Follow us on
Friday, October 18, 2019
Punjab

पंजाब के चार विधानसभा उपचुनाव में 33 उम्मीदवार चुनाव मैदान में

October 05, 2019 06:09 AM

चंडीगढ़ - पंजाब में चार विधानसभा क्षेत्रों में 21 अक्तूबर को होने वाले उपचुनाव के लिये नाम वापसी के बाद अब कुल 33 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं और मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल -भाजपा गठबंधन के बीच है ।

राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय के अनुसार फगवाड़ा सीट पर नौ उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनमें कांग्र्रेस के बलविंदर सिंह धालीवाल ,भाजपा के राजेश बग्गा ,आम आदमी पार्टी के संतोष कुमार गोगी, बहुजन समाज पार्टी के भगवान दास, लोक इंसाफ पार्टी के जरनैल सिंह नंगल,दवार नीटू, शिरोमणि अकाली दल ( अमृतसर) के परमजोत कौर गिल शामिल हैं।

प्रवक्ता ने बताया कि मुकेरियाँ हलके के लिए छह उम्मीदवार मैदान में हैं जिनमें आम आदमी पार्टी के प्रो0 गुरध्यान सिंह मुलतानी, कांग्रेस की इन्दु बाला, भारतीय जनता पार्टी के जंगी लाल महाजन, शिरोमणि अकाली दल ( अमृतसर) के गुरवतन सिंह हैं। दाखा सीट पर कुल 11 उम्मीदवार मैदान में हैं जिनमें शिरोमणि अकाली दल के मनप्रीत सिंह इयाली , कांग्रेस के सन्दीप सिंह संधू, आम आदमी पार्टी के अमनदीप सिंह मोहली, लोक इंसाफ पार्टी के सुखदेव सिंह चक्क शामिल हैं। जलालाबाद हलके के लिए सात उम्मीदवार मैदान में हैं लेकिन मुख्य मुकाबला शिरोमणि अकाली दल के डा. राज सिंह डिब्बीपुरा तथा कांग्रेस के रमिन्दर सिंह आवला के बीच है ।

चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों को नाम वापसी के बाद चुनाव निशान अलॉट कर दिए गए हैं। मतदान 21 अक्तूबर को होगा तथा परिणाम 23 अक्तूबर को आयेंगे ।

Have something to say? Post your comment
 
More Punjab News
फ्लोटिंग लाईट एंड साउंड शो के द्वारा रूहानी रंग में रंगा रूपनगर
फर्जी मुठभेड़ों में सिखों की हत्याएं करने वाले पुलिसकर्मियों की रिहाई निंदनीय - सुखबीर
कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा पराली न जलाने वाले प्रगतिशील किसानों के साथ मुलाकात
पर्यावरण के दुश्मनों ने उजाड़े थे पौधे, प्रेमियों ने फिर बसा दिए
कांग्रेस तथा अकाली दल एक सिक्के दो पहलू - आप
फूड सेफ्टी टीमों द्वारा जांच मुहिम ज़ोरों पर-पन्नू
गुट्टका और पान मसाले पर पाबंदी में 1 वर्ष की वृद्धि
लुधियाना में रोमांचक मोटरसाईकल स्टंट शो का आयोजन
पराली जलाने के मामले में जवाबदेही तय करने के आदेश
एक साल बाद भी अमृतसर हादसे के घाव नहीं भरे