Follow us on
Sunday, June 16, 2019
Chandigarh

अब शहर में अपराधी का बच पाना होगा नामुमकिन

June 10, 2019 09:49 AM

चंडीगढ़ (दिग्विजय मिश्रा) - सिटी ब्यूटीफुल में हो रहे अपराध को देखते हुए अब शहर के मुख्य स्थानों पर 747 हाईटेक सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहें हैं। जिससे शहर में आपराधिक वारदात को अंजाम देने वाले अपराधियों का बच पाना नामुमकिन होगा। जैसे ही अपराधी किसी भी वारदात को अंजाम देंगे इन हाईटेक कैमरों में कैद होंगे जिन्हे पुलिस बड़ी ही आसानी से खोज निकालेगी।

इन कैमरें की मदद से यूटी पुलिस शहर में हो रहे आपाराधिक घटनाओं पर पूरी तरह से नकेल कसने में कामयाब रहेगी। वहीं इस कैमरे की खास बात यह है कि अगर कोई भी व्यक्ति तेज रफ्तार से वाहन चलाएगा तो कैमरे में उसकी स्पीड भी कैद हो जाएगी और उसके घर चालान पहुंज जाएगा साथ ही इससे सडक़ पर चलने वाले लोगों पर भी नजर बनी रहेगी।

ध्यान रहे कि लगातार तीन बार यातायात नियमों के उल्लंघन पर ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त कर दिया जाएगा। सिटी में लोगों की सुरक्षा पुख्ता करने के लिए सिटी में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल का हाईटेक सिस्टम विकसित करना प्रशासक वीपी सिंह बदनौर का ड्रीम प्रोजेक्ट रहा है। अब सिटी में इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो गया है। करीब 164 करोड़ की लागत से शहर के 40 लोकेशन पर 747 हाईटेक सीसीटीवी कैमरे लगवाए जा रहे हैं। साथ ही ट्रैफिक को नियंत्रित करने के लिए स्पीकर भी लग रहे हैं, जिससे कि लोगों को जाम की सही स्थिति का अंदाजा लग सके। मटका चौक के साथ ही शहर के कई चौक में ये हाईटेक कैमरों के साथ स्पीकर लग चुके हैं। शेष जगहों पर कैमरे लगवाने का काम चल रहा है।

कंपनी के साथ हुआ था करार

छह माह पूर्व चंडीगढ़ प्रशासन ने प्रशासक वीपी सिंह बदनौर के मौजूदगी में भारत इलेक्ट्रानिक्स लिमिटेड (बीईएल) के साथ करार कर लिया था। उस समय कंपनी ने तीन महीने में काम शुरू करने की बात कही थी। जानकारी के मुताबिक, पूरे शहर में आईसीसी को ठीक तरीके से विकसित करने में एक साल से अधिक का समय लग जाएगा। अभी चौक पर कैमरे और स्पीकर लगाने का काम चल रहा है। एडवाइजर मनोज परिदा के मुताबिक शहर की सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए आईसीसी सिस्टम को एक खास तरीके से विकसित कराया जा रहा है। यह सिस्टम ऐसा होगा कि शहर में यह एक इंसान के ब्रेन की तरह काम करेगा।

हाईटेक तरीके से बनाया जाएगा कमांड सेंटर

शहर के जिस-जिस जगह पर कैमरों को लगाने के लिए निर्धारित किया गया है उन जगहों पर कैमरे और स्पीकर लगने के बाद सेक्टर-17 के स्मार्ट सिटी कार्यालय में कमांड ऑफिस बनेगा। यह सेंटर बेहद हाईटेक होगा। शहर के गवर्नमेंट स्कूलों, हास्पिटलों, कम्यूनिटी सेंटरों, वॉटर वर्क्स और ट्यूबवेलों पर कैमरे लगेंगे। फिक्सड और पीटीजेड कैमरों के जरिए इन पर नजर रखी जाएगी। साथ ही स्मार्ट लाइटिंग, स्मार्ट पार्किंग, पब्लिक बाइक शेयरिंग, सीटीयू सर्विसेज, टैक्सी एवं बस सर्विसेज को इस कमांड सेंटर से जोड़ा जाएगा ताकि रीयल टाइम स्टेट्स पता चल सके।

कैसे हर एक वाहन पर रहेगी नजर

इस प्रोजेक्ट के तहत शहर के ट्रैफिक को मैनेज करने के लिए सिटी के विभिन्न ट्रैफिक लाइटों और मुख्य चौकों पर ऑटोमेटिक नंबर प्लेट पहचानने के लिए रेड लाइट वायलेशन डिटेक्शन के लिए और ओवर स्पीड व्हीकल डिटेक्शन सिस्टम के लिए 40 विभिन्न लोकेशन पर 747 कैमरे लगाए जा रहे हैं। 40 लोकेशंस पर अडॉप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम (एटीसीएस) के द्वारा ट्रैफिक लाइटों की मानीटरिंग होगी।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत अब सेक्टर-34 में कामर्शियल हब बनाने की तैयारी
बड़ी स्क्रीन पर आज भारत-पाक मैच दिखाने के लिए है खास इंतजाम
अपने पिता के सपनों की ऊंची उड़ान के कारण ही पूरे विश्व में नाम कमा रहे शुभमन गिल छात्रा से दुष्कर्म के मामले में पीडि़ता के सगे मामा के बेटे को पुलिस ने किया गिर तार चोर पास पुलिस फेल, एक रात में चार वाहन चोरी, केस दर्ज
खुद को प्रोफेसर बता कर पीयू में नैकरी के नाम पर ठगी करने का मामला
महापौर के खिलाफ सफाई कर्मचारी यूनियन ने पीएम,गृहमंत्री सफाई कर्मचारी आयोग,एमपी सहित कई को दी शिकायत
ट्राइसिटी के छात्र जयेश सिंगला ने जेईई एडवांस परीक्षा में हासिल किया 17वां रैंक
पीजीआई में डॉक्टरों की 4 घंटे की हड़ताल से मरीज रहे बेहाल
सब्जी विक्रेता पर हथियारों से हमलाकर लूट करने वाले तीन आरोपी गिर तार