Follow us on
Wednesday, November 20, 2019
Politics

जनता को गुमराह करने में भाजपा का कोई जवाब नहीं - अखिलेश

July 05, 2019 07:11 AM

लखनऊ - समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि लोकलुभावन घोषणाएं करके जनता को गुमराह करने में भाजपा का कोई जवाब नहीं है। पांच साल पहले हुए लोकसभा चुनावों में जनता को अच्छे दिनों का सुनहरा सपना दिखाया गया था। किसानों की कर्जमाफी, फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य डेढ गुना, नौजवानों को नौकरी, मंहगाई, भ्रष्टाचार से छुटकारा जैसे तमाम वादे भी किए गए थे। ये वादे वादे ही रह गए। जनता अच्छे दिनों के फेर में बदहाल होती गई।

भाजपा सरकार का आधा समय व्यतीत होने को है इसलिए यहां भी भाजपा सरकार ने जनता को बहकाने का काम तेज कर दिया है। ताजा मिसाल है दो साल में हर घर को नल से जल देने की और नमामि गंगे का स्मरण कर राज्य सरकार वाहवाही बटोरना चाहती है। केन्द्र सरकार के पांचसाल बीत गए गंगा जी से किए वादे के बावजूद गंगा न तो निर्मल हुई और नहीं उसको मैला करने वाले नालों पर रोक लगी है।

अब 2020 मार्च तक गंगा को निर्मल बनाने का वादा पर कौन विश्वास करेगा? गंगा के साथ यमुना और काली नदी की सफाई भी जरूरी है। तभी अपेक्षित परिणाम मिलते। उत्तर प्रदेश में पेयजल संकट कांफी गंभीर है। बुंदेलखण्ड में बहुत बुरी दशा है। समाजवादी सरकार ने टैंकरो के अलावा तालाबों के पुनरूद्धार का काम भी शुरू किया था।

रिकार्ड संख्या में पौधों का वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का काम किया था। भाजपा सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। यहां तक कि राजधानी लखनऊ के सभी निवासियों को भी शुद्ध पेयजल नहीं मिल पा रहा है। तमाम क्षेत्रों में गंदा या बद्बूदार पानी आने की शिकायतें आम है। कई इलाकों में जलस्तर नीचे जाने से हैण्डपम्प काम नहीं कर पा रहे हैं। आंकड़े बताते हैं कि भारत में प्रतिव्यक्ति जल उपलब्धता प्रतिवर्ष 2 प्रतिशत से भी ज्यादा की दर से घट रही थी।

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
हिन्दू मैरिज एक्ट में बदलाव की मांग को लेकर कंडेला में होगी खाप महापंचायत
जादू-टोने के संदेह में महिला का मुंह काला कर घुमाया, मामले में एसआईटी गठित
नुसरत जहां की हालत में सुधार, अस्पताल से मिली छुट्टी
आज से शुरू होगा संसद का शीतकालीन सत्र, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा
एक देश, एक चुनाव पर राजनीतिक दलों के बीच सर्वसम्मति की जरूरत - सीईसी
कोई मध्यावधि चुनाव नहीं, शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार पूरे पांच साल चलेगी - पवार
ममता बनर्जी ने अयोध्या फैसले पर प्रतिक्रिया करने से परहेज किया
आरटीआई को इतना कमजोर कर दिया गया कि इसके दायरे में किसी के आने का क्या मतलब - कांग्रेस
महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाना क्रूर मजाक - कांग्रेस
कांग्रेस, राकांपा मिलकर फैसला लेंगी - पवार