Follow us on
Wednesday, July 08, 2020
Business

आरबीआई को उम्मीद, सरकार राजकोषीय मजबूती के रास्ते पर आगे बढ़ती रहेगी

June 07, 2019 07:05 AM
Jagmarg News Bureau

मुंबई (भाषा) - रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने यह उम्मीद जतायी है कि सरकार ‘मोटे तौर पर’ राजकोषीय मजबूती के रास्ते पर आगे बढ़ती रहेगी। उन्होंने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मेदी के पहले कार्यकाल में भी ‘ मोटे तौर पर’ राजकोषीय घाटा लक्ष्य के अनुसार रहा । उल्लेखनीय है कि सरकार ने आर्थिक वृद्धि में कमी को देखते हुए सरकार को खासकर पहले पांच साल के अंतिम हिस्से में राजकोषीय लक्ष्यों को फिर से निर्धारित करना पड़ा।

दास ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘सरकार ने मोटे तौर पर राजकोषीय घाटे को लक्ष्य के अनुसार बनाये रखा है और हम आने वाले समय में भी इस सूझबूझ की उम्मीद करते हैं।’’ रिजर्व बैंक राजकोषीय घाटे को लेकर काफी सतर्क हैं क्यों कि इसका मूल मुद्रास्फीति (कोर इनफ्लेशन) तथा वृहत आर्थिक स्थिरता पर प्रभाव पड़ता है।

दास ने कहा कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में राजकोषीय घाटा 4.5 प्रतिशत से 3.4 प्रतिशत पर आ गया। उल्लेखनीय है कि मौद्रिक नीति समीक्षा में राजकोषीय मजबूती के बारे में कोई जिक्र नहीं है। समीक्षा में कहा गया है कि राजनीतिक स्थिरता सकारात्मक कारकों में से एक है जो आर्थिक वृद्धि को गति देने में मदद करेंगे।

आर्थिक वृद्धि दर मार्च तिमाही में 5.8 प्रतिशत रही जो पांच साल के निम्न स्तर पर है। वहीं पूरे वित्त वर्ष 2018-19 में यह 6.8 प्रतिशत रही।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
इन्फोसिस के अमेरिका में फंसे 200 से अधिक कर्मचारी, उनके परिवार चार्टर्ड विमान से भारत पहुंचे चीन, नेपाल के बीच सीमा खोली गई, व्यापार हुआ शुरू मोटरसाइकिल क्षेत्र का प्रदर्शन अन्य वाहन खंडों की तुलना में बेहतर रहेगा - फिच प. बंगाल में बेरोजगारी की दर 6.5 प्रतिशत, देश की तुलना में कहीं बेहतर - ममता भारत का 59 चीनी ऐप पर रोक का कदम चीन की कार्रवाई का प्रभावी जवाब - विशेषज्ञ अप्रैल 2023 से शुरू हो सकता है निजी रेल परिचालन, प्रतिस्पर्धी होगा किराया - रेलवे बोर्ड चेयरमैन जीएसटी संग्रह जून में 90,917 करोड़ रुपये रहा, पहली तिमाही में राजस्व 59 प्रतिशत घटा चीनी एप पर रोक: टिक टॉक ने कहा सरकारी आदेश का पालन करने की प्रक्रिया में है लॉकडान की वजह से महाराष्ट्र से चीनी निर्यात प्रभावित विश्वबैंक ने शिक्षा में सुधार के लिये करीब 3,700 करोड़ रुपये के कर्ज को मंजूरी दी