Follow us on
Sunday, August 18, 2019
BREAKING NEWS
अच्छे लोगों का भाजपा में स्वागत - अमित शाहकश्मीर में फोन लाइनें सप्ताहांत तक बहाल हो जाएंगी, स्कूल अगले हफ्ते खुलेंगे - मुख्य सचिवदेशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं - मोदीमोदी ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की घोषणा की, जनसंख्या नियंत्रण और एक राष्ट्र, एक चुनाव पर दिया जोरजम्मू कश्मीर में मीडिया पर पाबंदियां हटाने के मसले पर न्यायालय ने कहा,हम कुछ समय देना चाहते हैंजापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ रियल एस्टेट सैक्टर में निवेश योजना सांझी कीमनाली में स्थापित की जाने वाली अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा की आधारशिलाप्रदेश के सरकारी अस्पतालों की मिली 30 बेसिक लाईफ सेविंग एंबुलेंस गाड़ियां
Business

सरकार ने भ्रष्टाचार, कदाचार के लिए 12 वरिष्ठ आयकर अधिकारियों को बर्खास्त किया

June 11, 2019 09:29 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - सरकार ने भ्रष्टाचार और पेशेवर कदाचार के आरोप में आयकर विभाग के 12 वरिष्ठ अधिकारियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया है। इनमें आयुक्त और संयुक्त आयुक्त स्तर के अधिकारी भी शामिल हैं। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

इस सूची में शामिल एक बर्खास्त संयुक्त आयुक्त के खिलाफ स्वयंभू धर्मगुरु चंद्रास्वामी की मदद करने के आरोपी एक व्यवसायी से जबरन वसूली तथा भ्रष्टाचार की गंभीर शिकायतें हैं।  सूत्रों ने बताया कि इसमें नोएडा में तैनात आयुक्त (अपील) पद के एक आईआरएस अधिकारी भी है। उस पर आयुक्त स्तर की दो महिला आईआरएस अधिकारियों के यौन उत्पीड़न का आरोप है।

एक अन्य आईआरएस अधिकारी ने अपने और अपने परिवार के सदस्यों के नाम पर 3.17 करोड़ रुपये की चल और अचल संपत्ति अर्जित की थी। यह संपत्ति कथित तौर पर पद का दुरुपयोग करके और भ्रष्ट एवं गैर - कानूनी तरीकों से अर्जित की गई थी।इस अधिकारी को समय से पहले सेवानिवृत्ति लेने का निर्देश दिया गया है।

आयकर विभाग के एक आयुक्त के खिलाफ सीबीआई की भ्रष्टाचार रोधी शाखा ने आय से अधिक का मामला दर्ज किया था और उन्हें अक्टूबर 2009 में सेवा से निलंबित कर दिया था। उन्हें भी सरकार ने अनिवार्य सेवानिवृत्त लेने के लिए कहा है।

एक अन्य अफसर जो भ्रष्टाचार और जबरन वसूली में लिप्त था और कई गलत आदेश पारित किए थे। इन आदेशों को बाद में अपीलीय प्राधिकरण ने पलट दिया था। उसे भी सेवा से बर्खास्त किया गया है।  आयुक्त स्तर के एक अन्य अधिकारी पर मुखौटा कंपनी के मामले में एक व्यवसायी को राहत देने के एवज में 50 लाख रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगा था। इसके अलावा उसने पद का दुरुपयोग करके चल / अचल संपत्ति इकट्ठा करने का आरोप लगा था। उसे भी जबरिया सेवानिवृत्ति कर दिया गया है।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
अर्थव्यवस्था की बेहतरी के लिये प्रधानमंत्री कार्यालय के साथ बातचीत जारी - सीतारमण
भारत, चीन अब विकासशील देश नहीं, डब्ल्यूटीओ से लाभ लेने नहीं देंगे - ट्रंप
भारत, रूस 2025 तक 30 अरब डॉलर के द्विपक्षीय व्यापार का लक्ष्य हासिल करने के लिये बढ़ाएंगे सहयोग
जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में विकासात्मक कार्यों के लिए विशेष कार्यबल गठित करेगी रिलायंस - मुकेश अंबानी
टीवी पैनलों की बिक्री गिरी, जीएसटी में कमी की मांग
डीजीसीए ने स्पाइसजेट के दो पायलटों को एक साल के लिये निलंबित किया
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 238.59 अंक मजबूत
स्टेट बैंक के प्रबंध निदेशक दिनेश कुमार का कार्यकाल दो साल बढ़ा
बैंकों ने ब्याज में 0.75% कटौती में से मात्र 0.29 प्रतिशत लाभ ग्राहकों तक पहुंचाया
विजय माल्या ने फिर की भारतीय सरकारी बैंकों का 100% कर्ज चुकाने की पेशकश