Follow us on
Tuesday, September 29, 2020
Politics

जेएनयू घटना की न्यायिक जांच हो - गहलोत

January 12, 2020 08:37 AM

जयपुर (भाषा) - दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हाल ही में हुई तोड़फोड़ एवं मारपीट की घटना की निंदा करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा कि इसकी न्यायिक जांच होनी चाहिए । प्रदेश कांग्रेस कमेटी मुख्यालय में यहां संवाददाताओं से बातचीत में गहलोत ने कहा, 'जेएनयू में नकाबपोश लोग घुसे, पुलिस की देखरेख में घुसे, तांडव मचाया, सरियों से और लाठियों से। बाहर निकले पुलिस घेरे (एस्कार्ट) में। हिंदुस्तान के इतिहास में कभी ऐसी घटना सुनी नहीं होगी जो पुलिस की देखरेख में हुई फिर भी पुलिस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।'

गहलोत ने कहा, 'अभी तक तो  वहां के पुलिस के सभी अधिकारी भी निलंबित होने चाहिए थे, बल्कि निष्कासित होने चाहिए थे नौकरी से। जिनकी निगरानी में गुंडे लोग गए हों नकाब पहनकर के। उनको एस्कार्ट करके बाहर लाया गया हो, इसकी जांच होनी चाहिए।'

उन्होंने कहा, 'इसकी न्यायिक जांच होनी चाहिए कि किसकी शह पर पुलिस वालों की इतनी हिम्मत बढ़ गई कि वे गुंडों को अंदर ले गए, बाहर लाए। किसका इशारा था ऊपर से उसकी भी जांच होनी चाहिए। न्यायिक जांच होनी चाहिए।'

गहलोत ने कहा, ‘‘क्या हो रहा है देश की राजधानी के अंदर सरकार की नाक के नीचे, इसका जवाब देना चाहिए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जवाब देना चाहिए। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि कोटा के एक अस्पताल में नवजात शिशुओं की मौत के मामले में मीडिया ट्रायल हुई और कुछ नेताओं ने राजनीति की जिससे पूरे देश में राजस्थान की बदनामी हुई।

Have something to say? Post your comment
 
More Politics News
देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 60 लाख के करीब पहुंचे, 49 लाख से ज्यादा लोग ठीक हुए मनमोहन की तरह गहराई वाले प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है भारत - राहुल दशकों तक किसानों से ‘खोखले’ वादे करने वाले अब उन्हीं के कंधे पर रखकर बंदूक चला रहे हैं - मोदी कपिल मिश्रा ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई चुनाव लडने के बारे में कोई फैसला नहीं किया है - गुप्तेश्वर पांडेय फिल्म सिटी को लेकर बैठक पर अखिलेश ने किया तंज भारत में 2017 एवं 2018 के दौरान रासुका के तहत 1,200 लोग हिरासत में पिछले 10 वर्ष में सीवर और सेप्टिक टैंकों की सफाई के दौरान 631 लोगों की मौत विपक्ष ने सरकार से एमएसएमई क्षेत्र को राहत देने की मांग की समाजवादी पार्टी ने दिया राज्यपाल को ज्ञापन