Follow us on
Saturday, August 17, 2019
BREAKING NEWS
अच्छे लोगों का भाजपा में स्वागत - अमित शाहकश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिवदेशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं - मोदीमोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोरजम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैंजापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ रियल एस्टेट सैक्टर में निवेश योजना सांझी कीमनाली में स्थापित की जाने वाली अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा की आधारशिलाप्रदेश के सरकारी अस्पतालों की मिली 30 बेसिक लाईफ सेविंग एंबुलेंस गाड़ियां
India

बिहार आश्रय गृह मामले में सीबीआई के पूर्व अंतरिम निदेशक न्यायालय में तलब

February 08, 2019 10:27 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - शीर्ष अदालत के आदेश के बावजूद बिहार में आश्रय गृह मामलों की जांच कर रहे सीबीआई के अधिकारी ए के शर्मा का तबादला किये जाने पर कड़ा रूख अपनाते हुये उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को जांच ब्यूरो के तत्कालीन अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर राव को व्यक्तिगत रूप से 12 फरवरी को पेश होने का निर्देश दिया।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने शीर्ष अदालत के दो आदेशों के उल्लंघन को गंभीरता से लिया और न्यायालय की अनुमति के बगैर ही जांच ब्यूरो के संयुक्त निदेशक शर्मा का तबादला सीआरपीएफ में किये जाने के मामले में नागरेश्वर राव को अवमानना नोटिस जारी किया।

पीठ ने जांच ब्यूरो के निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला को उन अधिकारियों के नाम बताने का निर्देश दिया जो ए के शर्मा का तबादला जांच एजेन्सी से बाहर करने की प्रक्रिया का हिस्सा थे। शीर्ष अदालत ने अपने पहले के आदेश का जिक्र किया जिसमें सीबीआई से कहा गया था कि शर्मा को बिहार आश्रयगृह मामलों की जांच के दल से हटाया नहीं जाये।

पीठ ने नागेश्वर राव के साथ ही जांच ब्यूरो के उन अधिकारियों को भी 12 फरवरी को पेश होने का निर्देश दिया है जो शर्मा के तबादले की प्रक्रिया का हिस्सा थे। इसके अलावा, पीठ ने सीबीआई के प्रभारी अभियोजन निदेशक एस. भासु राम को भी उसके आदेश के उल्लंघन के लिये न्यायालय में उपस्थित रहने का निर्देश दिया है।

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक गैर सरकारी संगठन द्वारा संचालित आश्रय गृह में अनेक लड़कियों से कथित बलात्कार और उनके यौन उत्पीड़न का मामला सुर्खियों में आने के बाद बिहार पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू की थी। परंतु बाद में शीर्ष अदालत ने इस मामले की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो को सौंप दी थी।

Have something to say? Post your comment
 
More India News
कश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिव
मोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोर
जम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैं
जेटली की हालत नाजुक, कोविंद, शाह और योगी पहुंचे एम्स
स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर संबोधन में राष्ट्रपति ने अनुच्छेद-370 के फैसले को सराहा
राहुल ने आरबीआई गवर्नर को पत्र लिखकर बाढ़ प्रभावित केरल के किसानों के लिए राहत की मांग की
आईटीबीपी के पांच कर्मियों को वीरता पदक, उत्कृष्ट सेवाओं के लिए कुल 19 कर्मी पुरस्कृत
राष्ट्रपति ने 132 शौर्य पुरस्कार किए अनुमोदित
हिंदुओं का विश्वास है कि अयोध्या राम का जन्मस्थान है, राम लला के वकील का न्यायालय में तर्क
पहलू खान भीड़ हत्या मामले में छह आरोपी बरी