Follow us on
Saturday, August 17, 2019
BREAKING NEWS
अच्छे लोगों का भाजपा में स्वागत - अमित शाहकश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिवदेशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं - मोदीमोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोरजम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैंजापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ रियल एस्टेट सैक्टर में निवेश योजना सांझी कीमनाली में स्थापित की जाने वाली अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा की आधारशिलाप्रदेश के सरकारी अस्पतालों की मिली 30 बेसिक लाईफ सेविंग एंबुलेंस गाड़ियां
India

कर्नाटक कांग्रेस का मोदी पर निशाना

February 11, 2019 09:54 AM

बेंगलुरू (भाषा) - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लोकसभा चुनाव के लिए कर्नाटक में भाजपा के प्रचार अभियान की शुरुआत करने के कुछ घंटे पहले कांग्रेस ने रविवार को भाजपा से राज्य में गठबंधन सरकार को गिराने के उसके कथित प्रयास के बारे में सवाल किया।

प्रधानमंत्री राज्य के उत्तरी हिस्से स्थित हुबली में शाम में एक रैली को संबोधित करने वाले हैं।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने संवाददाताओं से बातचीत में मोदी के समक्ष कुछ सवाल रखे और उनसे जवाब मांगा।

उन्होंने सवाल किया, ‘‘आपका (मोदी) लोकप्रिय नारा रहा है, ‘ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा। तब आपने कर्नाटक में अपने पार्टी नेताओं को विधायकों की खरीद फरोख्त क्यों करने दिया? क्या आप सत्ता के लिए अनैतिक कदम उठाने को तैयार हैं?’’

उन्होंने सवाल किया, ‘‘आप अपनी पार्टी के नेता (बी एस) येदियुरप्पा के सामने आये एक आडियो क्लिप में बयानों को कैसे उचित ठहराते हैं जिसमें येदियुरपपा ने विधायकों को पाला बदलने के लिए राशि की पेशकश की और न्यायिक प्रणाली पर आपके अवैध नियंत्रण के बारे में बात की।’’

उन्होंने कहा, ‘‘कृपया हुबली के अपने दौरे के दौरान इन जायज सवालों के जवाब दें। इन सवालों की प्रकृति राजनीतिक नहीं है। ये सार्वजनिक महत्व के विचारणीय सवाल हैं, विशेष तौर पर कर्नाटक के लोगों के लिए।’’

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने शुक्रवार को एक आडियो क्लिप जारी किया था जिसमें येदियुरप्पा कथित रूप से जदएस विधायक नागनगौडा को उनके पुत्र के जरिये लुभाने का प्रयास कर रहे हैं। हालांकि प्रदेश भाजपा नेता येदियुरप्पा ने आडियो क्लिप को फर्जीऔर मनगढ़ंत कहानीकरार दिया है।

गुर्जर कोटा आंदोलन का तीसरा दिन: रेल पटरी, राजमार्ग बाधित, हिंसा भी हुई

जयपुर(भाषा) - सरकारी नौकरियों और शिक्षा में पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान में गुर्जर समुदाय का आंदोलन रविवार को हिंसक हो गया। धौलपुर जिले में गोलियां चलने की आवाज सुनाई दी और पुलिस वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। साथ ही, प्रदर्शनकारियों ने राज्य के कई इलाकों में सड़क और रेल यातायात ठप कर दिया।

राज्य प्रशासन ने एहतियात के तौर पर गुर्जर बहुल धौलपुर और करौली जिले में धारा 144 लगा दी है।  अधिकारियों ने बताया कि गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के प्रमुख किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में प्रदर्शनकारी रविवार तीसरे दिन भी सवाई माधोपुर जिले में रेल पटरियों पर बैठे रहें। इसके चलते दिन में कम से कम 20 ट्रेनें रद्द कर दी गईं और सात अन्य के मार्ग में परिवर्तन कर दिया गया।

उनका धरना शुक्रवार शाम शुरू हुआ था और क्षेत्र से होकर गुजरने वाली 250 से अधिक ट्रेनों का आवागमन इसके चलते प्रभावित हुआ है। प्रदर्शनकारियों ने रविवार को बड़े शहरों को जोड़ने वाले राजमार्गों की भी नाकेबंदी कर दी। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक यातायात अवरूद्ध करने के सिलसिले में तीन मामले दर्ज किए गए हैं।

धौलपुर के पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने बताया कि कुछ असामाजिक तत्वों ने आगरा-मुरैना राजमार्ग को अवरूद्ध कर दिया। उनके अनुसार कुछ हुड़दंगियों ने हवा में गोलियां चलाईं। इन लोगों ने पुलिस की एक बस सहित तीन वाहनों को आग के हवाले कर दिया। कुछ जवानों को चोटें भी आई हैं।

करौली की पुलिस अधीक्षक प्रीति चंद्रा ने कहा कि गुर्जरों की बड़ी आबादी को देखते हुए एहतियात के तौर पर जिले में निषेधाज्ञा लगाई गयी है। धौलपुर के एडीएम राजेश वर्मा ने बताया कि एहतियान पूरे जिले में रविवार को धारा 144 लगायी गयी है।

इस बीच, सरकार और आंदोलनकारियों के बीच कोई नया संवाद नहीं हुआ है। हालांकि, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि गुर्जर नेताओं को आगे आकर बातचीत शुरू करनी चाहिए। लेकिन गुर्जर नेता इसके लिए तैयार नहीं दिख रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने जयपुर में कहा,‘‘वार्ता के लिए द्वार खुले हैं। मैं समझता हूं कि उन्हें (आंदोलनकारियों को) खुद आगे आकर बातचीत का सिलसिला शुरू करना चाहिए।’’  आंदोलनकारियों और सरकारी प्रतिनिधिमंडल में शनिवार को हुई बातचीत बेनतीजा रही थी। उसके बाद दोनों पक्षों में कोई संवाद नहीं हुआ है। गुर्जर नेता विजय बैंसला ने रविवार शाम कहा, ‘‘आंदोलनकारी पटरी पर बैठे हैं और उनकी... आंदोलन पर डटे रहने की ही नीति है।’’

बैंसला ने कहा कि शनिवार की बातचीत के बाद सरकार की ओर से उन्हें कोई संदेश या संकेत नहीं दिया गया है। बैंसला ने कहा,‘‘हमें सरकार के साथ कोई बात नहीं करनी है। हम आरक्षण की मांग कर रहे हैं उसे पूरा कर दिया जाए, हम अपने घर चले जाएंगे।’’

Have something to say? Post your comment
 
More India News
कश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिव
मोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोर
जम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैं
जेटली की हालत नाजुक, कोविंद, शाह और योगी पहुंचे एम्स
स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर संबोधन में राष्ट्रपति ने अनुच्छेद-370 के फैसले को सराहा
राहुल ने आरबीआई गवर्नर को पत्र लिखकर बाढ़ प्रभावित केरल के किसानों के लिए राहत की मांग की
आईटीबीपी के पांच कर्मियों को वीरता पदक, उत्कृष्ट सेवाओं के लिए कुल 19 कर्मी पुरस्कृत
राष्ट्रपति ने 132 शौर्य पुरस्कार किए अनुमोदित
हिंदुओं का विश्वास है कि अयोध्या राम का जन्मस्थान है, राम लला के वकील का न्यायालय में तर्क
पहलू खान भीड़ हत्या मामले में छह आरोपी बरी