Follow us on
Friday, June 05, 2020
BREAKING NEWS
कोरोना वायरस संकट को एक अवसर के रूप में देख रहा है भारत - मोदीकोविड-19: देश में एक दिन में सबसे ज्यादा 9,304 नए मामले, मृतकों की संख्या 6,075 पहुंचीराहुल से बोले राजीव बजाज: कठोर लॉकडाउन से जीडीपी औंधे मुंह गिर गई और अर्थव्यवस्था तबाह हुईश्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक देने में असमर्थ नियोक्ता न्यायालय में अपनी बैलेंस शीट पेश करें - केन्द्रअमेरिकी समाज के संस्थागत नस्लवाद को खत्म करने की जरुरत - संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुखहंगरी कप फुटबाल फाइनल में सामाजिक दूरी के नियम की उड़ी धज्जियांकोरोना वायरस महामारी का कंपनी के कारोबार पर अबतक कोई खास असर नहीं - नेस्ले इंडियासोनू सूद खुद भी कभी खाली हाथ आए थे मुंबई, इसलिए समझते हैं प्रवासियों का दर्द
Punjab

जिले की मंडियों में 9. 63 लाख टन धान आने की उम्मीद - शर्मा

October 06, 2019 07:10 AM
Jagmarg News Bureau

जालंधर - जिला उपायुक्त वरिन्दर कुमार शर्मा ने आज कहा कि जालंधर जिले की अनाज मंडियों में इस बार 9़ 63 लाख टन धान आने की उम्मीद है जिसकी खरीद के लिए प्रशासन ने सभी प्रबंध मुकम्मल कर लिए हैं। सांसद चौधरी संतोख सिंह, उपायुक्त वरिंदर कुमार शर्मा और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) नवजोत सिंह महल ने आज धान खरीद की व्यवस्थाओं की समीक्षा करने के लिए भोगपुर अनाज मंडी का दौरा किया।

उन्होंने कहा कि प्रशासन ने जिले में अपेक्षित 9.63 लाख टन धान की खरीद के लिए विस्तृत व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन चालू विपणन सत्र के दौरान धान के हर एक दाने को परेशानी मुक्त तरीके से उठाएगा। जिला उपायुक्त ने कहा कि जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि किसानों की फसल अनाज मंडियों से तुरंत हटा ली जाए।

उन्होंने बताया कि सभी सब डिविजनल मजिस्ट्रेट और पनग्रेन, मार्कफेड, पनसप, पंजाब स्टेट वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन और एफसीआई के जिला प्रमुखों को व्यक्तिगत रूप से खरीद कार्यों का पर्यवेक्षण करने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि किसानों को उपज का समय पर भुगतान करने के लिए अधिकारियों को विशेष निर्देश जारी किए गए हैं ताकि वे अनाज मंडियों में अपनी उपज की बिक्री के लिए किसी भी असुविधा का सामना न करें।

शर्मा ने बताया कि प्रत्येक खरीद केंद्र में धान की गुणवत्ता की निगरानी के लिए किसानों के लिए शेड, पोर्टेबल पानी की आपूर्ति और उपकरण सहित मंडियों में पर्याप्त व्यवस्था की गई है। जिले में धान खरीद के लिए लगभग 78 मंडियों / खरीद केंद्रों को अधिसूचित किया गया है और किसानों से अपील की गई है कि वे नमी रहित अनाज को बाजार में लाएं और धान के ठूंठ को जलाने से बचें, जो एक बड़े पर्यावरणीय खतरे का कारण बनता है।

इस अवसर पर जिला मंडी अधिकारी वरिंदर खेरा, खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक नरिंदर सिंह और अन्य उपस्थित थे।

Have something to say? Post your comment