Follow us on
Sunday, August 18, 2019
Haryana

सरकार कर रही छात्र संख्या कम होने का बहाना बनाकर प्रदेश में स्कूल बन्द

May 15, 2019 02:00 PM
Jagmarg News Bureau

पंचकूला - सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने छात्र संख्या कम होने का बहाना बनाकर 906 प्राथमिक स्कूलों व 338 साईंस संकाय के सीनियर सेकेंडरी को बंद करने के निर्णय की घोर निन्दा की है। संघ का कहना है कि सरकारी स्कूल बन्द करना विकास का नही,विनाश का मॉडल है, जिसका सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा व हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ हरियाणा इसका डटकर विरोध करेंगा। उल्लेखनीय है कि सरकार पहले भी हजारों स्कूलों को बंद कर चुकी है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने शिक्षा विभाग में कार्यरत शिक्षको, प्राध्यापको व अन्य कर्मचारियों के सभी संगठनों से व्यापक एकता के साथ सरकार के स्कूल बंद करने के निर्णय के खिलाफ आन्दोलन छेड़ने का भी आह्वान किया है।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान धर्मबीर सिंह फौगाट, महासचिव सुभाष लांबा व प्रवक्ता इन्द्र सिंह बधाना ने बताया कि  सरकार द्वारा सरकारी स्कूलों को बन्द करना विकास का नही विनाश का मॉडल है। भाजपा सरकार आम गरीब जनता के अप्रत्यक्ष टैक्सो से भरा खजाना व जनता की मेहनत की कमाई को कुछ अमीर प्राईवेट स्कूलों के मालिको को लुटा देना चाहती है। यह सर्व मान्य सत्य होते हुए भी कि शिक्षा जितनी महंगी होगी, जनता उतनी अनपढ़ होगी, ऐसा धोखा किया जा रहा हैं।

महासचिव सुभाष लांबा ने बताया कि छात्र संख्या कम होने की आड में स्कूलो को बंद करने की बजाय स्कूलों में सुविधा बढाकर संख्या बढाए। इन स्कूलों के पहले से ही हासिये पर बच्चे किसी भी तरह पड़ोस के गांवों के स्कूलों में नहीं जा सकते हैं। इसी तरह पहले से ही जनसंख्या के अनुपात में बहुत कम साईंस संकाय के सरकारी स्कूल हैं। जरूरत तो इन्हे केन्द्र स्तर पर करने की है, परन्तु सरकार इन्हे भी बंद कर गरीब बच्चों से साईंस की पढाई छीन लेना चाहती हैं। इसे प्रदेश का अध्यापक, कर्मचारी व अभिवावक कभी सहन नहीं करेगा।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, कोषाध्यक्ष राजेंद्र सिंह बाटू व आडीटर सतीश सेठी ने बताया कि भाजपा के स्वच्छता अभियान के ढकोसले के बावजूद लगभग 80 प्रतिशत प्राथमिक विद्यालयों में कोई सफाई कर्मचारी ही नहीं हैं। इतनी गंदगी व अव्यवस्था इस सरकार से पहले कभी नहीं रही हैं। उन्होने कहा सवा साल से बच्चो की प्रोत्साहन राशि बकाया है।

पदोन्नति जो साल में दो बार होनी होती है, पांच साल में एक बार ही वह भी अधूरी जारी हुई है। उन्होंने आगे बताया कि प्राथमिक शिक्षको का पिछले 5 साल में भाजपा सरकार ने एक मात्र असफल सामान्य तबादला किया है, जिसकी त्रुटियां आज तक ठीक नहीं की गई हैं व अंतर जिला तबादलो में पुरी तरह फैल है। सक्षम के नाम पर हजारो करोड का बजट एनजीओ के हवाले किया जा चुका है व आगे करने की तैयारी है। परन्तु स्कूलों के एक रूपये की भी ग्राण्ट आज तक जारी नहीं हुई है, जबकि स्कूल हजारो रूपये इनके पेपरो व अन्य कामो पर खर्च कर चुके हैं। उल्टा स्कूलो को बदनाम किया जा रहा है।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
नव हरियाणा का निर्माण कर विकसित देशों की तर्ज पर एक मॉडल विकसित राज्य बनाना हैं - मनोहर लाल
अच्छे लोगों का भाजपा में स्वागत - अमित शाह
गीतिका जाखड़ को विश्व खेल कुश्ती (पुलिस) में स्वर्ण पदक
प्रदेश के सरकारी अस्पतालों की मिली 30 बेसिक लाईफ सेविंग एंबुलेंस गाड़ियां
पुलिस महानिदेशक बीके सिन्हा राष्टपति पुलिस पदक से सम्मानित दीपेन्द्र सिंह ढेसी हरियाणा बिजली विनियामक आयोग के नए अध्यक्ष नियुक्त
16 अगस्त से पंचकूला में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा का राज्य प्रतिनिधि सम्मेलन
लिंगानुपात में पंचकूला जिला प्रदेशभर में प्रथम स्थान
स्वतंत्रता दिवस के पहले हरियाणा पुलिस के कडे सुरक्षा इंतजाम
प्रदेश में आरम्भ की गई 7 स्टॉर रेनबो स्कीम कारगर सिद्घ - ओम प्रकाश धनखड़