Follow us on
Wednesday, July 08, 2020
Chandigarh

शहर के स्लम एरिया में चल रहे 70 प्राइवेट स्कूलों को जल्द मिलेगी यूटी प्रशासन से मान्यता

June 12, 2019 10:11 AM
Jagmarg News Bureau

चंडीगढ़ (सोनिया अटवाल) - यूटी शिक्षा विभाग की ओर से शहर के स्लम एरिया और पेराफेरी में चले रहे 70 के करीब स्कूलों की मान्यता को लेकर चंडीगढ़ प्रशासन को एक रिपोर्ट सौंपी गई है। इस जांच रिपोर्ट के आधार पर चंडीगढ़ में चल रहे 75 स्कूल सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड से मान्यता प्राप्त स्कूल हैं। जबकि 120 के करीब ऐसे स्कूल हैं जो कि बिना मान्यता के चलाए जा रहे हैं। इन गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों के बच्चों को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके इसके लिए प्रशासन की तरफ से स्कूलों को जल्द ही मान्यता दी जा सकती है।

गौरतलब है कि शिक्षा विभाग ने इंस्पेक्शन के बाद गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों से जरूरी जानकारी मांगी है। इसमें स्कूल में पढ़ाने वाले स्टाफ की शैक्षणिक योग्यता, स्कूल परिसर का दायरा, अग्निशमन यंत्रों की उपलब्धता, पानी और बिजली की सुविधा, ट्रांसपोर्ट की सुविधा सहित टीचर्स को मिलने वाली सैलरी तक का ब्यौरा विभाग ने स्कूलों से मांगा हुआ था। इसे स्कूल 24 मई तक विभाग को जमा करा चुके हैं। इन शर्तों को पूरा करने वाली रिपोर्ट तैयार करके अब यूटी प्रशासक को सौंपी जा चुकी है।

अधिकारियों ने स्कूलों में जाकर की जांच:

कुछ समय पहले पेरीफेरी इलाकों में चल रहे इन स्कूलों में बच्चों को किस तरह की सुविधाएं दी जा रही हैं और वर्तमान क्या स्थिति है, आदि बातों को लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारी खुद स्कूलों की इंस्पेक्शन कर चुके हैं। उसके बाद कई स्कूलों से संबंधित जानकारी मांगी गई थी। यदि स्कूल जरूरी शर्तों को समय पर पूरा कर लेते हैं तो इन्हें मान्यता मिल सकती है।

रेजिडेंशियल एरिया में चल रहे स्कूलों पर होगा विचार:

शिक्षा विभाग की टीमों ने शहर के स्लम और कॉलोनियों में गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों की इंस्पेक्शन की। इसमें से कई स्कूल ऐसे भी हैं जहां पर स्कूलों की सुविधाएं स्टूडेंट्स के हित की है और उनके पास टीचिंग स्टाफ भी शैक्षणिक योग्यता को पूरा करता है। लेकिन इनमें से कई स्कूल ऐसे हैं, जो रेजिडेंशियल एरिया में चल रहे हैं, जिस कारण प्रशासन इन्हें मान्यता देने से पहले एक बार विचार कर रहा है।

बीस हजार के करीब स्टूडेंट्स कर रहे हैं पढ़ाई:

शिक्षा विभाग की टीमों द्वारा की गई इंस्पेक्शन में पाया गया है कि 120 गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों में बीस हजार स्टूडेंट्स पढ़ाई कर रहे हैं। यदि यह स्कूल बंद हो जाते हें तो बच्चों के लिए एजुकेशन बहुत मुश्किल हो जाएगी। इसका कारण उस एरिया के स्कूल में पहले से ही स्टूडेंट्स की भरमार है। इसके अलावा कुछ एरिया ऐसे भी है जहां पर स्कूल तीन किलोमीटर से दूर हैं और वहां पर आने-जाने के लिए कोई पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में स्टूडेंट्स मजबूरी में उन स्कूलों का सहारा ले रहे है।

यूटी प्रशासक की मंजूरी का इंतजार:

शिक्षा विभाग की इंस्पेक्शन और स्कूलों द्वारा जरूरी जानकारी उपलब्ध कराने के बाद फाइल तैयार करके प्रशासन के आला अधिकारियों को भेजी गई है। विभागीय सूत्रों की माने तो स्कूलों को मान्यता देने का अंतिम फैसला यूटी प्रशासक के स्तर पर होगा। इसके लिए जल्द ही बैठक की जाएगी। हालांकि प्रशासन के ज्यादातर अधिकारी स्कूलों को मान्यता देने के पक्ष में है।

शहर में चल रहे प्राइवेट स्कूलों की इंस्पेक्शन की गई है। जहां पर स्टूडेंट्स ज्यादा हैं और उनके पास स्कूल चलाने की सुविधाएं हैं उन्हें मान्यता देने पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए प्रशासन को रिपोर्ट भेज दी गई है, लेकिन उसके लिए अभी लंबी प्रक्रिया होना बाकी है - बंसी लाल शर्मा, शिक्षा सचिव।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
ट्राईसिटी में कोरोना वायरस से दो बुजुर्गों की मौत, चंडीगढ़ में पांच नए केस फॉरेस्ट डिपार्टमेंट ने की वन विभाग आपके द्वार पहल की शुरुआत शिक्षा विभाग में संक्रमित मरीजों के मिलने के बाद पुलिस हेडक्वार्टर दो दिनों के लिए बंद चंडीगढ़ में बढ़ा कोरोना वायरस का कहर, एक ही दिन में 21 नए केस चंडीगढ़ में सात नए मामले, धनास के एक ही परिवार के पांच लोग हुए संक्रमित आज से सावन की शुरुआत, शिवालय से दूर रखे बर्तन में चढ़ाया जाएगा जल नेशनल अवार्ड के लिए ऑनलाइन नामांकन करने का अंतिम दिन आज चंडीगढ़ में पांच नए केस, मोहाली में कोरोना वायरस से पांचवीं मौत चंडीगढ़ में चार नए केस, सेक्टर-21 के प्रापर्टी डीलर की रिपोर्ट आई पॉजिटिव पंचकूला में कोरोना वायरस से पहली मौत, 76 साल की बुजुर्ग महिला ने दम तोड़ा