Follow us on
Wednesday, November 20, 2019
Punjab

अब धान की बजाए मक्की की फसल को प्रोत्साहित करेगी पंजाब सरकार

July 08, 2019 06:45 AM

जालंधर - पंजाब में लगातार गिरता जा रहा भू-जल पंजाब सरकार तथा कृषि माहिरों के लिए चिंता का विषय बन हुआ है। सरकार अब पानी की बर्बादी को रोकने के लिए पुख्ता कदम उठाने के साथ-साथ धान की बजाए मक्की की खेती करने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करेगी। पंजाब कृषि विभाग ने मक्की की खेती के तहत वर्तमान 1.08 हेक्टेयर से 2 लाख हैक्टेयर भूमि लाने के लिए अभियान शुरू किया है। इससे आशा है कि पिछले वर्ष की तुलना में 7,60,000 मीट्रिक टन मक्का (मकई) का उत्पादन होगा, जो पिछले वर्ष की तुलना में 3,46,000 मीट्रिक टन अधिक होगा।

धान की तरह मक्की की फसल को अधिक पानी की अधिक आवश्यकता नहीं होती। दिन ब दिन गिरते जा रहे भू-जल के कारण पंजाब के लिए इसकी खेती लाभदायक होगी। आपको बता दें कि 1 किलो धान के उत्पादन के लिए औसतन 3,700 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। इसके विपरीत, शीतकालीन मक्की की फसल को समान मात्रा में फसल के लिए लगभग 1,222 लीटर पानी की आवश्यकता होती है।पंजाब कृषि विभाग ने धान पर निर्भर जिलों में कुछ किसानों को मुआवजा देने के लिए एक कार्यक्रम शुरू किया है, जो धान से मक्का में बदल जाएगा। विभाग का मानना है कि इस परिवर्तन से धान की पराली जलाने की समस्या को रोकने में भी मदद मिलेगी। विभाग मक्की के बीज पर 90 रुपए प्रति किलो की सब्सिडी भी दे रहा है।

Have something to say? Post your comment
 
More Punjab News
जलियांवाला बाग ट्रस्ट से कांग्रेस का आजीवन अध्यक्ष पद समाप्त - मलिक
पंजाब और हरियाणा में वायु गुणवत्ता खराब
बेरहमी से पीटे गये और मूत्र पीने के लिए मजबूर किये गये दलित व्यक्ति की मौत
स्वास्थ्य मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू ने 308 स्टाफ नर्सों को नियुक्ति पत्र सौंपे
पंजाब सरकार एस.सी. विद्यार्थियों का भविष्य बेहतर बनाने के लिए लगातार यत्नशील-साधु सिंह धर्मसोत
पाकिस्तान से लौटा 2300 श्रद्धालुओं का जत्था
अमेरिका में पंजाब के युवक की गोली मारकर हत्या
पंजाब सरकार गुरु नानक को समर्पित 11 पीठ स्थापित करेगी
डेरा बाबा नानक उत्सव के अंतर्गत करवाए कवि दरबार के दौरान गुरू नानक पातशाह को सत्कार भेंट
कैप्टन अमरिन्दर सिंह वाले पहले जत्थे का पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान द्वारा स्वागत