Follow us on
Friday, October 18, 2019
Chandigarh

मां दुर्गा के दर्पण विसर्जन में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

October 06, 2019 07:17 AM

चंडीगढ़ - कालीबाड़ी और बंग भवन में शुक्रवार को धूमधाम से सिंदूर उत्सव मनाया गया और दोपहर बाद घगगर नदी में माता दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया गया। इस दौरान महिलाओं ने एक दूसरे को सिंदूर लगा मां दुर्गा से सभी के लिए खुशियों की कामना की। कालीबाड़ी में दुर्गा पूजन के महोत्सव पर चले पांच दिवसीय इस महोत्सव में सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया। सेक्टर-47 स्थित काली बाड़ी मंदिर में 15 अक्तूबर से दुर्गा षष्ठमी के अवसर पर विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

इस दौरान विशेष कल्चरल प्रोग्राम में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर कलाकारों ने समां बांधा। इस अवसर पर मंदिर के प्रेजीडेंट नीलकंठ दास ने बताया कि दुर्गा पूजा महोत्सव के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए कोलकाता और स्थानीय कलाकारों ने प्रस्तुति दी। इस कार्यक्रम में 60 से अधिक कलाकारों ने हिस्सा लिया था। मंदिर परिसर में इंटरनेशनल राइफल शूटर आयुषि पोद्यार को 51 हजार रूपये की छात्रवृति दी गई।

गौरतलब है कि पिछले 24 वर्षों से वायु सेना में कार्यरत एवं रिटायर्ड वायु सैनिक मिलकर दुर्गा पूजा का आयोजन करते हैं। नीलकंठ दास ने बताया कि बड़ी संख्या में चंडीगढ़ के विभिन्न क्षेत्रों से एवं वायु सेना में कार्यरत अधिकारियों एवं कर्मचारियों के परिवार यहां इकट्ठे होते हैं और मां दुर्गा की पूजा करते हैं। दुर्गा पूजा के तहत चले इन कार्यक्रमों का शुक्रवार को मां दुर्गा के विसर्जन के साथ समापन हो गया। उन्होंने बताया कि इस बार 60 फुट ऊंचा पंडाल सभी के आकर्षण का केंद्र बना रहा, जिसे कलकत्ता से आए कारीगरों ने करीब 2 महीनें की कड़ी मेहनत से तैयार किया।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
करवाचौथ पर सुहागिनों ने चांद को अघ्र्य देकर पूरा किया व्रत
परेड ग्राऊंड में आज होगा चार दिवसीय सीआईआई फेयर का आगाज़
आज तय होगा किसे मिलेंगे पटाखे बेचने के लाइसेंस
पीएचडी छात्रों को दोगुनी छात्रवृत्ति देने पर आज सिंडीकेट में होगी चर्चा
दिवाली से पहले शुरू होगी डंपिंग ग्राऊंड की खुदाई का काम, बदबू से मिलेगा छुटकारा
बकाया रेंट जमा न कराने पर सीएचबी ने धनास के नौ फ्लैट्स की अलॉटमेंट रद की
चितकारा यूनिवर्सिटी ने दलाई लामा को दी डीलिट की मानद उपाधि
कल से सामुदायिक केंद्रों में लगेंगे मेहंदी के स्टॉल
करवाचौथ के मौके पर शहर के बाजारों में बढ़ गई रौनक
पटाखों की बिक्री के लिए 96 को ही मिलेगा टेंपरेरी लाइसेंस, व्यापारियों में लगी होड़