Follow us on
Wednesday, November 20, 2019
Business

सरकारी पेट्रोलियम कंपनियों के आपस में विलय का प्रस्ताव नहीं - धर्मेंद्र प्रधान

July 09, 2019 06:48 AM

नई दिल्ली (भाषा) - पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सोमवार को कहा कि सरकारी तेल-गैस कंपनियों के विलय का कोई प्रस्ताव फिलहाल उनके मंत्रालय के समक्ष विचाराधीन नहीं है। गौरतलब है कि ओएनजीसी ने पिछले साल हिंदुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लि.(एचपीसीएल) में सरकार की हिस्सेदारी खरीदी थी जबकि इंडियन आयल कापोरेशन (आईओसी) और भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लि. (बीपीसीएल) ने गेल इंडिया लि के अधिग्रहण में रुचि दिखायी थी।

प्रधान ने लोक सभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया, 'फिलहाल तेल और गैस क्षेत्र के सरकारी उपक्रमों के विलय का कोई प्रस्ताव मंत्रालय के समक्ष विचाराधीन नहीं है।'  प्रधान ने इससे पहले सात फरवरी 2018 को राज्यसभा में कहा था कि आईओसी और बीपीसीएल ने पेट्रोलियम मंत्रालय को अलग-अलग संकेत दिया है कि वे गेल का अधिग्रहण करना चाहती हैं। इससे उनके कारोबार में तेल शोधन और विपणन के साथ साथ प्राकृतिक गैस का कारोबार भी जुड़ सकता है।

इससे पहले तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2017-18 के बजट में सार्वजनिक क्षेत्र के तेल उपक्रमों के बीच विलय, अधिग्रहण और समेकीकरण के जरिए सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को एक नया समन्वित रूप देने की सरकार की योजना प्रस्तुत की थी। इसके पीछे सोच यह थी कि एकीकृत बड़ी सरकारी कंपनियां देशी-विदेशी पेट्रोलियम कंपनियों का और अच्छी तरह मुकाबला कर सकती हैं और वे बड़े आकार के साथ अधिक बड़ा जोखिम लेने की स्थिति में होंगी।

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
अमेजन, फ्लिपकार्ट के खिलाफ बुधवार को विरोध प्रदर्शन करेंगे देश भर के कारोबारी - कैट
अब मध्यम वर्ग के लिये स्वास्थ्य व्यवस्था बनाने की तैयारी, नीति आयोग ने पेश की रूपरेखा
सीमित दायरे में रह सकता है शेयर बाजार, वैश्विक संकेतों से तय होगी धारणा - विश्लेषक
विदेशी मुद्रा भंडार 448 अरब डॉलर के नये रिकार्ड स्तर पर पहुंचा
बैंकों में जमाकर्ताओं की बीमा सुरक्षा बढ़ायी जाएगी, सहकारी बैंकों के नियम का नया कानून बनेगा - सीतारणम
मानेसर संयंत्र के लिए समाधान तलाशने को लेकर विचार विमर्श - एचएमएसआई
बने फ्लैटों का स्टॉक निकालने में दिल्ली-एनसीआर के बिल्डरों को लगेंगे 44 महीने - रिपोर्ट
किसान अन्नदाता से ऊर्जादाता भी बनें - सीतारमण
बंबई शेयर बाजार में सतर्कतापूर्ण माहौल में कारोबार की नरमी के साथ शुरुआत
प्रधान संयुक्त अरब अमीरात के लिये रवाना, अबू धाबी पेट्रोलियम प्रदर्शनी में होंगे शामिल