Follow us on
Tuesday, September 29, 2020
World

पाकिस्तान शैतानी इरादे रखता है - भारत ने यूएनएससी में कहा

January 11, 2020 08:41 AM

संयुक्त राष्ट्र (भाषा) - भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाने पर पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए कहा कि इस्लामाबाद “शैतानी इरादे” रखता है लेकिन उसकी बातों से कोई प्रभावित नहीं होता। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने बृहस्पतिवार को कहा, “शैतानी इरादे रखने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने एक बार फिर झूठ फैलाकर अपनी असलियत दिखा दी है। इसे हम सिरे से खारिज करते हैं।”

अकबरुद्दीन ने कहा, “पाकिस्तान को मेरा आसान सा जवाब यह है कि भले ही देर हो गई हो लेकिन मेरे पड़ोसी, अपना रोग ठीक करिए। आपके झूठ और दुष्प्रचार को यहां कोई मानने वाला नहीं है।” उन्होंने “अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा को और संयुक्त राष्ट्र चार्टर को बरकरार रखने” के विषय पर खुली चर्चा के दौरान ये बातें कहीं।

अकबरुद्दीन की यह तीखी प्रतिक्रिया संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के राजदूत मुनीर अकरम द्वारा परिषद में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाए जाने के जवाब में आई। पाकिस्तानी राजदूत ने अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द करने, कश्मीर में संचार माध्यमों पर रोक लगाने का मुद्दा उठाने के साथ ही विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का भी जिक्र किया जिन्हें पिछले साल फरवरी में भारत और पाकिस्तान के बीच हवाई संघर्ष होने के बाद पाकिस्तान ने कैद कर लिया था।

अकरम ने सुरक्षा परिषद और महासचिव एंतोनियो गुतारेस से “भारत और पाकिस्तान को किसी विनाशकारी युद्ध में जाने से रोकने के लिए निर्णायक कार्रवाई करने” की अपील की। पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा वापस लेने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के लिए भारत के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने की असफल कोशिशें करता रहा है।

भारत के फैसले पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तान ने नयी दिल्ली के साथ अपने कूटनीतिक संबंधों को घटा लिया था और भारत के उच्चायुक्त को निष्काषित कर दिया था। परिषद को दिए अपने बयान में अकबरुद्दीन ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा स्वीकार किया जा रहा है कि 15 राष्ट्रों की सुरक्षा परिषद पहचान एवं वैधता के साथ-साथ प्रासंगिकता एवं प्रदर्शन के संकट का भी सामना कर रही है।

उन्होंने कहा, “दुनिया भर में आतंकी नेटवर्कों का फैलना, नयी प्रौद्योगिकियों को हथियार बनाया जाना, विध्वंसकारी शासन चाहने वालों से निपटने की अक्षमता परिषद की खामियां दिखा रही हैं।” अकबरुद्दीन ने ध्यान दिलाया कि निरंतर परिवर्तित हो रही दुनिया में, अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा की चुनौतियां, उनसे निपटने के लिए बनीं प्रणालियों से एक कदम आगे हैं।

उन्होंने कहा, “अब यह स्पष्ट है कि दुनिया जल रही है। उपलब्ध तंत्रों का उनका महत्व घटाए बिना निष्पक्ष मूल्यांकन करने के लिए हमें खुद से पूछने की जरूरत है - क्या वे चार्टर के मौलिक सिद्धांतों को लागू करने के मकसद से लिए अब भी फिट हैं?”

उन्होंने वैश्विक शांति एवं सुरक्षा के लिए जारी एवं भावी खतरों से निपटने के लिए परिषद को राजनीतिक व्यवस्था का हिस्सा बनने की जरूरत को रेखांकित किया और कहा कि परिषद को वर्तमान वैश्विक वास्तविकताएं दर्शानी चाहिए और मकसद पर खरा उतरना चाहिए।

Have something to say? Post your comment
 
More World News
पाकिस्तान में यात्री बस में आग, 13 की मौत नए दस्तावेजों के अनुसार डेमोक्रेटिक पार्टी कहने पर रूस ने दिया था 2016 के चुनाव में दखल - ट्रंप किम जोंग उन ने दक्षिण कोरियाई अधिकारी की हत्या की घटना पर खेद प्रकट किया वैश्विक महामारी से निपटने के लिये अंतरराष्ट्रीय समन्वय नहीं होने पर विश्व के नेताओं ने चिंता जताई अमेरिका के पास सबसे शक्तिशाली हथियार हैं - ट्रम्प व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर ‘‘भरोसे की कमी का संकट’’ मंडरा रहा : मोदी सुगा ने ट्रम्प से फोन पर की बातचीत बेलारूस : मिंस्क में महिलाओं का प्रदर्शन, 300 से अधिक गिरफ्तार महाभियोग का मतदान पेरू के राष्ट्रपति के पक्ष में रहा ट्रंप संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में डिजिटल रूप से हिस्सा लेंगे- व्हाइट हाउस