ट्र (भाषा) - भारत ने 193 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र महासभा को पुनर्गठित करने की दिशा में सामूहिक अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के लिये आह्वान किया है। उसने कहा कि ‘वैश्विक संसद की निकटतम संस्था’ को वैश्विक चुनौतियों का समाधान करने के लिये बहुपक्षीय प्रयासों का नेतृत्व करना चाहिये।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के उप स्थायी प्रतिनिधि के नागराज नायडू ने जोर देकर कहा कि सुरक्षा परिषद में सुधार संयुक्त राष्ट्र को पुनर्गठित करने की समूची प्रक्रिया का प्रमुख हिस्सा है और महासभा से बेहतर कोई मंच नहीं है जहां यह प्रक्रिया सर्वाधिक लोकतांत्रिक और प्रतिनिधिक तरीके से आगे बढ़ाई जा सकती है।

नायडू ने सोमवार को कहा, ‘‘संयुक्त राष्ट्र की 75 वीं सालगिरह में अब दो साल से भी कम समय बचा है। हमें पुनगर्ठित महासभा के लिये अपनी सामूहिक तलाश में इस महत्वपूर्ण मील के पत्थर का फायदा उठाना चाहिए, जो वैश्विक चुनौतियों को सुलझाने में सक्षम हो, जो लोगों की आकांक्षाओं को आकार दे और पूरी दुनिया में लोगों के जीवन में बदलाव लाए।’’

‘बहुपक्षीय नियम आधारित व्यवस्था को मजबूत करने के पक्ष में संयुक्त राष्ट्र को पुनर्गठित करने’ पर महासभा के पूर्व अध्यक्षों के साथ अनौपचारिक बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि महासभा में अच्छी खासी संख्या में पर्यावरण की दृष्टि से संवेदनशील देश शामिल हैं। यह पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई करने के प्रयासों को तेज करने के लिये अद्वितीय स्थिति में है।

संयुक्त राष्ट्र का मुख्य विचारक, नीति निर्धारक और प्रतिनिधिक अंग होने के कारण महासभा को "वैश्विक संसद का निकटतम संस्थान" बताते हुए नायडू ने कहा कि कोई भी अन्य वैश्विक संस्था इसके प्रतिनिधि चरित्र और विश्वसनीयता से मेल नहीं खाती है।

उन्होंने कहा कि कई घटनाक्रमों के कारण बहुपक्षवाद को नुकसान पहुंच रहा है। नायडू ने कहा कि सीमाओं और क्षेत्रों से परे वैश्विक चुनौतियों से पृथकता में नहीं निपटा जा सकता और महासभा को निर्णय लेने में इसकी व्यापक संभव भागीदारी और मिल्कियत के साथ बहुपक्षीय प्रयास का नेतृत्व करना चाहिए। ।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में बम धमाका, पांच लोगों की मौत
भारत, चीन को एक-दूसरे की मुख्य चिंताओं का सम्मान करना चाहिए - जयशंकर
मुगालते में न रहें, कश्मीर पर यूएनएससी, मुस्लिम जगत का समर्थन पाना आसान नहीं है - कुरैशी
दुनिया में अस्थिरता के समय भारत, चीन के संबंध स्थिरता के परिचायक होने चाहिए - जयशंकर
कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद जाने का पूरा समर्थन करता है चीन - कुरैशी
परमाणु वार्ता फिर शुरू करना चाहते हैं किम जोंग उन – ट्रंप
कश्मीर पर नीति में कोई बदलाव नहीं आया है - अमेरिका
पाकिस्तान ने वाघा सीमा से भारत-अफगानिस्तान व्यापार की संभावना खारिज की
पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायुक्त को निष्कासित किया, राजनयिक संबंध निलंबित करने का ऐलान
अमेरिका ने पाक से आतंकी गुटों के खिलाफ कार्रवाई में कुछ ठोस कर दिखाने को कहा