Follow us on
Tuesday, August 11, 2020
Chandigarh

रद हो सकती है सीएचबी की नई हाउसिंग स्कीम, कल बोर्ड की बैठक में लिया जाएगा फैसला

January 13, 2020 06:28 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड (सीएचबी) की सेक्टर-53 की सेल्फ फाइनेंसिग हाउसिंग स्कीम को रद किया जा सकता है। इस स्कीम को लांच करने से पहले लोगों का रूझान जानने के लिए जो सर्वे चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड (सीएचबी) ने करवाया है उसमें लोगों का रूझान कम ही देखने को मिल रहा है। स्कीम को खारिज करना है या फिर फ्लैट्स के रेट्स को कम करना है, इसका फैसला बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मंगलवार को होने वाली बैठक में लिया जाएगा। इस स्कीम के डिमांड सर्वे में 148 एप्लीकेशन ही आई हैं। डिमांड सर्वे के तहत आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर, 2019 थी।

बोर्ड की मंगलवार को होने वाली बैठक में यही मुख्य एजेंडा है। सेक्टर-53 में बोर्ड ने 492 फ्लैट के लिए यह स्कीम निकाली है। लेकिन अभी तक फ्लैट जितनी एप्लीकेशन भी सर्वे में नहीं आई। जबकि एप्लीकेशन फ्लैट से कहीं ज्यादा आती तो ही इसे लांच किए जाने की उम्मीद थी। इससे पहले बोर्ड के मेंबर्स ने स्कीम में महंगे फ्लैट होने का हवाला देते हुए ही सर्वे की मांग रखी थी। जिसके बाद 10 हजार रुपये फीस के साथ यह सर्वे कराया जा रहा है। बोर्ड ने सर्वे शुरू करने से पहले ही स्पष्ट किया था कि डिमांड नहीं हुई तो बिना शर्त स्कीम रद कर दी जाएगी। 

एचआईजी के 192 थ्री बेड रूम फ्लैट बनने हैं

स्कीम में हाई इनकम ग्रुप (एचआइजी) के लिए 192 थ्री बेडरूम फ्लैट बनने हैं। इसकी संभावित कीमत बोर्ड ने पहले एक करोड़ 80 लाख रुपये निर्धारित की है। मीडियम इनकम ग्रुप के लिए 100 टू बेडरूम फ्लैट बनाए जाएंगे। इस फ्लैट की अनुमानित लागत सीएचबी ने पहले एक करोड़ 47 लाख रुपये निर्धारित की है। लोअर इनकम ग्रुप के लिए 120 वन बेडरूम फ्लैट बनाए जाएंगे। इसकी संभावित कीमत बोर्ड ने पहले 95 लाख रुपये तय की है। वहीं, 80 ईडब्ल्यूएस कैटेगरी के फ्लैट बनाए जाएंगे।

ध्यान रहे कि पिछले साल 9 अक्टूबर को सीएचबी की तरफ से सेक्टर-53 में 492 फ्लैट की स्कीम लॉन्च की गई। साथ ही आवेदन के लिए एक महीने का समय दिया गया। फ्लैट की कीमत ज्यादा होने की वजह से पहले महीने करीब 60 लोगों ने ही आवेदन किया। इसके बाद सीएचबी की बैठक में यह मुद्दा उठा और फ्लैट्स के दाम कम कर दिए गए। साथ ही आवेदन करने के लिए एक महीने का समय और दिया गया। दाम घटाने के बाद भी शहरवासियों की तरफ से कोई खास रुचि नहीं दिखाई गई।

कम कर दिए गए थे फ्लैट के रेट

ईडब्ल्यूएस को छोड़ बाकी सभी कैटेगरी में फ्लैट के रेट 17 लाख रुपये तक कम किए गए थे। इसके बाद भी फ्लैट आम आदमी की पहुंच से बाहर हैं। हाई इनकम ग्रुप के लिए थ्री बेडरूम फ्लैट 1.80 करोड़ से कम कर अब 1.63 करोड़ रुपये का कर दिया गया था। सबसे ज्यादा रेट इसी फ्लैट का 17 लाख रुपये कम हुआ है। मीडियम इनकम ग्रुप कैटेगरी में टू बेडरूम फ्लैट की कीमत 1.47 करोड़ से कम कर अब 1.36 करोड़ रुपये कर दिया गया था।

एलआइजी वन रूम फ्लैट पांच लाख कम कर 90 लाख कर दिया गया था। वहीं, ईडब्ल्यूएस की कीमत में कोई बदलाव नहीं किया गया था, यह 50 लाख का ही रहेगा। इस स्कीम में अब सीएचबी ने जमीन पर अपने मुनाफे को छोड़ दिया था। इसी वजह से फ्लैट के रेट कम हुए हैं। अब कलेक्टर रेट के हिसाब से ही जमीन का रेट फ्लैट की कीमत में जुड़ेगा। हालांकि फ्लैट कंस्ट्रक्शन पर मुनाफा बोर्ड ने नहीं छोड़ा था।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
राजभवन पहुंचा कोरोना वायरस, राज्यपाल के सचिव और चार कर्मचारी हुए संक्रमित वर्चुअल तरीके से मनेगी जन्माष्टमी, ऑनलाइन होंगे भगवान श्री कृष्ण के दर्शन ट्राईसिटी में दो मौतें, एक दिन में आए 209 नए केस छत पर बिना पैसा खर्च किए लगेगा सोलर प्लांट, बिजली बिल में होगी बचत ट्राईसिटी में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए चार मरीजों की मौत चंडीगढ़ के अगले एसएसपी के लिए एमएचए ने खारिज की प्रशासन की सिफारिश सीएचबी के इंडीपेंडेंट मकानों में अब रख सकेंगे पेइंग गेस्ट ट्राईसिटी में 179 नए केस, चंडीगढ़ के 57 और मोहाली के 68 हुए संक्रमित चंडीगढ़ के 27 हजार लोगों ने सेल्फ असेसमेंट स्कीम के तहत मिली छूट का नहीं लिया लाभ जिस पीयू ने सुषमा स्वराज जैसा यशस्वी नेता दिया उसका चांसलर होने का गौरव मिला - नायडू