Follow us on
Monday, November 18, 2019
Politics

भाजपा की सोच फासीवादी - गहलोत

October 18, 2019 06:52 AM

जयपुर (भाषा) - राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा पर हमला करते हुए गुरुवार को कहा कि उसकी सोच फासीवादी है और देश में लोकतंत्र को खतरा है । महाराष्ट्र में चुनाव प्रचार कर लौटे गहलोत ने हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से यह बात कही।

गहलोत ने सावरकर को भारत रत्न देने के भाजपा के चुनावी वादे पर कहा, ‘यह इनकी फासिस्ट सोच है। इनको नहीं मतलब कि पब्लिक क्या सोचती है। इनको मतलब नहीं कि दूसरे राजनीतिक दलों के क्या विचार है। डेमोक्रेसी के अंदर आप सत्ता में जरूर हो पर विपक्ष की भावनाओं का भी आदर करना पड़ता है। विपक्ष क्या सोचता है उसको भी तवज्जो देनी पड़ती है।’

गहलोत ने कहा, ‘ उनके लिए विपक्ष के मायने कुछ नहीं है। उनका मतलब है सिर्फ एक पार्टी का शासन हो देश के अंदर चाइना की तरह, बाकी पार्टियां डमी हों कागजों के अंदर और शासन अकेले ही करते जाए।’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘आज देश में लोकतंत्र को खतरा है, देश में डेमोक्रेसी खतरे में है ... अब यह समझें या नहीं समझें एक दिन तो समझना पड़ेगा।’ गहलोत ने कहा, ‘हमारी लड़ाई किसी से नहीं है ना आरएसएस वालों से हैं और ना बीजेपी वालों से। हमारी लड़ाई हैं नीतियों, कार्यक्रमों और सिद्धांतों की उनको भी वही लड़ाई लड़नी चाहिए।’

उन्होंने कहा, ‘हिसाब से तो और पब्लिक को भी उन लोगों पर दबाव देना चाहिए... कि हमारे लिए कर क्या रहे हो, किसानों के लिए क्या कर रहे हो, नौजवानों की नौकरियों के लिए क्या कर रहे हो, ब्लैक मनी लाने की बात की थी उसका क्या हुआ।’

उन्होंने कहा, ‘ आज यह लड़ाई होनी चाहिए थी पर जनता भी नहीं समझ पा रही है। राष्ट्रवाद के नाम पर जैसे कि हम तो राष्ट्रवादी है ही नहीं, खाली भाजपा सर्टिफिकेट देगी जिसे भाजपा सर्टिफिकेट देगी वही राष्ट्रवादी होगा यह कब तक चलेगा?’ राज्य में मंडावा और खींवसर में उपचुनाव में कांग्रेस की जीत का दावा करते हुए गहलोत ने कहा कि 'हमारा पूरा प्रयास है हम जीतेंगे दोनों जगह यह पूरी उम्मीद है हमें। पूरी तैयारियां हैं, पूरा अभियान अच्छा चल रहा है, प्रतिक्रिया अच्छी है जनता की।'

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
आज से शुरू होगा संसद का शीतकालीन सत्र, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा
एक देश, एक चुनाव पर राजनीतिक दलों के बीच सर्वसम्मति की जरूरत - सीईसी
कोई मध्यावधि चुनाव नहीं, शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार पूरे पांच साल चलेगी - पवार
ममता बनर्जी ने अयोध्या फैसले पर प्रतिक्रिया करने से परहेज किया
आरटीआई को इतना कमजोर कर दिया गया कि इसके दायरे में किसी के आने का क्या मतलब - कांग्रेस
महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाना क्रूर मजाक - कांग्रेस
कांग्रेस, राकांपा मिलकर फैसला लेंगी - पवार
यदि कोई और सरकार गठित नहीं करता तो रणनीति की घोषणा करेंगे - राउत
महाराष्ट्र के राज्यपाल ने भाजपा से सरकार बनाने के लिये अपनी इच्छा से अवगत कराने को कहा
लालू यादव की जमानत पर अगली सुनवाई 22 नवंबर को