Follow us on
Sunday, May 26, 2019
Himachal

महिलाओं की विकास में अहम भूमिका - राज्यपाल

March 09, 2019 08:42 AM

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि महिलाओं की देश के विकास तथा संस्कृति के संरक्षण में महत्त्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि देश तभी आगे पड़ सकता है जब महिलाओं को सम्मान मिले तथा उनका सशक्तिकरण सुनिश्चित हो।

राज्यपाल आज यहां सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के तहत महिला एवं बाल कल्याण निदेशालय द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस समारोह के अवसर पर बोल रहे थे।

राज्यपाल ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई देते हुए कहा कि बदलते समय के साथ महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज की है। लिंग समानता पर लगातार बल देने के चलते महिलाओं को हर क्षेत्र नये अवसर उपलब्ध हुए है।

आचार्य देवव्रत ने कहा कि महिलाओं को वेदों में बड़ा सम्मान दिया गया है। वेदों में मिलता है कि जिस समाज में महिला का सम्मान होता है वह स्वर्ग है और जहां महिलाओं की अनदेखी की जाती है वहां नेक काम भी बेकार हो जाते है।

उन्होंने कहा कि भारत की समृद्ध संस्कृति में महिलाओं तथा पुरुष के बीच कोई भेद नहीं किया गया है और यह सब वेदिक काल तक जारी रहा। इस काल में महिलाएं कई क्षेत्रों में पुरुषों से आगे थी और समाज का प्रमुख अंग थी। उन्होंने कहा कि मध्यकाल में भारत पर विदेशी आक्रमणों के कारण महिलाओं की स्थिति में गिरावट आई परन्तु वर्तमान में महिलाओं को समाज में वही सम्मान दिया जा रहा और आज महिलाएं विकास के हर क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। आज महिलाएं देश की सीमाओं की सुरक्षा में अपना योगदान दे रही है और विकास का ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जहां इनकी उपस्थिति न हो।

उन्होंने समाजसुधारक राजा राम मोहन राय, स्वामी विवेकानंद तथा स्वामी दयानंद सरस्वती को याद करते हुए कहा कि इन विभूतियों ने अपने समय में समाज में व्याप्त बुराईयों को दूर करने के लिए अनेक आंदोलन आरंभ किए।

प्रदेश में महिलाओं की स्थिति की चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश में महिलाएं अधिक मेहनती और शिक्षित है और वे खेतों से लेकर बड़े-बड़े पदों पर बेहतर सेवाएं प्रदान कर रही हैं। उन्होंने देव भूमि में नशे के खिलाफ अभियान चलाने महिलाओं की सहयोगिता की आवश्यकता पर बल दिया तथा प्रदेश सरकार की प्राकृतिक खेती को पहल को अपनाने का आग्रह किया।

राज्यपाल ने इस अवसर पर आयोजित विभिन्न प्रतियोगितायों के विजेताओं को भी सम्मानित किया। इस अवसर पर बाल संरक्षक संस्थान टूटीकंडी, पोर्टमोर स्कूल तथा चूड़ेश्वर कलामंच के कलाकारों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। इस दौरान आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ताओं द्वारा विभागीय योजनाओं पर आधारित सांस्कृति कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया।

इससे पूर्व, अतिरिक्त मुख्य सचिव सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता निशा सिंह ने राज्यपाल को सम्मानित किया तथा प्रदेश में महिला कल्याण के लिए आरंभ की गई विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ताओं, सहायक की पोषण अभियान में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सराहना की तथा कहा कि केन्द्र सरकार ने प्रदेश द्वारा इस दिशा में किए गए कार्यों को सराहा है।

उन्होंने कहा कि विभाग स्थानीय उत्पादों को स्वयं सहायता समूह के माध्यम से बढ़ावा दे रही है। उन्होंने प्रदेश में आरंभ की गई प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन योजना के लाभ उठाने का भी आग्रह किया।

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News
माउंट एवरेस्ट फतेह कर तिरंगा फहराने वाले पांचवें लाहुली बने महेंद्र लारजे
मौसम विभाग ने जारी की येलो चेतावनी, 22-23 को भारी बारिश
चम्बा में पिछले 7 दिनों से मलबे में दबी मशीन व ऑप्रेटर का नहीं मिला सुराग
हिमाचल प्रदेश में 5 बजे तक 66 फीसदी मतदान
आखिरी चरण के मतदान में एक बार फिर वोट डालने को तैयार भारत के पहले मतदाता
सोलन में गरजेंगे राहुल गांधी, पुलिस मैदान में होगी जनसभा
प्रियंका ने वीडियो संदेश में मंडी के मतदाताओं से समर्थन मांगा
कांग्रेस ने एटीएम की तरह किया रक्षा सौदों का इस्तेमाल - मोदी
प्रधानमंत्री की मंडी में रैली से मोदी लहर तेज - जयराम ठाकुर
मोदी बिना टीम के कप्तान, राफाल पर संसद में आंख से आंख नहीं मिला पाए - राहुल