Follow us on
Friday, July 03, 2020
BREAKING NEWS
भारत में 90 लाख से अधिक लोगों की कोविड-19 जांच हुईसीएपीएफ में जल्द ही अधिकारी के रूप में भूमिका निभाएंगे ट्रांसजेंडर, प्रक्रिया हुई तेजचीनी ऐप पर प्रतिबंध डिजिटल हमला - प्रसाददिल्ली दंगे : केन्द्र और दिल्ली के मतभेद के बीच अदालत ने स्कूल मालिक की जमानत पर लगी रोक हटायीवैज्ञानिकों ने कोविड-19 के प्रसार का अनुमान लगाने के लिये मौसम पूर्वानुमान तकनीक का उपयोग कियासेना के अधिकारी ने दुनिया की मुश्किल साइकिल रेस में से एक पूरी कीअप्रैल 2023 से शुरू हो सकता है निजी रेल परिचालन, प्रतिस्पर्धी होगा किराया - रेलवे बोर्ड चेयरमैनसोमवार से खुलेंगे ताजमहल, कुतुब मीनार समेत सभी स्मारक
Himachal

चम्बा में पिछले 7 दिनों से मलबे में दबी मशीन व ऑप्रेटर का नहीं मिला सुराग

May 21, 2019 09:13 AM
Jagmarg News Bureau

चम्बा-मंगला मार्ग में रविवार की रात को एक बार फिर तांन्त्रिक विधि से मलबे में दबी मशीन व उसके ऑप्रेटर को तलाशने का प्रयास किया गया लेकिन एक बार फिर से प्रभावित परिवार का यह प्रयास उम्मीद पर खरा नहीं उतर पाया। परिणामस्वरूप सातवें दिन यानी सोमवार को भी पूरा दिन घटना स्थल पर मशीन व उसके ऑप्रेटर को तलाशने का अभियान चलता रहा लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी।

प्रभावित परिवार ने पी.डब्ल्यू.डी. के हाथ सौंपा सर्च ऑप्रेशन

अब तो लापता मशीन के परिवार ने भी सोमवार को इस सर्च ऑप्रेशन को लोक निर्माण विभाग के निर्देश के अनुरूप अंजाम देने में ही बेहतरी समझी। इससे पहले वे अपनी मर्जी से इस सर्च ऑप्रेशन को अंजाम देने में दिन-रात जुटे रहे लेकिन सभी प्रकार के प्रयास करने के बाद भी सफलता न मिलने के चलते अब उनकी हिम्मत भी टूटती हुई नजर आने लगी है। अफसोस की बात है कि उक्त मार्ग पर गिरा मलबा पूरी तरह से हटा दिया गया है लेकिन मशीन व ऑप्रेटर का अभी तक कोई सुराग तक नहीं मिला है।

घटनास्थल से हटाई जाएगी बची हुई मिट्टी

सोमवार को यह निर्णय लिया गया कि बची हुई सारी मिट्टी को एक-एक करके हटाया जाए ताकि किसी प्रकार की मन में कोई शंका न रह जाए। सोमवार को भी भारी संख्या में मशीनें जहां मिट्टी खोदने में जुटी रहीं तो वहीं टिप्परों के माध्यम से घटना स्थल पर मौजूद मिट्टी को नई जगह डंप करने की प्रक्रिया को शुरू किया गया है।

पोकलेन मशीन का भी नहीं चला पता

मशीन सहित ऑप्रेटर को मिट्टी के भीतर से खोजने का अभियान दिन-रात चला हुआ है लेकिन हर कोई हैरान है कि इतनी बड़ी पोकलेन मशीन तक का अभी तक पता नहीं चल पाया है। अब तो एन.डी.आर.एफ. टीम के भी हाथ खड़े होते हुए प्रतीत होते हैं क्योंकि वह भी अपने स्तर पर अपनी तकनीक के माध्यम से मशीन व ऑप्रेटर का पता लगाने के सभी प्रयास कर चुकी है लेकिन उसका भी अभी तक लाभ होता हुआ नजर नहीं आया है।

Have something to say? Post your comment
 
More Himachal News
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को परियोजनाओं को तय समय के भीतर पूरा करने के दिए निर्देश हमीरपुर में स्थापित होगा ट्रांसपोर्ट नगर, परिवहन निगम के बेड़े में शामिल होंगी 250 नई बसें - मुख्यमंत्री राज्य में रात्रि 9 बजे से सुबह के 5 बजे तक कफ्र्यू लागू रहेगा - मुख्यमंत्री विकास और पारिस्थितिकी संरक्षण में बेहतर तालमेल ज़रूरी - जय राम ठाकुर मुख्यमंत्री ने पालमपुर तथा कांगड़ा के भाजपा महिला मोर्चा की वर्चुअल रैलियों को संबोधित किया राज्य सरकार विद्यार्थियों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध - मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने भारत-अमेरीका व्यापार परिषद् को संबोधित किया 444 व्यक्तियों को विदेश से हिमाचल प्रदेश लाया गया मुख्यमंत्री ने कोविड महामारी के दौरान युवाओं की भूमिका को सराहा आशा कार्यकर्ता कोरोना महामारी से रोकथाम में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहें हैं - मुख्यमंत्री