Follow us on
Tuesday, February 18, 2020
Chandigarh

चंडीगढ़ को 54 साल बाद मिला सेक्टर 13, शहर के आठ क्षेत्रों के नाम बदलने की अधिसूचना जारी

February 12, 2020 07:45 AM

चंडीगढ़ - 1966 में बने चंडीगढ़ को 54 साल बाद अब सेक्टर 13 मिल गया है जो चंडीगढ़ शहर से मिसिंग था. दरअसल जब से चंडीगढ़ बना है तब से चंडीगढ़ में सेक्टर 13 नहीं है इसका कारण ये है कि सिटी ब्यूटीफुल ( चंडीगढ़) की प्लानिंग करने वाले आर्किटेक्ट ली काबूर्जिए ने किसी भी एरिया को सेक्टर 13 का नाम नहीं दिया था क्योकिं वो इस नंबर को अशुभ मानते थे. लेकिन चंडीगढ़ प्रशासन ने अब नोटिफिकेशन जारी करते हुए यूटी के आठ अलग-अलग एरिया के नाम बदले हैं, जिसमें सेक्टर-13 को भी जोड़ दिया गया है. चंडीगढ़ प्रशासन ने मनीमाजरा को अब सेक्टर-13 (मनीमाजरा) का नाम दिया है.

चंडीगढ़ प्रशासन ने मनीमाजरा को सेक्टर 13 नाम देने का प्रपोजल पेश किया है. जिसको लेकर लोगों से आपत्ति और सुझाव मांगे गए थे. हालांकि लोगों ने आपत्ति जताते हुए जिला अदालत तक का रूख किया था लेकिन मनीमाजरा को सेक्टर-13 बनाए जाने को लेकर लोगों की तरफ से आपत्ति जताने के बाद अब प्रशासन ने सेक्टर-13 के साथ मनीमाजरा भी जोड़ दिया है. अब यह सेक्टर-13 (मनीमाजरा) के नाम से जाना जाएगा. नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अब कागजों पर नए नाम का ही जिक्र होगा.

गौरतलब है कि यूटी प्रशासन की तरफ से नाम बदलने को लेकर शहरवासियों से आपत्ति और सुझाव मांगे गए थे. प्रशासन के पास करीब 60 लोगों ने नाम बदलने को लेकर अपने सुझाव और आपत्तियां दर्ज कराईं. इनमें से ज्यादातर लोग पक्ष में बताए गए. हालांकि, प्रशासन के पास चंडीगढ़ में सेक्टर-13 बनाए जाने को लेकर कई आपत्तियां आई थीं. लोगों का कहना था कि मनीमाजरा के साथ इतिहास जुड़ा है, ऐसे में मनीमाजरा का नाम न बदला जाए. इसके अलावा लोगों का तर्क था कि चंडीगढ़ को बनाने वाले ली कार्बूजिए ने सेक्टर-13 को नहीं रखा. अगर चंडीगढ़ में सेक्टर-13 बनाया जाता है तो यह ली कार्बूजिए का अपमान होगा. खेर लोगों की भावनाओं का ध्यान रखते हुए चंडीगढ़ प्रशासन ने नोटिफिकेशन जारी करते हुए सेक्टर 13 के साथ मनीमाजरा जोड़े रखा है.

चंडीगढ़ को सेक्टर-13 (मनीमाजरा) के अलावा सेक्टर-12 वेस्ट, 14 वेस्ट, 39 वेस्ट, 56 वेस्ट के साथ बिजनेस और इंडस्ट्रियल पार्क- एक, दो और तीन मिल गए हैं. यूटी सचिवालय में प्रशासक वीपी सिंह बदनौर की अध्यक्षता में हुई अधिकारियों की बैठक में इस प्रस्ताव को आखिरी मंजूरी दी गई है. कैपिटल ऑफ पंजाब (डेवलपमेंट एंड रेगुलेशंस) एक्ट 1952 की सब सेक्शन (2) ऑफ सेक्टर-1 के तहत पंजाब री ऑर्गेनाइजेशन ऑर्डर 1966 के तहत ये नोटिफिकेशन चंडीगढ़ के चीफ एडमिनिस्ट्रेटर की तरफ से जारी की गई.

Have something to say? Post your comment