Follow us on
Friday, April 19, 2019
World

असांजे गिरफ्तार, जमानत शर्तों के उल्लंघन का पाया दोषी

April 12, 2019 09:46 AM

लंदन (भाषा) - ब्रिटेन की एक अदालत ने बृहस्पतिवार को विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को अपनी जमानत शर्तों का उल्लंघन किये जाने का दोषी पाया। असांजे को सात वर्षों के बाद लंदन स्थित इक्वाडोर दूतावास से गिरफ्तार कर लिया गया। दक्षिण अमेरिकी देश ने असांजे को दी गई शरण को वापस ले लिया जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। इक्वाडोर के राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें ऐसे किसी देश में प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा जहां उन्हें यातना या मौत की सजा का सामना करना पड़ेगा।

डिस्ट्रिक्ट जज माइकल सनो ने असांजे को जमानत शर्तों का उल्लंघन करने का दोषी पाया और उन्हें प्रत्यर्पण सुनवाई के लिए दो मई को वीडियोलिंक के जरिये पेश होने का आदेश दिया। ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने असांजे को गिरफ्तार किये जाने की संसद में पुष्टि की और इसे ‘‘कानूनी मामला’’ बताया क्योंकि असांजे को अब ‘‘कंप्यूटर अपराधों से संबंधित आरोपों में अमेरिका के प्रत्यर्पण की कार्रवाई का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘उन्हें अमेरिका के अधिकारियों के प्रत्यर्पण अनुरोध के संबंध में भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘इससे पता चलता है कि ब्रिटेन में कानून से ऊपर कोई नहीं है। आस्ट्रेलिया में जन्मे 47 वर्षीय असांजे लगभग सात वर्षों तक लंदन स्थित इक्वाडोर दूतावास में रहे।

मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने एक बयान में कहा, ‘‘उन्हें (असांजे) मध्य लंदन के पुलिस थाने में हिरासत में लिया गया है। वेस्टमिन्सटर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किये जाने से पहले उन्हें इसी थाने में रखा जायेगा। इसी अदालत द्वारा 29 जून, 2012 को जारी किये गए वारंट पर आत्मसमर्पण करने में विफल रहने के बाद असांजे को गिरफ्तार किया गया है।

ब्रिटिश सरकार ने गिरफ्तारी का स्वागत किया है और इसे ब्रिटेन और इक्वाडोर के बीच ‘‘व्यापक वार्ता’’ का परिणाम बताया है। ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जावेद ने ट्विटर पर जारी एक बयान में कहा, ‘‘लगभग सात वर्षों के बाद इक्वाडोर दूतावास में गये, मैं पुष्टि कर सकता हूं कि असांजे अब पुलिस हिरासत में है और अब उसे ब्रिटेन में मुकदमे का सामना करना होगा। मैं इक्वाडोर को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद देता हूं। कानून से ऊपर कोई नहीं है।’’

ब्रिटेन के विदेश मंत्री जेरेमी हंट ने अपने बयान में कहा कि असांजे ‘‘हीरो’’ नहीं है क्योंकि वह कई वर्षों तक सच्चाई से छिपता रहा। इक्वाडोर के राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो ने कहा कि देश ने असांजे को दी गई शरण को वापस ले लिया है। मोरेनो ने कहा, ‘‘एक संप्रभु फैसले में इक्वाडोर ने अंतरराष्ट्रीय संधियों और दैनिक जीवन प्रोटोकॉल के बार-बार उल्लंघन के बाद जूलियन असांजे को दी गई शरण वापस ले ली।’’

47 वर्षीय असांजे पर आरोप है कि उन्होंने अमेरिका से संबंधित गोपनीय दस्तावेजों को सार्वजनिक किया था। यौन उत्पीड़न और बलात्कार के आरोपों में स्वीडिश अधिकारी उनसे पूछताछ करना चाहते थे जिसके बाद असांजे ने दूतावास में शरण मांगी थी।

इस बीच, एएफपी की खबर के अनुसान विकिलीक्स ने इक्वाडोर पर उसके सह संस्थापक जूलियन असांजे को दी गई शरण को ‘‘अवैध रूप’’ से वापस लेने का बृहस्पतिवार को आरोप लगाया और कहा कि लंदन में इक्वाडोर के राजदूत ने उन्हें गिरफ्तार करने के लिए ब्रिटिश पुलिस को आमंत्रित किया था।

विकिलीक्स ने ट्विटर पर कहा, ‘‘इक्वाडोर ने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करते हुए अवैध रूप से असांजे को दी गई राजनीतिक शरण को खत्म कर दिया। उन्होंने कहा,‘‘ ब्रिटिश पुलिस को दूतावास में बुलाया गया और उन्हें तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया। इक्वाडोर के राष्ट्रपति मोरेनो ने कहा कि असांजे को मौत की सजा के प्रावधान वाले देश में प्रत्यर्पित नहीं किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि असांजे को ऐसी किसी भी देश में प्रत्यर्पित नहीं किया जायेगा जहां उसे ‘‘यातना या मौत की सजा का सामना करना पड़े। मोरेनो ने सोशल मीडिया पर जारी एक वीडियो संदेश में कहा, ‘‘मैंने ग्रेट ब्रिटेन से इस बात की गारंटी मांगी है कि असांजे को किसी भी ऐसे देश में प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा जहां उन्हें यातना या मौत की सजा दी जा सकती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ब्रिटिश सरकार ने लिखित में इसकी पुष्टि की है’’ कि वे इस बात को पूरा करेंगे। वर्ष 2010 में असांजे पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली एक स्वीडिश महिला की वकील ने कहा कि वह और उनकी मुवक्किल स्वीडिश अभियोजकों से जांच को फिर किये जाने के लिए कहेंगे। यह जांच 2017 में बंद कर दी गई थी।

रूस ने असांजे को ब्रिटेन में गिरफ्तार किये जाने की निंदा करते हुए इस कदम को लोकतांत्रिक स्वतंत्रता के खिलाफ एक कदम बताया और ब्रिटेन से उनके अधिकारों का सम्मान किये जाने का आह्वान किया। भगोड़े अमेरिकी व्हिसलब्लोअर एडवर्ड स्नोडेन ने असांजे को गिरफ्तार किये जाने की निंदा करते हुए इसे ‘‘प्रेस की स्वतंत्रता के लिए एक काला दिन’’बताया है।

अमेरिकी सरकार की व्यापक सर्विलांस गतिविधियों के बारे में मीडिया को हजारों दस्तावेजों के लीक होने के बाद 2013 में स्नोडेन रूस भाग गये थे। असांजे को गिरफ्तार किये जाने की अनुमति देने के निर्णय के बाद इक्वाडोर के पूर्व नेता राफेल कोरेया ने मौजूदा राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो को एक विश्वासघाती बताया।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
अजहर मामला - तकनीकी रोक हटाने के लिए कोई समय सीमा नहीं मिली - चीन
पाकिस्तान में आंधी, तूफान के कारण 39 लोगों की मौत
पाक मानवाधिकार आयोग ने हिन्दू व ईसाई लड़कियों के जबरन धर्मांतरण पर चिंता जताई
पेरिस : नॉत्रे डेम कैथेड्रल में लगी भीषण आग, शिखर जलकर हुआ खाक
यूरोप में हमलों की योजना बना रहा है इस्लामिक स्टेट - ब्रिटिश समाचार पत्र
पाकिस्तानी सीनेट की समिति ने आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई पर सरकार से रिपोर्ट मांगी
पाकिस्तान ने देश में यूएनएससी 1267 प्रतिबंध लागू करने के लिए दिशानिर्देश जारी किया
इजराइल के पांचवी बार प्रधानमंत्री बन सकते हैं नेतन्याहू
फेसबुक, गूगल पर आपत्तिजनक ऑनलाइन सामग्री पर कार्रवाई के लिए बढ़ा दबाव
पाकिस्तानी अल्पसंख्यक समूहों ने व्हाइट हाउस के सामने किया प्रदर्शन