Follow us on
Tuesday, February 25, 2020
India

न्यायालय को सरकारी तथा सार्वजनिक वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील करने की याचिका पर नोटिस

January 18, 2020 09:04 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - उच्चतम न्यायालय ने सार्वजनिक परिवहन और सरकारी वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील करने के लिये दायर जनहित याचिका पर शुक्रवार को केंद्र से जवाब मांगा। याचिका में वायु प्रदूषण और कार्बन उत्सर्जन पर लगाम लगाने के लिए सभी सार्वजनिक वाहनों और सरकारी वाहनों को धीरे-धीरे इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील करने की केंद्र की नीति के क्रियान्वयन का अनुरोध किया गया है।

प्रधान न्यायाधीश एस.ए. बोबडे, न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति सूर्य कांत की पीठ ने गैर सरकारी संगठन सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन की ओर से दायर यचिका का संज्ञान लेते हुये केन्द्र को नोटिस जारी किया। सड़क परिवहन मंत्रालय को चार सप्ताह के अंदर नोटिस का जवाब देना है।

याचिका में आरोप लगाया गया है कि सरकार ने सार्वजनिक परिवहन और सरकारी वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील करने की अपनी खुद की नीति का पालन करने के लिए पर्याप्त प्रयास नहीं किए। इस संगठन की ओर से अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने कहा कि यह योजना वायु प्रदूषण पर रोक लगाने और कार्बन उत्सर्जन को सीमित करने के लिए तैयार की गई थी। उन्होने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरियों को ठीक से चार्ज करने के लिये बुनियादी सुविधायें विकसित करने की आवश्यकता है।

पिछले वर्ष मार्च में शीर्ष अदालत ने केंद्र को यह बताने के लिये कहा था कि इस योजना के क्रियान्वयन के लिए उसने अब तक क्या-क्या कदम उठाए हैं। पीठ ने इस याचिका को चार सप्ताह बाद सुनवाई के लिये सूचीबद्ध किया है।

Have something to say? Post your comment
 
More India News
राहुल गांधी ने दिल्ली में हिंसा की निंदा की
22वें विधि आयोग का औपचारिक रूप से गठन
उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए को लेकर झड़पे, हेड कांस्टेबल की मौत
राष्ट्रपति ट्रंप की यात्रा प्रगति-समृद्धि का नया दस्तावेज बनेगी - मोदी
दिल्ली में 69 नव निर्वाचित विधायकों ने विधानसभा सदस्य के तौर पर शपथ ली
कट्टर इस्लामी आतंकवाद से लोगों की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं भारत अमेरिका - ट्रंप
सीएए के खिलाफ प्रदर्शन: जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार बंद
गैंगस्टर रवि पुजारी द अफ्रीका में गिरफ्तार
तीन वर्ष में हुनर हाट में तीन लाख कारीगरों को रोजगार के अवसर मिले - मोदी
निर्भया के दोषियों के पैंतरों से बढ़ रही अधिकारियों की मुश्किलें