Follow us on
Friday, June 05, 2020
BREAKING NEWS
कोरोना वायरस संकट को एक अवसर के रूप में देख रहा है भारत - मोदीकोविड-19: देश में एक दिन में सबसे ज्यादा 9,304 नए मामले, मृतकों की संख्या 6,075 पहुंचीराहुल से बोले राजीव बजाज: कठोर लॉकडाउन से जीडीपी औंधे मुंह गिर गई और अर्थव्यवस्था तबाह हुईश्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक देने में असमर्थ नियोक्ता न्यायालय में अपनी बैलेंस शीट पेश करें - केन्द्रअमेरिकी समाज के संस्थागत नस्लवाद को खत्म करने की जरुरत - संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुखहंगरी कप फुटबाल फाइनल में सामाजिक दूरी के नियम की उड़ी धज्जियांकोरोना वायरस महामारी का कंपनी के कारोबार पर अबतक कोई खास असर नहीं - नेस्ले इंडियासोनू सूद खुद भी कभी खाली हाथ आए थे मुंबई, इसलिए समझते हैं प्रवासियों का दर्द
Business

भारत-अमेरिका व्यापार समझौता जल्द होगा - अमेरिका

October 04, 2019 06:02 AM
Jagmarg News Bureau

नयी दिल्ली (भाषा) - अमेरिका या भारत, दोनों में से किसी भी देश की सरकार ने ऐसा कभी नहीं कहा कि उनके बीच व्यापार समझौता ‘पांच मिनट’ में ही पूरा हो जाएगा। लेकिन दोनों के बीच ऐसी कोई बुनियादी समस्या भी नहीं है कि यह समझौता ना हो सके। अमेरिका ने बृहस्पतिवार को कहा कि दोनों देशों के बीच व्यापार समझौता बहुत जल्द होगा।

अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस ने कहा, ‘‘किसी भी सरकार ने यह नहीं कहा है कि पांच मिनट में व्यापार समझौता हो जाएगा। हमने तो नहीं कहा, ना ही (वाणिज्य) मंत्री पीयूष गोयल ने कहा। तो मुझे लगता है कि यह सब अटकलें हैं। फिर भी हमारा मानना है कि ऐसी कोई बुनियादी समस्या नहीं है कि तेजी से कोई समझौता नहीं हो सकता। हम दोनों एक दूसरे के मुद्दों से भली भांति वाकिफ हैं।’’

रॉस भारत एवं अमेरिका के बीच प्रस्तावित व्यापार समझौते के संबंध में एक सवाल का जवाब दे रहे थे। भारत आर्थिक सम्मेलन में प्रस्तावित व्यापार समझौते पर गोयल ने कहा, ‘‘ यह मामला अब बैठक इत्यादि का समय तय करने और एक दूसरे से मिलने का सवाल ही रह गया है। इसी में यह तय होगा कि कितना समय लगेगा। लेकिन मुझे नहीं लगता कि इसमें कोई बड़ी वजह है जो कि इसे रोक सकती है।’’

उन्होंने कहा कि व्यापार समझौते की घोषणा की वजह से न तो कोई भारतीय व्यापार रुक रहा है, और ना ही इससे भू-राजनीति स्तर अथवा नेताओं के स्तर पर और यहां तक कि व्यापार और व्यवसाय के सतर पर भारतीय संबंधों पर काई असर पड़ रहा है।

यह पूछे जाने पर कि प्रधानमंत्री मोदी की हाल की अमेरिका यात्रा के दौरान यह समझौता क्यों नहीं हो पाया? गोयल ने कहा केवल एक बार के आदान प्रदान से ही व्यापार की दिशा तय नहीं हो जाती है। उन्होंने कहा, ‘‘व्यापार के मामले में भूत, वर्तमान और भविष्य, राजनीतिक गतिविधि, स्थानीय मुद्दे, दीर्घकालिक मुद्दे, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय प्रतिबद्धतायें देखनी होतीं हैं। इसलिये यह बहुत जटिल कहानी है और इस जटिलता में हम काफी बेहतर तरीके से काम कर रहे हैं।’’

Have something to say? Post your comment
 
More Business News
कोरोना वायरस महामारी का कंपनी के कारोबार पर अबतक कोई खास असर नहीं - नेस्ले इंडिया एमएसएमई वर्गीकरण के नये मानदंड जुलाई से होंगे लागू, मंत्रालय ने जारी की अधिसूचना एक देश-एक राशन कार्ड से जुड़े ओडिशा, सिक्किम, मिजोरम - पासवान भारत में लॉकडाउन खुलने की शुरुआत होने से सेंसेक्स 879 अंक उछला, निफ्टी 9,800 अंक से ऊपर कर्जमुक्त कंपनी बनने के लक्ष्य की ओर अग्रसर है रिलायंस - रिपोर्ट तीन भारतीय कंपनियों को नासा से वेटिलेटर विनिर्माण का लाइसेंस मद्रास उच्च न्यायालय ने फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ, सेबी को नोटिस दिया - निवेशक समूह कोरोना ने तोड़ी दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की कमर ओला इलेक्ट्रिक ने एटरगो का अधिग्रहण किया, अगले साल करेगी इलेक्ट्रिक दोपहिया की पेशकश भारतीय अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष में 5 प्रतिशत की गिरावट आएगी - फिच