Follow us on
Friday, June 05, 2020
BREAKING NEWS
कोरोना वायरस संकट को एक अवसर के रूप में देख रहा है भारत - मोदीकोविड-19: देश में एक दिन में सबसे ज्यादा 9,304 नए मामले, मृतकों की संख्या 6,075 पहुंचीराहुल से बोले राजीव बजाज: कठोर लॉकडाउन से जीडीपी औंधे मुंह गिर गई और अर्थव्यवस्था तबाह हुईश्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक देने में असमर्थ नियोक्ता न्यायालय में अपनी बैलेंस शीट पेश करें - केन्द्रअमेरिकी समाज के संस्थागत नस्लवाद को खत्म करने की जरुरत - संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुखहंगरी कप फुटबाल फाइनल में सामाजिक दूरी के नियम की उड़ी धज्जियांकोरोना वायरस महामारी का कंपनी के कारोबार पर अबतक कोई खास असर नहीं - नेस्ले इंडियासोनू सूद खुद भी कभी खाली हाथ आए थे मुंबई, इसलिए समझते हैं प्रवासियों का दर्द
Politics

अयोध्या में राम मंदिर के लिए विशेष कानून बने - उद्धव

October 09, 2019 06:41 AM
Jagmarg News Bureau

मुंबई (भाषा) - शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को अयोध्या के विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ करने के लिए कानून बनाने की मांग की। उन्होंने कहा कि पार्टी के लिए राम मंदिर का मुद्दा राजनीति से ऊपर है और इसका आगामी महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों से कोई संबंध नहीं है।

उद्धव ने 21 अक्टूबर को होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा से गठबंधन के फैसले का बचाव किया जिसमें वह छोटे सहयोगी के रूप में शामिल हुई है। मुंबई के शिवाजी पार्क में मंगलवार रात को शिवसेना की वार्षिक दशहरा रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर पर नहीं बोलने की सलाह दी थी क्योंकि मामला उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है।

उद्धव ने कहा, ‘‘लेकिन यह मामला पिछले 35 साल से लंबित है। अदालतें उस दिन बंद रहती हैं जिस दिन राम ने रावण का वध किया और उस दिन भी जब राम अयोध्या लौटे थे, लेकिन वहां मुद्दा यह है कि क्या राम ने अयोध्या में जन्म लिया था?’’

उन्होंने कहा, ‘‘ कहा जा रहा है कि इस महीने अदालत फैसला दे देगी, अगर ऐसा नहीं होता तो हम अपनी मांग पर अडिग हैं कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए विशेष कानून बनाया जाए। पार्टी अध्यक्ष ने कहा, ‘‘शिवसेना राम मंदिर की मांग राजनीति के लिए नहीं कर रही है। हम इसके लिए प्रतिबद्ध हैं और जब हमें धनुष और बाण चुनाव चिह्न मिला था तब राम मंदिर का मामला भी नहीं था।’’

भाजपा से गठबंधन का बचाव करते हुए उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 को निष्प्रभावी किया गया जो शिवसेना की कई सालों से मांग थी। उन्होंने अपने 35 मिनट के भाषण में कहा, ‘‘अगर भाजपा के साथ नहीं जाते तो क्या मुझे कांग्रेस के पास जाना चाहिए था जिसने अनुच्छेद-370 को निष्प्रभावी करने और देशद्रोह के कानूनों का विरोध किया।’’ शिवसेना प्रमुख ने कहा, ‘‘ अब, अगला एजेंडा समान नागरिक संहिता होनी चाहिए।’’

उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के साथ गठबंधन राज्य के हित में किया गया है। हमें कुछ समझौता करना था। मैं उन शिवसैनिकों से माफी मांगता हूं जिनकी सीट गठबंधन के सहयोगियों को गईं।’’

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
कोरोना वायरस संकट को एक अवसर के रूप में देख रहा है भारत - मोदी कोविड-19 से निपटने में अस्पतालों की समग्र तैयारी की समीक्षा के लिए दिल्ली सरकार ने समिति बनायी मूडीज की रिपोर्ट पर राहुल ने साधा मोदी पर निशाना कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 5,934 हुई, कुल मामले बढ़कर 1,90,535 हुए कोविड-19: भारत सातवां सर्वाधिक प्रभावित देश मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला साल ऐतिहासिक उपलब्धियों से भरा रहा - शाह चीन के साथ सीमा पर हालात के बारे में देश को अवगत कराए सरकार - राहुल महाराष्ट्र में कोरोना से पिछले 24 घंटों में 85 की मौत, 22 पुलिसकर्मी भी शामिल पश्चिम बंगाल में स्कूल 30 जून तक रहेंगे बंद प्रवासी मजदूरों के मामले में सुप्रीम कोर्ट का केंद्र और सभी राज्यों को नोटिस, कहा- मुफ्त में करें मदद