Follow us on
Sunday, May 26, 2019
India

राममंदिर पर संघ का दृष्टिकोण बदला नहीं है, मंदिर वहीं और निर्धारित प्रारूप में ही बनेगा - आरएसएस

March 11, 2019 07:17 AM

ग्वालियर (भाषा) - राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) ने रविवार को कहा कि अयोध्या में राममंदिर के निर्माण के बारे में संघ का दृष्टिकोण बदला नहीं है। मंदिर अयोध्या में वहीं और निर्धारित प्रारूप में ही बनेगा। आरएसएस की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की यहां रविवार को समाप्त हुई तीन दिवसीय वार्षिक बैठक के बाद राममंदिर पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में संघ के सरकार्यवाह भय्या जी जोशी ने कहा, ‘‘राममंदिर निर्माण को लेकर हमारी भूमिका निश्चित है। अयोध्या में राममंदिर बनेगा, निश्चित स्थान पर बनेगा और निर्धारित प्रारूप में ही बनेगा। उस पर कोई समझौता नहीं होगा।’’

उन्होंने कहा कि राममंदिर बनने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। उच्चतम न्यायालय द्वारा मध्यस्थता समिति के गठन को लेकर पूछे गये सवाल पर जोशी ने कहा कि संघ ऐसे किसी भी प्रयास का स्वागत करता है। न्यायालय और सरकार से संघ की अपेक्षा है कि मंदिर निर्माण की बाधाओं को शीघ्रातिशीघ्र दूर किया जाए। ऐसी अपेक्षा है कि समिति के सदस्य हिन्दू भावनाओं को समझकर आगे बढ़ेंगे।

उन्होंने कहा कि सत्ता संचालन में बैठे लोगों का राममंदिर को लेकर विरोध नहीं है, और उनकी प्रतिबद्धता को लेकर भी कोई शंका नहीं है। जब उनसे सवाल किया गया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की ओर से राममंदिर निर्माण के लिए क्या कोई कदम नहीं उठाए गये, तो इस पर जोशी ने कहा, ‘‘सरकार ने मंदिर का विरोध नहीं किया। सरकार से आशा थी कि वह राममंदिर के लिए अध्यादेश लाएगी, लेकिन नहीं ला सकी। इसके बाद भी सरकार मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है।’’

श्री-श्री रविशंकर को इस मामले में मध्यस्थता के लिए शामिल किये जाने पर उन्होंने कहा कि वे यह काम करें और सब पक्षों की बातें सुनें। सूत्रों के अनुसार इस बैठक में राममंदिर मुद्दे पर विस्तृत चर्चा की गई।

Have something to say? Post your comment
 
More India News
नये भारत के निर्माण के लिए हम अब नयी यात्रा शुरू करेंगे - मोदी
सूरत अग्निकांड में मानवाधिकार आयोग ने गुजरात सरकार को नोटिस जारी किया
कार्य समिति ने राहुल के इस्तीफे की पेशकश ठुकराई, पार्टी में बदलाव के लिए अधिकृत किया
जम्मू और लद्दाख के लोग जल्द से जल्द अनुच्छेद 370 और 35ए हटवाना चाहते हैं - भाजपा
राष्ट्रपति ने 16वीं लोकसभा भंग की
कोचिंग सेंटर में आग से छात्र-छात्राओं समेत 21 की मौत, 3 की जान कूदने से गई
लोस चुनाव - दिल्ली से एक बार फिर सिर्फ एक महिला बनी सांसद
बंगाल में भाजपा को तृणमूल के मुकाबले तीन गुना डाक मत मिले
197 सांसद 2019 में दोबारा चुनकर आये
शिवसेना ने लोकसाभा चुनाव में राजग की जीत के बाद विपक्ष पर साधा निशाना