Follow us on
Thursday, March 21, 2019
BREAKING NEWS
Business

अपीलीय न्यायाधिकरण ने संपत्ति बिक्री से प्राप्ति को लेकर आरकॉम के कर्जदाताओं को फटकार लगायी

March 12, 2019 07:04 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने कर्ज में डूबी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) के प्रमुख कर्जदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) समेत अन्य वित्तीय संस्थानों की सोमवार को खिंचाई की। न्यायाधिकरण ने कहा कि बैंकों ने दूरसंचार कंपनी की संपत्ति रिलायंस जियो को बेचकर 37,000 करोड़ रुपये प्राप्त होने को लेकर गलत एहसास दिलाया।

चेयरमैन न्यायाधीश एस जे मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ ने रिलायंस कम्युनिकेशन को कर्ज दे रखे बैंकों खासकर एसबीआई को फटकार लगायी और यह पूछा कि इसके लिये उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं शुरू की जानी चाहिए।

पीठ ने कहा, ‘‘आपने जो बातें कही, उसे पूरा करने में विफल रहे। संयुक्त कर्जदाता समूह विफल रहा है। कोई बिक्री नहीं हुई। पीठ के अनुसार कर्जदाताओं ने संपत्ति बिक्री के जरिये करीब 37,000 करोड़ रुपये की वसूली को लेकर एनसीएलएटी को ‘सब्जबाग’ दिखाये लेकिन कुछ नहीं हुआ।

एनसीएलटी ने कहा, ‘‘आपने आरकॉम के साथ बैठकर तालियां बजायी और दावा किया कि आप रिलायंस जियो को संपत्ति बेचकर करीब 37,000 करोड़ रुपये जुटा लेंगे...पहले आपने प्रतिदिन करोड़ रुपये के नुकसान की बात कही थी।’’

न्यायाधिकरण ने कहा कि संपत्ति बिक्री से राशि प्राप्त करने में विफल रहने के बाद कर्जदाता अब कंपनी को आयकर रिफंड से प्राप्त 260 करोड़ रुपये की वसूली में लगे हैं। एनसीएलएटी आर कॉम की याचिका पर सुनवाई कर रही है जिसमें उस पर चार फरवरी को लगायी गयी रोक को हटाने का आग्रह किया गया है।

हालांकि, उसके कर्जदाता एरिक्सन को 550 करोड़ रुपये देने के लिये आयकर रिफंड जारी करने की अर्जी का विरोध कर रहे हैं। अपीलीय न्यायाधिकरण ने कर्जदाताओं से पूछा कि आखिर उच्चतम न्यायालय के आदेश के तहत क्यों नहीं आयकर रिफंड जारी करने के निर्देश दिये जाने चाहिए।

एनसीएलएटी ने सभी कर्जदाताओं से इस बारे में दो पृष्ठ का जवाब देने को कहा। मामले की अगली सुनवाई मंगलवार को होगी।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
रीयल एस्टेट क्षेत्र पर जीएसटी के नए कर ढांचे की अनुपालन योजना को जीएसटी परिषद की मंजूरी
भारत, अफ्रीकी देश मुक्त व्यापार करार की संभावनायें तलाशें - प्रभु
कुपोषण से कमजोर बच्चों का अनुपात वार्षिक 2% की दर से घटा
देश का इंजीनियरिंग निर्यात 2025 तक 200 अरब डॉलर पर पहुंचाने का लक्ष्य
सेंसेक्स 269 अंक की छलांग से 38,000 अंक के पार
भारत में 3,000 लोगों को नियुक्त करेगी सीबीआरई
रिजर्व बैंक प्रणाली में पांच अरब डॉलर की नकदी डालेगा
खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से फरवरी में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 2.57 प्रतिशत पर पहुंची
सालाना 72.6 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है देश में डेटा उपभोग - एसोचैम
सुस्त मांग से सोना फिसला, चांदी में तेजी