Follow us on
Friday, July 10, 2020
BREAKING NEWS
अमेरिकी सांसदों ने चीन द्वारा कोविड-19 का फायदा उठाने के प्रयासों की जांच की मांग कीकोरोना वायरस से उबरने के बाद पीजीए टूर में साथ में खेलेंगे खिलाड़ीभारत आज भी दुनिया की सबसे खुली अर्थव्यवस्थाओं में से एक - मोदीअकाली दल भी आया मोदी सरकार के खिलाफटमाटर हुआ 60-70 रुपये किलो, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा- आपूर्ति सुधरने के बाद कीमतें सामान्य होंगीवायरस से लड़ने के लिए खायें विटामिन-डी से भरपूर ये 6 चीजेंस्विस सरकार ने कुलदीप बिश्नोई के खातों का ब्योरा देने से पहले जारी किया नोटिसकोरोना वायरस मामलों में वृद्धि के बीच बंगाल के सभी कंटेनमेंट जोन में पूर्ण लॉकडाउन लागू
World

एससीओ शिखर सम्मेलन के इतर मिलेंगे शी और मोदी

June 10, 2019 09:41 AM
Jagmarg News Bureau

बीजिंग (भाषा) - चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग इस सप्ताह बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे जहाँ वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे। यह भारत में आम चुनाव में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद दोनों नेताओं के बीच होने वाली पहली बैठक होगी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने रविवार को यहां घोषणा की कि शी 12 से 16 जून तक किर्गिस्तान और ताजिकिस्तान की राजकीय यात्रा करेंगे। एससीओ शिखर सम्मेलन किर्गिस्तान के बिश्केक में 13-14 जून को होने वाला है। एससीओ चीन के नेतृत्व वाला आठ सदस्यीय आर्थिक एवं सुरक्षा ब्लॉक है। इस समूह में भारत और पाकिस्तान को 2017 में शामिल किया गया था।

लू ने एक बयान में कहा कि 12 से 14 जून तक राष्ट्रपति शी किर्गिस्तान की राजकीय यात्रा पर जाएंगे और एससीओ शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने पिछले सप्ताह कहा था कि दोनों नेता एससीओ शिखर सम्मेलन के इतर मिलेंगे।

मिस्री ने वुहान में पिछले साल शी और मोदी के बीच हुई पहली अनौपचारिक सफल शिखर बैठक को याद किया जिसे द्विपक्षीय संबंधों में एक मील का पत्थर माना जाता है। मिस्री ने कहा, ‘‘यह ध्यान देने योग्य है हमारे नेता पिछले साल अलग-अलग बहुपक्षीय सम्मेलनों में चार बार मिले।’’

उन्होंने कहा कि वे बिश्केक में एससीओ शिखर सम्मेलन के इतर फिर से मिल रहे हैं। मोदी और शी के बीच 27-28 अप्रैल को वुहान में हुई बैठक को मोटे तौर पर द्विपक्षीय संबंधों में सुधार का श्रेय दिया जाता है जिसमें डोकलाम में 73-दिन के गतिरोध के चलते खटास आ गई थी। डोकलाम में दोनों देशों के बीच गतिरोध चीनी सैनिकों द्वारा भारतीय सीमा के करीब उस क्षेत्र में एक सड़क बनाने का प्रयास किये जाने के बाद आया था जिस पर 2017 में भूटान ने भी दावा किया था।

वुहान शिखर सम्मेलन के बाद दोनों देशों ने विभिन्न क्षेत्रों में संबंधों को सुधारने के प्रयासों को आगे बढ़ाया जिसमें एक-दूसरे की सेनाओं के बीच संबंध शामिल हैं। पिछले साल दिसंबर में प्रधानमंत्री मोदी ने अर्जेंटीना में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर राष्ट्रपति शी से मुलाकात की थी और दोनों पड़ोसी देशों के बीच आपसी विश्वास और मित्रता बढ़ाने के संयुक्त प्रयासों पर चर्चा की थी।

शी ने पिछले महीने लोकसभा चुनाव परिणामों की आधिकारिक घोषणा से पहले प्रधानमंत्री मोदी को चुनाव जीतने की ‘‘शुभकामनाएं’’ दी थी। एससीओ शिखर सम्मेलन के बाद चीन के राष्ट्रपति शी ताजिकिस्तान की यात्रा करेंगे। इस बीच सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी आफ चाइना (सीपीसी) के एक प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को भारत की अपनी चार दिवसीय यात्रा समाप्त की और दोनों पक्षों ने परस्पर विश्वास बढ़ाने और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने की प्रतिबद्धता जतायी।

यात्रा के दौरान सीपीसी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख ली शी ने भारत के नये विदेश मंत्री एस जयशंकर और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित अन्य नेताओं से मुलाकात की। ली सीपीसी सेंट्रल कमेटी की पॉलिटिकल ब्यूरो के सदस्य और पार्टी की गुआंगडोंग प्राविंशियल कमेटी के सेक्रेटरी भी हैं।

संवाद समिति शिन्हुआ ने बताया कि ली ने कहा कि दोनों देशों के नेताओं के मार्गदर्शन में चीन..भारत के संबंधों में विकास की मजबूत गति दिखी है और उनकी यात्रा का उद्देश्य नेताओं के बीच बनी महत्वपूर्ण सहमतियों को लागू करना, परस्पर विश्वास बढ़ाना और व्यावहारिक सहयोग को विस्तारित करना है।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
अमेरिकी सांसदों ने चीन द्वारा कोविड-19 का फायदा उठाने के प्रयासों की जांच की मांग की ओली का राजनीतिक भविष्य तय करने के लिए होने वाली एनसीपी की बैठक फिर टली नये दिशा-निर्देश : कक्षाएं ऑनलाइन होने पर विदेशी छात्रों को छोड़ना होगा अमेरिका जिहादियों ने नाइजीरिया में संरा के हेलीकॉप्टर पर की गोलीबारी, दो लोगों की मौत भारत से प्यार करता है अमेरिका - ट्रम्प डब्ल्यूएचओ का कोरोना वायरस के पहले दौर पर ध्यान केंद्रित करने का अनुरोध प्रधानमंत्री राजपक्षे के साथ वार्ता के बाद श्रीलंका के बंदरगाह कर्मियों ने प्रदर्शन समाप्त किया वैज्ञानिकों ने कोविड-19 के प्रसार का अनुमान लगाने के लिये मौसम पूर्वानुमान तकनीक का उपयोग किया अमेरिका में एक दिन में कोविड-19 के एक लाख मामले भी आ सकते हैं सामने - फाउची म्यामां में सैन्य कार्रवाई के भय से हजारों लोगों का पलायन