Follow us on
Monday, November 18, 2019
World

नेपाल सरकार ने दलाई लामा का जन्मदिन मनाने की अनुमति देने से इनकार किया

July 08, 2019 06:52 AM

काठमांडू - नेपाल में दलाई लामा का जन्मदिन मनाने का कार्यक्रम सरकार द्वारा अनुमति नहीं दिये जाने के बाद रविवार को रद्द कर दिया गया। इसे नेपाल में पड़ोसी देश चीन के बढ़ते प्रभाव के एक और संकेत के तौर पर देखा जा रहा है।

नेपाल में करीब 20,000 तिब्बती शरण लिये हुए हैं, लेकिन बीजिंग के दबाव के चलते नेपाल की मौजूदा वाम सरकार शरणार्थियों की गतिविधियों पर सख्त रुख अपनाए हुए है। काठमांडू के सहायक मुख्य जिला अधिकारी कृष्ण बहादुर कटुवाल ने कहा, "अनुमति इसलिये नहीं दी गई क्योंकि वहां शांति और सुरक्षा को लेकर समस्या हो सकती है।"

उन्होंने कहा, "अब कुछ नहीं हो सकता लेकिन हमें अनुचित गतिविधियों और यहां तक कि आत्मदाह की संभावना को लेकर सजग रहना होगा।"  इससे पहले, शनिवार को तिब्बती समुदाय के इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात था। इनमें एक बौद्ध मठ भी शामिल है, जहां दलाई लामा का 84वां जन्मदिन मनाया जाना था।

आयोजन समिति के एक सदस्य ने कहा, "काफी तैयारी की जा चुकी थी, लेकिन आखिर में हमें अनुमति नहीं मिली। सरकार लगातार सख्त बनती जा रही है, हम क्या कर सकते हैं।"  

उन्होंने कहा कि परिवारों ने अपने आध्यात्मिक नेता के जन्मदिन को निजी तौर पर घर पर मनाया।  गौरतलब है कि 10 मार्च 1959 को चीनी शासन के खिलाफ विद्रोह के बाद हजारों तिब्बती शरणार्थी सीमा पार कर नेपाल में आ गए थे, जिसकी वजह से दलाई लामा को शरण मांगनी पड़ी थी।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
गोटबाया राजपक्षे ने श्रीलंकाई राष्ट्रपति चुनाव में जीत दर्ज की - आधिकारिक परिणाम
पाकिस्तान की अदालत ने शरीफ को इलाज के लिये विदेश जाने की अनुमति दी
इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को स्वदेश लाएं यूरोपीय देश - अमेरिका
महाभियोग प्रक्रिया ढकोसला है, अनुमति नहीं दी जानी चाहिए - ट्रंप
अमेरिका की नजरें अब इस्लामिक स्टेट के नये नेता पर - ट्रम्प
पाकिस्तान आतंवादियों को शरण देता है जो अमेरिकी सैनिकों को मारने का प्रयास करते हैं - निक्की हेली
अमेरिका ने इराक में समय पूर्व चुनाव कराने की अपील की
रूसी रक्षा प्रणाली खरीदने पर तुर्की से बातचीत करेंगे ट्रंप
बांग्लादेश पहुंचा चक्रवात बुलबुल, दो लोगों की मौत, 21 लाख लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुंचे
पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने अयोध्या फैसले के समय पर उठाए सवाल